क्या शाऊल से बात करने के लिए एन्दोर की भूतसिद्धि करने वाली ने शमूएल की आत्मा को लाया?

Author: BibleAsk Hindi


बाइबल स्पष्ट है कि राजा शाऊल को जो दिखाई दिया, वह वास्तव में शमूएल की मृत्यु से जीवित हुई आत्मा नहीं थी। इस कहानी से पहले, हमें पता चलता है कि “और जब शाऊल ने यहोवा से पूछा, तब यहोवा ने न तो स्वप्न के द्वारा उस उत्तर दिया, और न ऊरीम के द्वारा, और न भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा” (1 शमूएल 28:6)। शाऊल की आज्ञा उल्लंघन और दुष्ट आचरण के कारण, प्रभु ने उसके नबी सहित किसी भी माध्यम से उसके साथ संवाद करने से इनकार कर दिया। यदि शमूएल जीवित होता, तो भी उसके पास राजा शाऊल से बात करने के लिए कुछ नहीं होता। इसलिए, निराशा में, शाऊल ने सलाह लेने के लिए भूतसिद्धि करने वाली की तलाश करने का फैसला किया।

इसके अलावा, वह अस्तित्व शमूएल की आत्मा नहीं थी क्योंकि बाइबल सिखाती है कि मरे हुए लोग पुनरुत्थान दिन तक बेहोशी की हालत में हैं और उन्हें किसी भी चीज़ के बारे में पता नहीं है “क्योंकि जीवते तो इतना जानते हैं कि वे मरेंगे, परन्तु मरे हुए कुछ भी नहीं जानते, और न उन को कुछ और बदला मिल सकता है, क्योंकि उनका स्मरण मिट गया है… जो काम तुझे मिले उसे अपनी शक्ति भर करना, क्योंकि अधोलोक में जहां तू जाने वाला है, न काम न युक्ति न ज्ञान और न बुद्धि है” (सभोपदेशक 9:5,10)।

बाइबल कहती है, एक व्यक्ति: मिटटी में मिल जाता है (भजन संहिता 104: 29), कुछ भी नहीं जानता (सभोपदेशक 9: 5), कोई मानसिक शक्ति नहीं रखता है (भजन संहिता 146: 4), पृत्वी पर करने के लिए कुछ भी नहीं है (सभोपदेशक 9:6), जीवित नहीं रहता है (2 राजा 20:1), कब्र में प्रतीक्षा करता है (अय्यूब 17:13), और निरंतर नहीं रहता है (अय्यूब 14:1,2)।  जब हम मर जाते हैं, तो हम एक ऐसी अवस्था में प्रवेश करते हैं, जिससे बाइबल “नींद” की तुलना करती है(1 थिस्सलुनीकियों 4: 13-14), पुनरुत्थान तक बेहोश रहते है।

एन्दोर की भूतसिद्धि करने वाली द्वारा लाया गया “शमूएल” एक शैतानी आत्मा थी जो परमेश्वर के नबी के रूप में दिखाई दे रही थी “और यह कुछ अचम्भे की बात नहीं क्योंकि शैतान आप भी ज्योतिमर्य स्वर्गदूत का रूप धारण करता है। सो यदि उसके सेवक भी धर्म के सेवकों का सा रूप धरें, तो कुछ बड़ी बात नहीं परन्तु उन का अन्त उन के कामों के अनुसार होगा” (2 कुरिन्थियों 11:14-15)।

शमूएल के रूप में प्रस्तुत होने वाली दुष्टातमा शाऊल को उस स्तिथि पर ले जाने में सक्षम थी जहां शाऊल अब खड़े होने में सक्षम नहीं था (1 शमूएल 28:20)। उस दुष्टातमा ने पूरी तरह से निराशा का संदेश दिया जिसके कारण अगले दिन शाऊल ने आत्महत्या कर ली। प्रभु ने आज्ञा दी कि ओझाई, भूतसिद्धि और अन्य “परिचित आत्माओं” (जिन्होंने मृतकों से संपर्क करने में सक्षम होने का दावा किया)के साथ लोगों को दुष्टातमा से बचाने वालों को मौत के घाट उतार दिया जाना चाहिए (लैव्यव्यवस्था 20:27)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment