क्या विश्वास विचार करने की आवश्यकता को रद्द करता है?

Total
0
Shares

This answer is also available in: English

वास्तविक विश्वास तर्क और पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में प्रयोग किए जाने वाला अंध विश्वास नहीं है। यद्यपि विश्वास उन चीजों के बारे में हमारा विश्वास है जो हम नहीं देख सकते हैं (इब्रानियों 11: 1), यह एक विश्वास है जिसे परमेश्वर के वचन के आधार पर तथ्यात्मक ज्ञान पर स्थापित किया जाना चाहिए। विश्वास, “सो विश्वास सुनने से, और सुनना मसीह के वचन से होता है” (रोमियों 10:17)।

शमूएल नबी ने इस्त्रााएलियों से कहा, “इसलिये अब तुम खड़े रहो, और मैं यहोवा के साम्हने उसके सब धर्म के कामों के विषय में, जिन्हें उसने तुम्हारे साथ और तुम्हारे पूर्वजों के साथ किया है, तुम्हारे साथ विचार करूंगा” (1 शमूएल 12: 7)। इसी तरह, यशायाह ने लिखा: “यहोवा कहता है, आओ, हम आपस में वादविवाद करें: तुम्हारे पाप चाहे लाल रंग के हों, तौभी वे हिम की नाईं उजले हो जाएंगे; और चाहे अर्गवानी रंग के हों, तौभी वे ऊन के समान श्वेत हो जाएंगे” (यशायाह 1:18)। ऐसा ही एलिय्याह और बाल के नबियों की कहानी में देखा गया है। जब लोगों ने बाल से प्रार्थना की, तो उन्होंने अपने मन के बदले अपनी भावनाओं का इस्तेमाल किया और “तब उन्होंने उस बछड़े को जो उन्हें दिया गया था ले कर तैयार किया, और भोर से ले कर दोपहर तक वह यह कह कर बाल से प्रार्थना करते रहे, कि हे बाल हमारी सुन, हे बाल हमारी सुन! परन्तु न कोई शब्द और न कोई उत्तर देने वाला हुआ। तब वे अपनी बनाई हुई वेदी पर उछलने कूदने लगे। और उन्होंने बड़े शब्द से पुकार पुकार के अपनी रीति के अनुसार छुरियों और बछिर्यों से अपने अपने को यहां तक घायल किया कि लोहू लुहान हो गए” (1 राजा 18:26,28)।  दूसरी ओर, एलिय्याह को एक तर्कसंगत विश्वास था, जिसे परमेश्वर के वचन (1 राजा 18:36) पर बनाया गया था। एलिय्याह के तर्कसंगत विश्वास के कारण ईश्वर ने सभी इस्राएल की दृष्टि में अपनी अलौकिक शक्तियों का जवाब दिया और प्रकट किया।

यीशु ने घोषणा की कि वह परमेश्वर का पुत्र था लेकिन उसने लोगों से आँख बंद करके यह स्वीकार करने की अपेक्षा नहीं की थी। उन्होंने अपनी ईश्वरीयता का प्रमाण दिया। इनमें उनके पिता (यूहन्ना 5:36; यूहन्ना 1: 32-33; मत्ती 3: 16-17) की गवाही, मसीहाई भविष्यद्वाणियों (यूहन्ना 5:39), और चमत्कारी कार्यों (यूहन्ना 5:36) को पूरा किया गया। प्रकृति, बीमारी, दुष्टातमाओं को निकालना और मृत्यु पर यीशु की शक्ति ने साबित कर दिया कि वह स्वर्ग से आया है। उन्होंने कहा, “यदि मैं अपने पिता के काम नहीं करता, तो मेरी प्रतीति न करो। परन्तु यदि मैं करता हूं, तो चाहे मेरी प्रतीति न भी करो, परन्तु उन कामों की तो प्रतीति करो, ताकि तुम जानो, और समझो, कि पिता मुझ में है, और मैं पिता में हूं” (यूहन्ना 10: 37-38)। यह मानने के कई कारण थे कि वह मसीहा था।

शायद यीशु ने अपनी ईश्वरीयता के लिए जो सबसे बड़ा साक्ष्य प्रस्तुत किया वह उसका अलौकिक पुनरुत्थान था। यीशु ने “मृतकों में से जी उठने” के द्वारा परमेश्वर का पुत्र घोषित किया गया था” (रोमियों 1: 4)। यीशु ने “स्वयं को कई अचूक प्रमाणों द्वारा पीड़ित होने के बाद जीवित रखा” (प्रेरितों 1: 3)। और वह 500 से अधिक शिष्यों को दिखाई दिया, जिनमें से अधिकांश अभी भी रह रहे थे और उनसे कई वर्षों बाद पूछताछ की जा सकती थी क्योंकि पौलुस ने 1 कुरिन्थियों 15: 5-8 में पुष्टि की थी। सुसमाचार के लेखक मत्ती, मरकुस, लुका और यूहन्ना ने यीशु मसीह के मसीहा होने के सबूतों के साथ अपने सुसमाचार भर रखे थे, “यीशु ने और भी बहुत चिन्ह चेलों के साम्हने दिखाए, जो इस पुस्तक में लिखे नहीं गए। परन्तु ये इसलिये लिखे गए हैं, कि तुम विश्वास करो, कि यीशु ही परमेश्वर का पुत्र मसीह है: और विश्वास करके उसके नाम से जीवन पाओ” (यूहन्ना 20: 30-31)।

हमारे विश्वास के कई कारण हैं।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This answer is also available in: English

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

मानवता का यहाँ पृथ्वी पर उद्देश्य क्या है?

This answer is also available in: Englishमानवता का उद्देश्य, जैसा कि ईश्वर ने बनाया है, मेलजोल के लिए है: “मैं तुझ से सदा प्रेम रखता आया हूँ; इस कारण मैं…
View Answer

आदम और हव्वा कैसे परिपूर्ण हो सकते हैं और फिर भी पाप कर सकते हैं?

This answer is also available in: Englishजवाब में चुनने की स्वतंत्रता निहित है जोकि परमेश्वर ने आदम और हव्वा को दी थी जब उसने उन्हें बनाया था। परमेश्वर ने उन्हें…
View Answer