Answered by: BibleAsk Hindi

Date:

क्या हमारे घरों में या गिरिजाघरों के बाहर एक पवित्रस्थान हो सकता है, या क्या परमेश्वर का पवित्रस्थान केवल गिरिजाघर में है?

एक पवित्रस्थान

एक पवित्रस्थान को एक “पवित्र स्थान या निवास्थान” के रूप में परिभाषित किया गया है, जिसका अर्थ है कि वह पवित्र स्थान है जिसे परमेश्वर के लिए अलग रखा गया है। “क्योंकि मैं वह यहोवा हूं जो तुम्हें मिस्र देश से इसलिये निकाल ले आया हूं कि तुम्हारा परमेश्वर ठहरूं; इसलिये तुम पवित्र बनो, क्योंकि मैं पवित्र हूं॥” (लैव्यव्यवस्था 11:45; 1 पतरस:1:16)। परमेश्वर का सच्चा पवित्रस्थान स्वर्ग में है। “अब जो बातें हम कह रहे हैं, उन में से सब से बड़ी बात यह है, कि हमारा ऐसा महायाजक है, जो स्वर्ग पर महामहिमन के सिंहासन के दाहिने जा बैठा। और पवित्र स्थान और उस सच्चे तम्बू का सेवक हुआ, जिसे किसी मनुष्य ने नहीं, वरन प्रभु ने खड़ा किया था।” (इब्रानियों 8:1-2)।

परमेश्वर ने मूसा से स्वर्ग में एक के नमूने के अनुसार पृथ्वी पर एक पवित्रस्थान बनाने के लिए कहा। “जो कुछ मैं तुझे दिखाता हूं, अर्थात निवासस्थान और उसके सब सामान का नमूना, उसी के अनुसार तुम लोग उसे बनाना॥” (निर्गमन 25:9)। परमेश्वर के लिए पृथ्वी पर एक पवित्र स्थान होने का उद्देश्य यह था कि वह अपने लोगों के साथ रहे। “और वे मेरे लिये एक पवित्रस्थान बनाए, कि मैं उनके बीच निवास करूं।” (निर्गमन 25:8)। इस प्रकार, पृथ्वी पर कोई भी स्थान गिरिजाघर की तरह केवल एक पवित्रस्थान है यदि परमेश्वर वहाँ अपने लोगों के साथ है। संक्षेप में, परमेश्वर की उपस्थिति स्वर्ग में उसके पवित्रस्थान को पृथ्वी पर एक स्थान बनाती है।

आराधना का स्थान

जबकि गिरिजाघर जाना बाइबल-आधारित है, यह भवन ही नहीं है जो इसे एक पवित्रस्थान का अनुभव बनाता है। यह उनके ईमानदार अनुयायियों से परमेश्वर की आराधना है। बाइबल हमें उपासना के लिए एक साथ इकट्ठा होने के लिए कहती है। “24 और प्रेम, और भले कामों में उक्साने के लिये एक दूसरे की चिन्ता किया करें। 25 और एक दूसरे के साथ इकट्ठा होना ने छोड़ें, जैसे कि कितनों की रीति है, पर एक दूसरे को समझाते रहें; और ज्यों ज्यों उस दिन को निकट आते देखो, त्यों त्यों और भी अधिक यह किया करो॥” (इब्रानियों 10:24-25)।

हालांकि, यह ध्यान दिया जाता है कि भवन ही नहीं है जो इसे एक पवित्रस्थान बनाता है, बल्कि परमेश्वर के लोगों का एकत्रण है जो आत्मा और सच्चाई में उसकी उपासना करने की इच्छा रखते हैं। “23 परन्तु वह समय आता है, वरन अब भी है जिस में सच्चे भक्त पिता का भजन आत्मा और सच्चाई से करेंगे, क्योंकि पिता अपने लिये ऐसे ही भजन करने वालों को ढूंढ़ता है। 24 परमेश्वर आत्मा है, और अवश्य है कि उसके भजन करने वाले आत्मा और सच्चाई से भजन करें।” (यूहन्ना 4:23-24)। यहाँ तक कि परमेश्वर के द्वारा ठहराए गए पृथ्वी पर पवित्रस्थान भी नष्ट हो गए थे क्योंकि परमेश्वर के लोगों ने आज्ञाकारिता में अपने हृदय से उनकी आराधना करने से इनकार कर दिया था (मत्ती 23:37,24:1-2)।

