क्या हमारी पैतृक नैतिकता साबित नहीं करती है कि ईश्वर का अस्तित्व नहीं है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

प्रश्न: क्या पैतृक नैतिकता आत्मीयता यह साबित नहीं करती है कि ईश्वर का अस्तित्व नहीं है?

उत्तर: कुछ लोग दावा करते हैं कि नैतिकता व्यक्ति-निष्ठ या सापेक्ष है। लेकिन जब वे समाज में नैतिकता की तलाश करते हैं या मानवीय व्यवहार का न्याय करते हैं, तो वे वास्तव में नैतिक यथार्थवादी बन जाते हैं। उदाहरण के लिए, अधिकांश नास्तिक मसीही की तरह आश्वस्त हैं कि एडॉल्फ हिटलर एक दुष्ट व्यक्ति था। अगर नैतिकता सापेक्ष है तो हम हिटलर को कैसे आंक सकते थे? हालांकि कई लोगों में नैतिकता की अलग-अलग प्रथाएं हैं, फिर भी वे एक सामान्य नैतिकता साझा करते हैं। उदाहरण के लिए, हत्या (खून न करना) और चोरी करना हमेशा गलत होता है। यह तथ्य है कि सभी सरकारें और समाज विश्वास करते हैं।

सापेक्षवादियों का दावा है कि नैतिकता असहनशील है, जबकि सापेक्षतावाद सभी विचारों को सहन करता है। लेकिन क्या कोई बुराई को बर्दाश्त कर सकता है? क्या समाज एक हत्यारे के कार्यों को बर्दाश्त कर सकता है? दोनों सापेक्षवादियों और निरंकुशों का जवाब नहीं होगा। इसके अलावा, क्या सापेक्षतावादी वास्तव में निरपेक्षतावादी विचारों को सहन करते हैं? उदाहरण के लिए: क्या समलैंगिकता परिवार के मूल्यों को बढ़ावा देने वाले निरंकुशों को सहन करती है?

नैतिकता को अस्वीकार करने का असली कारण सृष्टिकर्ता के साथ उनका टूटा हुआ संबंध है। पाप ने लोगों को परमेश्वर से अलग कर दिया। परमेश्वर ने मनुष्यों को एक शून्य स्थान के साथ बनाया जिसे केवल उसकी उपस्थिति भर सकती है। हम एक पैतृक प्रवृत्ति वाले जानवरों के रूप में नहीं बनाए गए थे जो हमारे व्यवहार को नियंत्रित करते हैं। इसके बजाय, हम अपने सृष्टिकर्ता के साथ एक प्यार भरे रिश्ते में काम करने के लिए बने थे।

बाइबल दिखाती है कि सच्चाई के प्रकाशन पर आधारित सही और गलत क्या है। यीशु सच्चाई है “मैं सत्य हूँ …” (यूहन्ना 4:6)। यह नैतिकता का सबसे बड़ा प्रकाशन है जो हमारे पास हो सकता है। यीशु हमें यह दिखाने के लिए आया कि मनुष्य के लिए सृष्टिकर्ता की इच्छा क्या है। और वह है नैतिक (प्रेममय और न्यायपूर्ण) होना।

जैसे-जैसे मनुष्य विश्वास के साथ परमेश्वर के साथ दैनिक रूप से चलते हैं, परमेश्वर चमत्कारिक रूप से उनके अनैतिक दिलों को नैतिक दिलों में बदल देते हैं जो सृष्टिकर्ता के स्वरूप और समानता को दर्शाते हैं। यह ईश्वरीय अलौकिक परिवर्तन परमेश्वर के अस्तित्व के लिए एक महान साक्ष्य है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: