क्या यीशु आज वैसी चंगाई देगा जैसी उसने 2000 वर्ष पहले दी थी?

Author: BibleAsk Hindi


यीशु के चंगाई का उद्देश्य केवल बाइबल के समय के लिए ही नहीं बल्कि सभी युगों के लिए था। वास्तव में, यीशु ने शिक्षा से अधिक समय चंगाई देने में बिताया “और यीशु सारे गलील में फिरता हुआ उन की सभाओं में उपदेश करता और राज्य का सुसमाचार प्रचार करता, और लोगों की हर प्रकार की बीमारी और दुर्बल्ता को दूर करता रहा” (मत्ती 4:23 ) है। और उसने उन सब चंगा किया जो उसके पास आया था … और महान भीड़ ने उसका अनुसरण किया, और उसने उन सभी को चंगा किया (मत्ती 12:15; लूका 4:40; लूका 6:19)।

यीशु की इच्छा आज हमारे लिए नहीं बदली है “यीशु मसीह कल, आज और हमेशा एक ही है” (इब्रानियों 13: 8)। यशायाह ने यीशु के बारे में भविष्यद्वाणी की थी कि “उसके कोढ़ खाने से हम चंगे हो जाते हैं” (यशायाह 53: 5)। और दाऊद ने प्रभु में आनन्दित होते हुए कहा, “वही तो तेरे सब अधर्म को क्षमा करता, और तेरे सब रोगों को चंगा करता है” (भजन संहिता 103:3)।

लेकिन बाइबल सिखाती है कि चंगाई सशर्त है:

पहला -ईश्वर में विश्वास रखना, “इसलिये मैं तुम से कहता हूं, कि जो कुछ तुम प्रार्थना करके मांगो तो प्रतीति कर लो कि तुम्हें मिल गया, और तुम्हारे लिये हो जाएगा” (मरकुस 11:24)। चंगाई की मांग करने वालों के लिए, यीशु ने कहा, “यीशु ने फिरकर उसे देखा, और कहा; पुत्री ढाढ़स बान्ध; तेरे विश्वास ने तुझे चंगा किया है; सो वह स्त्री उसी घड़ी चंगी हो गई” (मत्ती 9:22)।

दूसरा- परमेश्वर के नैतिक और स्वास्थ्य नियमों के लिए आज्ञाकारी होने के नाते “यदि तू अपने परमेश्वर यहोवा की सब आज्ञाएं, जो मैं आज तुझे सुनाता हूं, चौकसी से पूरी करने का चित्त लगाकर उसकी सुने, तो वह तुझे पृथ्वी की सब जातियों में श्रेष्ट करेगा। फिर अपने परमेश्वर यहोवा की सुनने के कारण ये सब आर्शीवाद तुझ पर पूरे होंगे……. परन्तु यदि तू अपने परमेश्वर यहोवा की बात न सुने, और उसकी सारी आज्ञाओं और विधियों के पालने में जो मैं आज सुनाता हूं चौकसी नहीं करेगा, तो ये सब शाप तुझ पर आ पड़ेंगे………और वह मिस्र के उन सब रोगों को फिर तेरे ऊपर लगा देगा, जिन से तू भय खाता था; और वे तुझ में लगे रहेंगे। और जितने रोग आदि दण्ड इस व्यवस्था की पुस्तक में नहीं लिखे हैं, उन सभों को भी यहोवा तुझ को यहां तक लगा देगा, कि तू सत्यानाश हो जाएगा” (व्यवस्थाविवरण 28: 1-61)।

उन लोगों के लिए जो इन शर्तों को पूरा करते हैं और चंगाई की तलाश करते हैं, बाइबल बताती है “यदि तुम में कोई रोगी हो, तो कलीसिया के प्राचीनों को बुलाए, और वे प्रभु के नाम से उस पर तेल मल कर उसके लिये प्रार्थना करें। और विश्वास की प्रार्थना के द्वारा रोगी बच जाएगा और प्रभु उस को उठा कर खड़ा करेगा; और यदि उस ने पाप भी किए हों, तो उन की भी क्षमा हो जाएगी” (याकूब 5:14, 15)। इसके अलावा, चंगाई की चाह रखने वालों को हमेशा अपनी प्रार्थनाओं में जोड़ना चाहिए “तेरी इच्छा पूरी हो” (लूका 11: 2; 22:42)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment