क्या सांता और शैतान के बीच कोई संबंध है?

Total
2
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

अंग्रेजी भाषा मे यदि सांता (SANTA) शब्द जब इसे पुन:व्यवस्थित किया जाए, तो यह शैतान (S-A-T-A-N) होता है। सांता एक लैटिन शब्द है जिसका अर्थ है “संत” या “पवित्र।” शैतान, दूसरी ओर, यह एक इब्रानी शब्द है जिसका अर्थ है “विरोधी” या “दोष लगाने वाला।”

सांता की उत्पत्ति

सांता एक मूर्तिपूजक मिथक है जिसमें कुछ घिसी-पिटी पुरानी ईसाई परंपराएं हैं। सांता क्लॉज़ एक काल्पनिक व्यक्ति हैं, उसकी रचना एक ईसाई व्यक्ति पर आधारित है जिसका नाम मायरा का संत निकोलस था, जो चौथी शताब्दी में रहता था। निकोलस का जन्म ईसाई माता-पिता से हुआ था, जिनकी मृत्यु होने पर उसे विरासत छोड़ी थी, जिसे उसने गरीबों को वितरित किया। वह कम उम्र में पादरी बन गया। निकोलस का निधन 6 दिसंबर को किसी समय 340 या 350 ईस्वी के आसपास हुआ था, और उसकी मृत्यु का दिन एक वार्षिक पर्व बन गया।

सांता एक ऐसा चरित्र है, जिसे सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापी और सर्वज्ञानी होने की शक्तियाँ दी जाती हैं, जो कि ईश्वर (यीशु मसीह) के प्रति निन्दा है, वह ही केवल ऐसे ईश्वरीय गुणों के अधिकारी हैं।

कुछ माता-पिता अपने बच्चों को सांता की कहानी से परिचित कराते हैं, यह जानते हुए कि यह सच नहीं है, बल्कि परंपरा के लिए है। मसीही के रूप में हम झूठ नहीं बोलने के लिए प्रेरित होते हैं। बाइबल कहती है कि एक वफादार गवाह झूठ नहीं बोलेगा (नीतिवचन 14: 5), प्रेरित पौलुस ने कुलुस्सियों को लिखा, “एक दूसरे से झूठ मत बोलो” (कुलुस्सियों 3: 9)। बाइबल के विद्यार्थी जानते हैं कि शैतान, प्रभु यीशु मसीह का सबसे बड़ा प्रतिरूप है, इसलिए यह केवल शैतान के उसके कार्य को उस सांता चरित्र को बनाने के लिए और यीशु को प्रतिस्थापित करने के लिए है।

क्रिसमस

मसीह के जन्म का जश्न मनाने का ध्यान उस व्यक्ति पर होना चाहिए जिसने बलिदान दिया और अपना जीवन हमें बचाने के लिए दिया। “क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, कि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए” (यूहन्ना 3:16)। लालच, और भौतिकवाद जो कि सांता की कहानी के साथ जुड़ा हुआ है, ने मसीह के जन्म के अर्थ को ढाँप दिया है।

इसलिए, मसीहियों को झूठे देवताओं से छुटकारा पाने और दुनिया से अलग होने और धोखे में बच्चों की मदद करने की थोड़ी सी संभावना से बचना चाहिए। बाइबल कहती है, “इसलिये प्रभु कहता है, कि उन के बीच में से निकलो और अलग रहो; और अशुद्ध वस्तु को मत छूओ, तो मैं तुम्हें ग्रहण करूंगा” (2 कुरिन्थियों 6:17)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

बाइबिल में परोपकार का क्या अर्थ है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)बाइबिल में परोपकार का क्या अर्थ है? बाइबिल में, परोपकार (यूनानी अगापे) का अर्थ है प्रेम। यह शब्द “प्रेम अध्याय” (1…
childs hand
बिना श्रेणी

क्या किसी बच्चे का मसीहा नाम रखना गलत है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)इस सवाल को एक कानूनी हिरासत मामले में संबोधित किया गया था जिसे राष्ट्रीय ध्यान मिला था। 8 अगस्त, 2013 को,…