क्या यीशु अंतिम भविष्यद्वक्ता है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या यीशु अंतिम भविष्यद्वक्ता है?

यीशु परमेश्वर का पुत्र है (मत्ती 3:17; 17:5) जो मानवजाति को बचाने के लिए संसार में आया था “क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए” (यूहन्ना 3:16)। यीशु ने दुख उठाया, मर गया और स्वर्ग में पुनरुत्थित हो गया और संसार का न्याय करने के लिए फिर से वापस आएगा (मत्ती 24:30-31)।

बाइबल सिखाती है कि जब तक यीशु अपनी महिमा में वापस नहीं आएगा तब तक परमेश्वर अपने लोगों के पास भविष्यद्वक्ताओं को भेजेगा। परमेश्वर जानता है कि लोगों को जगाने, उन्हें चेतावनी देने और उन्हें यीशु और उनके वचन की ओर मोड़ने के लिए भविष्यद्वक्ताओं की आवश्यकता है। प्रभु ने एक भविष्यद्वक्ता (यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले) को यीशु के प्रथम आगमन के लिए संसार को तैयार करने के लिए भेजा (मरकुस 1:1-8)। और वह कलीसिया को उसके दूसरे आगमन के लिए तैयार करने के लिए और नबियों को भी भेजेगा।

पौलुस सिखाता है कि भविष्यद्वाणी का उपहार परमेश्वर की कलिसिया में सभी युगों में प्रकट होगा “सो हम उस विश्राम में प्रवेश करने का प्रयत्न करें, ऐसा न हो, कि कोई जन उन की नाईं आज्ञा न मान कर गिर पड़े। और सृष्टि की कोई वस्तु उस से छिपी नहीं है वरन जिस से हमें काम है, उस की आंखों के साम्हने सब वस्तुएं खुली और बेपरदा हैं” (इफिसियों 4:11, 13)।

योएल नबी (अध्याय 2:28-32) के अनुसार, प्रभु ने अपनी कलिसिया का मार्गदर्शन करने के लिए विशेष रूप से समय के अंत में भविष्यद्वक्ताओं को भेजने का वादा किया था। शैतान झूठे भविष्यद्वक्ताओं को भी भेजेगा (मत्ती 7:15; 24:11,24)। इसलिए हमें पवित्रशास्त्र के द्वारा भविष्यद्वक्ताओं की परीक्षा लेने के लिए तैयार रहना चाहिए (यशायाह 8:19,20; 2 तीमुथियुस 2:15), उनकी सलाह पर तभी ध्यान दें जब वे सच्चे हों और यदि वे नकली हों तो उन्हें अस्वीकार कर दें।

आरम्भिक कलीसिया में “आत्मा का प्रगटीकरण” “हर एक मनुष्य को लाभ के लिये” दिया गया था (1 कुरि० 12:7)। विभिन्न उपहार प्रमाण में थे, जैसे “बुद्धि का वचन,” “ज्ञान का शब्द,” “विश्वास,” “चंगाई,” “चमत्कार का काम करना,” “भविष्यद्वाणी,” “आत्माओं की समझ,” “विविध प्रकार की भाषाएं” और “अन्य भाषाओं की व्याख्या” (पद 8-10)। पेन्तेकुस्त की घटनाएँ योएल की भविष्यद्वाणी की केवल आंशिक पूर्ति थीं। उसकी भविष्यद्वाणी ईश्वरीय अनुग्रह के प्रकटीकरण में अपनी पूर्ण पूर्णता तक पहुँचने की है जो सुसमाचार के समापन कार्य में भाग लेगा।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: