क्रूस पर यीशु को सिरका देने का क्या महत्व है?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

पुराने नियम में परमेश्वर ने भजन संहिता की पुस्तक में भविष्यद्वाणी की थी कि यीशु को उसकी मृत्यु के समय सिरका दिया जाएगा: “मेरा हृदय नामधराई के कारण फट गया, और मैं बहुत उदास हूं। मैं ने किसी तरस खाने वाले की आशा तो की, परन्तु किसी को न पाया, और शान्ति देने वाले ढूंढ़ता तो रहा, परन्तु कोई न मिला। और लोगों ने मेरे खाने के लिये इन्द्रायन दिया, और मेरी प्यास बुझाने के लिये मुझे सिरका पिलाया” (भजन संहिता 69:20, 21)। इस भविष्यद्वाणी की मसीहाई पूर्ति दो बार हुई:

सिरके की पहली पेशकश

मसीह के सूली पर चढ़ने की शुरुआत में, रोमन सैनिकों ने “पित्त मिलाया हुआ दाखरस उसे पीने को दिया, परन्तु उस ने चखकर पीना न चाहा” (मत्ती 27:34)। और लूका आगे कहता है, “और उसे मुर्र मिला हुआ दाखरस देने लगे, परन्तु उस ने नहीं लिया” (मरकुस 15:23)।

शब्द “सिरके” के लिए शाब्दिक साक्ष्य ऑक्सोस के बजाय पढ़ने वाले ओइनोस, “दाखरस” को पसंद करते हैं। ऑक्सोस शब्द दाखमधु था जो खमीर द्वारा खट्टा हो गया था (गिनती 6:3)। रब्बी इस्दा (शताब्दी ईस्वी 309) के अनुसार, “जब किसी को फांसी दी जाती है, तो उसे उसकी इंद्रियों को सुन्न करने के लिए, लोबान के दाने वाली दाखमधु का एक प्याला दिया जाता है” (ताल्मुद सैनहेड्रिन 43 ए, सोनसीनो संस्करण, पृष्ठ 279)। खट्टा दाखमधु एक दर्द निवारक के रूप में काम करने का इरादा था। इस परंपरा को मृत्युदंड देने वाले व्यक्ति की पीड़ा को कम करने के लिए किया गया था।

लेकिन जब यीशु ने सिरका (खट्टा दाखमधु) चखा तो उसने मना कर दिया। उसे ऐसा कुछ भी प्राप्त नहीं होगा जो उसके मस्तिष्क को उलझन में डाल सके। उसका विश्वास परमेश्वर पर मजबूत पकड़ का होना चाहिए। यही उनकी एकमात्र शक्ति थी। उसकी इंद्रियों को वश में करने से शैतान को एक फायदा होगा।

सिरके का दूसरा प्रस्ताव

यीशु ने अपनी अंतिम सांस छोड़ने से ठीक पहले, उसे फिर से सिरका दिया गया था:

“46 तीसरे पहर के निकट यीशु ने बड़े शब्द से पुकारकर कहा, एली, एली, लमा शबक्तनी अर्थात हे मेरे परमेश्वर, हे मेरे परमेश्वर, तू ने मुझे क्यों छोड़ दिया?47 जो वहां खड़े थे, उन में से कितनों ने यह सुनकर कहा, वह तो एलिय्याह को पुकारता है। 48 उन में से एक तुरन्त दौड़ा, और स्पंज लेकर सिरके में डुबोया, और सरकण्डे पर रखकर उसे चुसाया। 49 औरों ने कहा, रह जाओ, देखें, एलिय्याह उसे बचाने आता है कि नहीं। 50 तब यीशु ने फिर बड़े शब्द से चिल्लाकर प्राण छोड़ दिए” (मत्ती 27: 34, 46-50)।

इसी घटना के बारे में प्रेरित यूहन्‍ना ने लिखा: “वहां एक सिरके से भरा हुआ बर्तन धरा था, सो उन्होंने सिरके में भिगोए हुए स्पंज को जूफे पर रखकर उसके मुंह से लगाया। जब यीशु ने वह सिरका लिया, तो कहा पूरा हुआ और सिर झुकाकर प्राण त्याग दिए” (यूहन्ना 19:29,30)। खट्टा दाखमधु या सिरके ने यीशु को प्रभावित नहीं किया क्योंकि मानवता की ओर से उनकी पीड़ा समाप्त हो गई थी।

यीशु ने वह कार्य पूरा कर लिया था जो उसके पिता ने उसे सौंपा था (यूहन्ना 4:34)। और मसीह की विजय ने मनुष्य के उद्धार का आश्वासन दिया। “मेरी दृष्टि में तू अनमोल और प्रतिष्ठित ठहरा है और मैं तुझ से प्रेम रखता हूं, इस कारण मैं तेरी सन्ती मनुष्यों को और तेरे प्राण के बदले में राज्य राज्य के लोगों को दे दूंगा। मत डर, क्योंकि मैं तेरे साथ हूं; मैं तेरे वंश को पूर्व से ले आऊंगा, और पच्छिम से भी इकट्ठा करूंगा” (यशायाह 43:4,5)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

यीशु ने कितनी बार पूरी रात प्रार्थना में बिताई?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)यीशु के सेवकाई में प्रार्थना की पूरी रातें शामिल थीं, जहां उन्होंने पिता को ज्ञान और शक्ति से भर देने की…

क्या यीशु मसीहियों के लिए प्रार्थना और मध्यस्थता करता है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)बाइबल शिक्षा देती है कि यीशु विश्वासियों की ओर से स्वर्ग में मध्यस्थता करता है, “इसी लिये जो उसके द्वारा परमेश्वर…