क्या यीशु वास्तव में परमेश्वर है?

Total
0
Shares

This answer is also available in: English

यीशु ईश्वर के देह-धारण हैं। क्योंकि उन्होंने बार-बार कहा, “मैं हूं।” वाक्यांश “मैं हूँ” ईश्वर के लिए एक शीर्षक है। जब परमेश्वर ने मूसा को इस्राएल के राष्ट्र को मिस्र से बाहर लाने में नेतृत्व करने के लिए बुलाया, तो उसने मूसा से राष्ट्र को यह बताने के लिए कहा कि “मैं हूँ” ने मुझे (निर्गमन 3: 13-15) भेजा है।

उसकी सेवकाई के दौरान, यीशु ने पिता परमेश्वर के साथ समानता का दावा किया जब उसने उनसे कहा, “इस पर यीशु ने उन से कहा, कि मेरा पिता अब तक काम करता है, और मैं भी काम करता हूं। इस कारण यहूदी और भी अधिक उसके मार डालने का प्रयत्न करने लगे, कि वह न केवल सब्त के दिन की विधि को तोड़ता, परन्तु परमेश्वर को अपना पिता कह कर, अपने आप को परमेश्वर के तुल्य ठहराता था” (यूहन्ना 5: 17-18)।

यीशु ने यहूदियों से कहा “तब यीशु ने मन्दिर में उपदेश देते हुए पुकार के कहा, तुम मुझे जानते हो और यह भी जानते हो कि मैं कहां का हूं: मैं तो आप से नहीं आया परन्तु मेरा भेजनेवाला सच्चा है, उस को तुम नहीं जानते। मैं उसे जानता हूं; क्योंकि मैं उस की ओर से हूं और उसी ने मुझे भेजा है” (यूहन्ना 7: 28-29)। और फिर उसने कहा कि वह पिता के साथ एक है: “उन्होंने उस से कहा, तेरा पिता कहां है? यीशु ने उत्तर दिया, कि न तुम मुझे जानते हो, न मेरे पिता को, यदि मुझे जानते, तो मेरे पिता को भी जानते” (यूहन्ना 8:19) ”यीशु ने उन से कहा; मैं तुम से सच सच कहता हूं; कि पहिले इसके कि इब्राहीम उत्पन्न हुआ मैं हूं” (यूहन्ना 8:58)। “मैं और पिता एक हैं” (यूहन्ना 10:30)।

और यहूदियों ने समझा कि यीशु ईश्वरत्व का दावा कर रहे थे और उन्होंने ईशनिंदा के लिए उन्हें मारने की कोशिश की। इसलिए, यीशु ने उनसे कहा, “तो जिसे पिता ने पवित्र ठहराकर जगत में भेजा है, तुम उस से कहते हो कि तू निन्दा करता है, इसलिये कि मैं ने कहा, मैं परमेश्वर का पुत्र हूं। यदि मैं अपने पिता के काम नहीं करता, तो मेरी प्रतीति न करो। परन्तु यदि मैं करता हूं, तो चाहे मेरी प्रतीति न भी करो, परन्तु उन कामों की तो प्रतीति करो, ताकि तुम जानो, और समझो, कि पिता मुझ में है, और मैं पिता में हूं। तब उन्होंने फिर उसे पकड़ने का प्रयत्न किया परन्तु वह उन के हाथ से निकल गया” (यूहन्ना 10: 36-39)।

यीशु ने अपने शिष्यों को अपनी ईश्वरीयता बताई, “यदि तुम ने मुझे जाना होता, तो मेरे पिता को भी जानते, और अब उसे जानते हो, और उसे देखा भी है। फिलेप्पुस ने उस से कहा, हे प्रभु, पिता को हमें दिखा दे: यही हमारे लिये बहुत है। यीशु ने उस से कहा; हे फिलेप्पुस, मैं इतने दिन से तुम्हारे साथ हूं, और क्या तू मुझे नहीं जानता? जिस ने मुझे देखा है उस ने पिता को देखा है: तू क्यों कहता है कि पिता को हमें दिखा। क्या तू प्रतीति नहीं करता, कि मैं पिता में हूं, और पिता मुझ में हैं? ये बातें जो मैं तुम से कहता हूं, अपनी ओर से नहीं कहता, परन्तु पिता मुझ में रहकर अपने काम करता है। मेरी ही प्रतीति करो, कि मैं पिता में हूं; और पिता मुझ में है; नहीं तो कामों ही के कारण मेरी प्रतीति करो। उस दिन तुम जानोगे, कि मैं अपने पिता में हूं, और तुम मुझ में, और मैं तुम में” (यूहन्ना 14: 7-11, 20)।

और उसने फिर से उसी सत्य की पुष्टि की: “शमौन पतरस ने उत्तर दिया, कि तू जीवते परमेश्वर का पुत्र मसीह है। यीशु ने उस को उत्तर दिया, कि हे शमौन योना के पुत्र, तू धन्य है; क्योंकि मांस और लोहू ने नहीं, परन्तु मेरे पिता ने जो स्वर्ग में है, यह बात तुझ पर प्रगट की है” (मत्ती 16: 16-17)।