इसलिए, जब तक परमेश्वर के लोग सच्ची उपासना में इकट्ठे होते हैं, तब तक हमें कहीं भी पवित्रस्थान का अनुभव हो सकता है। यह ऑनलाइन हो सकता है, घर में, गुफा में, पहाड़ की चोटी पर, कहीं भी, जब तक सच्चे उपासक आत्मा और सत्य में एकत्रित हो रहे हैं। जबकि गिरिजाघर की संरचना में भाग लेना अच्छा है, यह परमेश्वर की आराधना करने के लिए पूरी तरह से आवश्यक नहीं है। एक गिरजाघर आराधना में बहुत मददगार हो सकता है क्योंकि यह एक सुसंगत जगह है जहाँ लोग जा सकते हैं। हालाँकि, कुछ विशेष परिस्थितियों में हमें आदर्श से अलग इकट्ठा होकर उपासना करनी पड़ सकती है। यह इस तथ्य को दूर नहीं करता है कि परमेश्वर मौजूद है और वहां एक पवित्रस्थान का अनुभव हो सकता है।

परमेश्वर समझदार है (यशायाह 1:18) और उसका प्रेम का चरित्र केवल काम करने के एक तरीके तक ही सीमित नहीं है। परमेश्वर के कई सच्चे उपासकों के पास कलीसिया की इमारतें नहीं हैं, और बहुतों को उत्पीड़न या मृत्यु के डर से गुप्त या भूमिगत उपासना करनी पड़ती है। परमेश्वर उनकी सच्ची उपासना को स्वीकार करता है और अन्धकारमय स्थानों में भी उनके साथ एक पवित्रस्थान बनाता है (इब्रानियों 11:36-38)। हर स्थिति अनोखी होती है और इसे प्रार्थना में परमेश्वर के पास ले जाना चाहिए। जिस तरह से वे आराधना करते हैं उसके द्वारा हमें दूसरों का न्याय या उन्हें नीचा नहीं देखना चाहिए (मत्ती 7:1-2)।

हमारी परिस्थितियों को देखते हुए हमें और हमारे परिवार के लिए क्या सही है, यह तय करने के लिए हमें अच्छी आत्मिक समझ का उपयोग करना चाहिए।
12 क्योंकि जिस प्रकार देह तो एक है और उसके अंग बहुत से हैं, और उस एक देह के सब अंग, बहुत होने पर भी सब मिलकर एक ही देह हैं, उसी प्रकार मसीह भी है।
13 क्योंकि हम सब ने क्या यहूदी हो, क्या युनानी, क्या दास, क्या स्वतंत्र एक ही आत्मा के द्वारा एक देह होने के लिये बपतिस्मा लिया, और हम सब को एक ही आत्मा पिलाया गया।
14 इसलिये कि देह में एक ही अंग नहीं, परन्तु बहुत से हैं।” (1 कुरिन्थियों 2:12-14)।

कलीसिया न जाने का एकमात्र कारण यह है कि यदि परमेश्वर किसी को दोषी ठहरा रहा है कि उन्हें जाना चाहिए और वे उसकी आत्मा की आवाज को मानने से इनकार करते हैं। “इसलिये जो कोई भलाई करना जानता है और नहीं करता, उसके लिये यह पाप है॥” (याकूब 4:17)।

गिरजाघर से बचा रहना कब ठीक है

यदि कोई गिरिजाघर सभा अपवित्र प्रकार की आराधना का अभ्यास कर रही है या ऐसी बातें सिखा रही है जो बाइबल-आधारित नहीं हैं, तो यह पवित्रस्थान नहीं है और इससे बचने की आवश्यकता हो सकती है (यशायाह 8:20, यूहन्ना 16:2-3)। हमें एक ऐसी जगह की तलाश करनी चाहिए जहां हम ईश्वर को जान सकें और मसीही के रूप में विकसित हो सकें।
17 और विश्वास के द्वारा मसीह तुम्हारे हृदय में बसे कि तुम प्रेम में जड़ पकड़ कर और नेव डाल कर।
18 सब पवित्र लोगों के साथ भली भांति समझने की शक्ति पाओ; कि उसकी चौड़ाई, और लम्बाई, और ऊंचाई, और गहराई कितनी है।
19 और मसीह के उस प्रेम को जान सको जो ज्ञान से परे है, कि तुम परमेश्वर की सारी भरपूरी तक परिपूर्ण हो जाओ॥” (इफिसियों 3:17-19)।

“और यदि यहोवा की सेवा करनी तुम्हें बुरी लगे, तो आज चुन लो कि तुम किस की सेवा करोगे, चाहे उन देवताओं की जिनकी सेवा तुम्हारे पुरखा महानद के उस पार करते थे, और चाहे एमोरियों के देवताओं की सेवा करो जिनके देश में तुम रहते हो; परन्तु मैं तो अपने घराने समेत यहोवा की सेवा नित करूंगा।” (यहोशू 24:15)।

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More Answers: