क्या स्वर्ग एक वास्तविक स्थान है?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

स्वर्ग वास्तव में एक वास्तविक स्थान है। बाइबल सिखाती है कि परमेश्वर अपने बच्चों के लिए एक महान शहर का निर्माण कर रहा है। और यह शहर उतना ही वास्तविक और शाब्दिक है जितना आपने कभी जाना है। यह महान शहर जो तैयार किया जा रहा है, वह ईश्वर के निवास स्थान में है। “पर वे एक उत्तम अर्थात स्वर्गीय देश के अभिलाषी हैं, इसी लिये परमेश्वर उन का परमेश्वर कहलाने में उन से नहीं लजाता, सो उस ने उन के लिये एक नगर तैयार किया है” (इब्रानियों 11:16)।

इसकी विस्मयकारी सुंदरता में, शहर की तुलना दुल्हन से की जाती है “फिर मैं ने पवित्र नगर नये यरूशलेम को स्वर्ग पर से परमेश्वर के पास से उतरते देखा, और वह उस दुल्हिन के समान थी, जो अपने पति के लिये सिंगार किए हो। परमेश्वर की महिमा उस में थी, ओर उस की ज्योति बहुत ही बहुमूल्य पत्थर, अर्थात बिल्लौर के समान यशब की नाईं स्वच्छ थी” (प्रकाशितवाक्य 21: 2,11)। यह शहर अपने सभी चमकदार सुंदरता के साथ, परमेश्वर की महिमा के साथ रोशन होगा।

यह तेजस्वी पवित्र शहर इस नई बनी धरती पर आकर धरती की राजधानी बन जाएगा, ” फिर मैं ने पवित्र नगर नये यरूशलेम को स्वर्ग पर से परमेश्वर के पास से उतरते देखा” (प्रकाशितवाक्य 21: 2)। सभी धर्मीयों के पास इस शहर में एक घर होगा “धन्य हैं वे, जो नम्र हैं, क्योंकि वे पृथ्वी के अधिकारी होंगे” (मत्ती 5: 5)।

परमेश्वर अग्नि से सभी पाप और पापियों को नष्ट कर देगा। तब, परमेश्वर एक परिपूर्ण नई पृथ्वी बनाएगा। यहां धर्मी अनंत काल तक आनंद, शांति और पवित्रता में रहेंगे। और परमेश्वर वादा करता है कि पाप फिर से नहीं उठेगा (नहुम 1: 9)।

बाइबल स्पष्ट है कि वास्तविक लोग स्वर्ग में वास्तविक काम करेंगे और वे अपने श्रम को आनन्द से करेंगे “वे घर बनाकर उन में बसेंगे; वे दाख की बारियां लगाकर उनका फल खाएंगे। ऐसा नहीं होगा कि वे बनाएं और दूसरा बसे; वा वे लगाएं, और दूसरा खाए; क्योंकि मेरी प्रजा की आयु वृक्षों की सी होगी, और मेरे चुने हुए अपने कामों का पूरा लाभ उठाएंगे” (यशायाह 65:21, 22)। धर्मी अपने घरों का निर्माण नई पृथ्वी में करेंगे (शहर के अलावा मसीह द्वारा निर्मित घर- यूहन्ना 14: 1-3)।

कोई भी उन अद्भुत चीज़ों को पूरी तरह से समझ नहीं सकता है जो परमेश्वर ने अपने बच्चों के लिए तैयार किए हैं “परन्तु जैसा लिखा है, कि जो आंख ने नहीं देखी, और कान ने नहीं सुना, और जो बातें मनुष्य के चित्त में नहीं चढ़ीं वे ही हैं, जो परमेश्वर ने अपने प्रेम रखने वालों के लिये तैयार की हैं” (1 कुरिन्थियों 2: 9)। उस स्वर्गीय राज्य पर एक नज़र डालने से पृथ्वी की दर्दनाक क्लेश दूर हो जाएंगे।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

मसीह के पुनरुत्थान ने इस धरती को कैसे प्रभावित किया?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)जब यीशु मर गया और उसे कब्र में रखा गया, तो शैतान आनन्दित हो गया। लेकिन मसीह के विजयी पुनरुत्थान के…

यहूदी मंदिर प्रतीकात्मकता के साथ प्रतिष्ठापित था। क्या आप इसके प्रतीकों को प्रकट कर सकते हैं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)यहूदी मंदिर के प्रतीक हमारी ओर से स्वर्ग के पवित्रस्थान में “और पवित्र स्थान और उस सच्चे तम्बू का सेवक हुआ,…