इसके अलावा, यीशु ने उपासना को स्वीकार किया (मत्ती 2:11; 14:33; 28: 9, 17; लूका 24:52; यूहन्ना 9:38)। उन्होंने कभी भी लोगों को उनकी उपासना करने के लिए फटकार नहीं लगाई। यदि यीशु ईश्वर नहीं थे, तो उन्होंने लोगों से कहा होता कि वे उनकी उपासना न करें, जैसा कि स्वर्गदूत ने यूहन्ना से कहा था कि वे उनकी उपासना न करें (प्रकाशितवाक्य 19:14)।

अपनु सेवकाई के अंत में, यीशु ने प्रार्थना करने पर पिता को उसका पुत्र होने को घोषित किया, “छ:दिन के बाद यीशु ने पतरस और याकूब और उसके भाई यूहन्ना को साथ लिया, और उन्हें एकान्त में किसी ऊंचे पहाड़ पर ले गया। और उनके साम्हने उसका रूपान्तर हुआ और उसका मुंह सूर्य की नाईं चमका और उसका वस्त्र ज्योति की नाईं उजला हो गया। और देखो, मूसा और एलिय्याह उसके साथ बातें करते हुए उन्हें दिखाई दिए। इस पर पतरस ने यीशु से कहा, हे प्रभु, हमारा यहां रहना अच्छा है; इच्छा हो तो यहां तीन मण्डप बनाऊं; एक तेरे लिये, एक मूसा के लिये, और एक एलिय्याह के लिये। वह बोल ही रहा था, कि देखो, एक उजले बादल ने उन्हें छा लिया, और देखो; उस बादल में से यह शब्द निकला, कि यह मेरा प्रिय पुत्र है, जिस से मैं प्रसन्न हूं: इस की सुनो” (यूहन्ना 17: 1-5)। और उन्होंने कहा, “उस ने उन से कहा, अपने विश्वास की घटी के कारण: क्योंकि मैं तुम से सच कहता हूं, यदि तुम्हारा विश्वास राई के दाने के बराबर भी हो, तो इस पहाड़ से कह स को गे, कि यहां से सरककर वहां चला जा, तो वह चला जाएगा; और कोई बात तुम्हारे लिये अन्होनी न होगी। जब वे गलील में थे, तो यीशु ने उन से कहा; मनुष्य का पुत्र मनुष्यों के हाथ में पकड़वाया जाएगा” (यूहन्ना 17: 20-21)।

और सूली पर चढ़ाने से ठीक पहले, यीशु ने गवाही दी थी कि जब वह “परन्तु वह मौन साधे रहा, और कुछ उत्तर न दिया: महायाजक ने उस से फिर पूछा, क्या तू उस पर म धन्य का पुत्र मसीह है? यीशु ने कहा; हां मैं हूं: और तुम मनुष्य के पुत्र को सर्वशक्तिमान की दाहिनी और बैठे, और आकाश के बादलों के साथ आते देखोगे” (मरकुस 14:61-62)।

अपने बलिदान से यीशु ने गवाही दी कि वह ईश्वर है। यदि मसीह केवल एक निर्मित प्राणी था, तो, उसका जीवन केवल एक जीवन के लिए प्रायश्चित कर सकता था (निर्गमन 21:23; लैव्यव्यवस्था 17:15)। लेकिन सृष्टिकर्ता होने के नाते, उनका जीवन सभी मानवता के लिए प्रायश्चित कर सकता था (प्रेरितों के काम 4:12; यूहन्ना 14: 6) और परमेश्वर के न्याय की माँगों को पूरा करना (2 कुरिन्थियों 5:21)।

मसीह इतिहास का एकमात्र ऐसा व्यक्ति है जिसने ईश्वरत्व का दावा किया है और फिर भी मानव जाति द्वारा इसका हिसाब लगाया गया है। अन्य धार्मिक प्रणालियों के संस्थापक जैसे मोहम्ममदवाद, बौद्ध धर्म और हिंदू धर्म में ईश्वर के अवतार होने का दावा नहीं किया गया था। मसीह ने कहा और प्राणी मनकर रहा, जिसका निवास स्थान अनंत काल था (मीका 5: 2)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This answer is also available in: English

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

अगर परमेश्वर प्रेम है, तो वह अच्छे लोगों को बुरा क्यों होने देता है?

This answer is also available in: Englishपरमेश्वर ने मनुष्यों को चुनने की स्वतंत्रता के साथ बनाया- अच्छाई या बुराई करने की स्वतंत्रता (व्यवस्थाविवरण 30:19)। इंसानों ने शैतान को सुनने के…

परमेश्वर बुरी चीजों को होने की अनुमति क्यों देता है?

This answer is also available in: Englishकई आश्चर्य: परमेश्वर ने शैतान का विनाश क्यों नहीं किया जब उसने इस तरह से पाप किया तो मनुष्यों को बुरी चीजों का अनुभव…