Answered by: BibleAsk Hindi

Date:

क्या लैव्यव्यवस्था 4:18 बलिदान की वेदी या धूप की वेदी का उल्लेख करता है?

क्या लैव्यव्यवस्था 4:18 बलिदान की वेदी या धूप की वेदी का उल्लेख करता है?

“और उसी लोहू में से वेदी के सींगों पर जो यहोवा के आगे मिलापवाले तम्बू में है लगाए; और बचा हुआ सब लोहू होमबलि की वेदी के पाए पर जो मिलापवाले तम्बू के द्वार पर है उंडेल दे।” लैव्यव्यवस्था 4:18

दो अलग-अलग अवसर थे जब जानवरों के खून को बलिदान की वेदी पर छिड़का गया था और दूसरा जब धूप की वेदी पर छिड़का गया था।

लोगों के पापों के लिए किए जाने वाले नियमित दैनिक बलिदानों में, लहू को बाहरी आंगन में होमबलि की वेदी पर छिड़का जाता था या उसके सींगों पर रखा जाता था।

परन्तु जब अभिषिक्त याजक ने स्वयं पाप किया, तब उसका लोहू पवित्रस्थान में ही ले जाया गया। यह निस्संदेह उसके पाप के कारण था जिसे परमेश्वर की दृष्टि में किसी और की तुलना में अधिक गंभीर के रूप में देखा गया था।

जब याजक ने पाप किया, तब उस ने अपनी उँगली में से कुछ लोहू में डुबोई और उसे सात बार परदे के आगे, “यहोवा के साम्हने” छिड़का। साथ ही, उसने कुछ लोहू धूप की वेदी के सींगों पर लगाया, जिसे “यहोवा के साम्हने” भी कहा जाता है (पद 7)। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि याजक ने परदे पर खून नहीं छिड़का, बल्कि उसके सामने। उन्होंने छिड़काव में केवल एक उंगली का इस्तेमाल किया।

यह छिड़काव तभी किया जाता था जब अभिषिक्‍त याजक या पूरी मंडली ने सामूहिक रूप से पाप किया हो। यह ज्ञात नहीं है कि महायाजक ने कितनी बार पाप किया और एक बैल को भेंट के रूप में लाया और न ही कितनी बार मण्डली ने पाप किया। शायद यह है कि ये दोनों मौके अक्सर नहीं आते थे।

याजक ने लहू को परदे के आगे छिड़कने के अतिरिक्त, लोहू में से कुछ को धूप की वेदी के सींगों पर भी लगाया। ऐसा करते हुए उसने बारी-बारी से प्रत्येक सींग को छुआ, और अपनी उंगली से लहू का निशान बनाया, और इस प्रकार इस तथ्य को दर्ज किया कि पाप किया गया था और यह कि एक भेंट लाया गया था।

वह लहू जो उसने सींगों पर रखा वह पाप करने वाले पशु का था। यह आवश्यक हो गया कि “वर्ष में एक बार उसके सींगों पर प्रायश्चित किया जाना चाहिए” (निर्ग. 30:10)। लोहू का बचा हुआ भाग होमबलि की वेदी के तल पर उण्डेला गया।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

More Answers: