क्या स्वर्ग में लोगों की उम्र होती है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या स्वर्ग में लोगों की उम्र होती है?

बाइबल हमें स्वर्ग में लोगों की उम्र के बारे में कुछ भी नहीं बताती है या अगर हम बूढ़े भी होंगे। वैज्ञानिक रूप से वयस्क अपने शारीरिक शिखर पर 20 के दशक के अंत से 30 की शुरुआत तक पहुंचते हैं। इसलिए, कुछ लोगों का सुझाव है कि बचाए गए 30 वर्ष की आयु के आसपास होंगे क्योंकि यही वह युग है जब यीशु ने पृथ्वी पर अपनी सेवकाई शुरू की थी। दूसरों का कहना है कि उम्र 33 वर्ष होगी क्योंकि यह यीशु के पुनरुत्थान का युग है। यह स्पष्ट है कि पृथ्वी पर मरने वाले बच्चे स्वर्ग में वयस्क होंगे और पुराने संतों को युवा शरीर दिया जाएगा। तो, अंततः हर कोई एक ही उम्र तक पहुंच जाएगा।

प्रेरित यूहन्ना हमें बताता है, “हे प्रियों, अभी हम परमेश्वर की सन्तान हैं, और अब तक यह प्रगट नहीं हुआ, कि हम क्या कुछ होंगे! इतना जानते हैं, कि जब वह प्रगट होगा तो हम भी उसके समान होंगे, क्योंकि उस को वैसा ही देखेंगे जैसा वह है” (1 यूहन्ना 3:2)। यह पतित मनुष्य के लिए परमेश्वर की योजना की पूर्ति को संदर्भित करता है—ईश्वरीय स्वरूप की पुनःस्थापना। मनुष्य को परमेश्वर के स्वरूप में बनाया गया था (उत्प० 1:26), परन्तु पाप ने उस समानता को नष्ट कर दिया। यह परमेश्वर की योजना है कि वह मनुष्य को पाप और हर परीक्षा पर विजय देकर उस समानता को पुनर्स्थापित करे (रोमियों 8:29; कुलु० 3:10)।

यह पुनःस्थापना दूसरे आगमन पर होती है। पौलुस ने लिखा, “देख, मैं तुम से भेद की बात कहता हूं: कि हम सब तो नहीं सोएंगे, परन्तु सब बदल जाएंगे। और यह क्षण भर में, पलक मारते ही पिछली तुरही फूंकते ही होगा: क्योंकि तुरही फूंकी जाएगी और मुर्दे अविनाशी दशा में उठाए जांएगे, और हम बदल जाएंगे। क्योंकि अवश्य है, कि यह नाशमान देह अविनाश को पहिन ले, और यह मरनहार देह अमरता को पहिन ले” (1 कुरि० 15:51-53; फिलि० 3:20, 21)।

और प्रेरित ने संतों की भविष्य की महिमामय स्थिति को यह कहते हुए सारांशित किया, “परन्तु जैसा लिखा है, कि जो आंख ने नहीं देखी, और कान ने नहीं सुना, और जो बातें मनुष्य के चित्त में नहीं चढ़ीं वे ही हैं, जो परमेश्वर ने अपने प्रेम रखने वालों के लिये तैयार की हैं” (1 कुरिन्थियों 2:9)। परमेश्वर ने छुटकारा पाने वालों के लिए जो तैयार किया है वह किसी भी चीज़ से कहीं अधिक है जिसे लोग अब मसीह के सुसमाचार के अलावा जान सकते हैं (यशा. 64:4)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: