क्या यीशु हिंदू गुरुओं से चमत्कार करना सीखने के लिए भारत गए थे?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

यीशु हिन्दू गुरुओं से चमत्कार सीखने के लिए भारत नहीं गए क्योंकि:

  1. यीशु ने कभी भी पंथवाद (सभी परमेश्वर है) पर विश्वास नहीं किया जो कि हिंदू विश्वास (मरकुस 12:29) में पढ़ाया जाता है।
  2. यीशु ने उन दस आज्ञाओं को बरकरार रखा, जो एक ईश्वर की उपासना सिखाती हैं और प्रतिमाओं और मूर्तियों को बनाने से मना करती हैं जैसा कि हिंदू धर्म में होता है (निर्गमन 20: 2-3; 34:14; व्यवस्थाविवरण 6:14; 13:10; 2 राजा 17: 35)।
  3. यीशु ने सर्जनहार, न्याय दिन, उद्धार की योजना, स्वर्ग, नरक, कोई देह-धारण नहीं, के पुराने नियम की मान्यताओं को पढ़ाया … जो स्पष्ट रूप से हिंदू मान्यताओं के विपरीत हैं (लुका 24:27)।
  4. यीशु ने हिंदू वेदों का संदर्भ नहीं दिया, लेकिन उन्होंने केवल पुराने नियम की यहूदी पुस्तकों (मरकुस 12:29) से पढ़ाया।
  5. यीशु को एक स्थानीय यहूदी निवासी के रूप में पहचाना गया था “और सब ने उसे सराहा, और जो अनुग्रह की बातें उसके मुंह से निकलती थीं, उन से अचम्भा किया; और कहने लगे; क्या यह यूसुफ का पुत्र नहीं?” (लूका 4:22)
  6. यीशु को भारत नहीं, नासरत में पाला गया था, और उसकी रीति आराधनालय में जाना था, न कि हिंदू मंदिरों में “और वह नासरत में आया; जहां पाला पोसा गया था; और अपनी रीति के अनुसार सब्त के दिन आराधनालय में जा कर पढ़ने के लिये खड़ा हुआ” (लूका 4:16)।

यीशु ने कभी हिंदू विश्वास को नहीं सिखाया। सर्वशक्तिमान ईश्वर ने यीशु को चमत्कार करने की शक्ति दी “हे इस्त्राएलियों, ये बातें सुनो: कि यीशु नासरी एक मनुष्य था जिस का परमेश्वर की ओर से होने का प्रमाण उन सामर्थ के कामों और आश्चर्य के कामों और चिन्हों से प्रगट है, जो परमेश्वर ने तुम्हारे बीच उसके द्वारा कर दिखलाए जिसे तुम आप ही जानते हो” (प्रेरितों के काम 2:22)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

More answers: