क्या याजक पापबलि खाए या न खाए (लैव्यव्यवस्था 6:26; लैव्यव्यवस्था 6:30)?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या याजक पापबलि खाए या न खाए (लैव्यव्यवस्था 6:26; लैव्यव्यवस्था 6:30)?

ये पद्यांश (लैव्यव्यवस्था 6:26; लैव्यव्यवस्था 6:30) उन सिद्धांतों से संबंधित हैं जो पापबलि के शरीरों की प्रकृति पर शासन करते थे। जब बलिदान का लोहू पवित्रस्थान में लाया गया था—जैसे अभिषिक्त याजक या सारी मण्डली ने पाप किया था—शरीर को छावनी के बाहर ले जाकर जला दिया गया। क्योंकि बाइबल कहती है, “पर जिस पापबलिपशु के लोहू में से कुछ भी खून मिलापवाले तम्बू के भीतर पवित्रस्थान में प्रायश्चित्त करने को पहुंचाया जाए तब तो उसका मांस कभी न खाया जाए; वह आग में जला दिया जाए” (लैव्यव्यवस्था 6:30)।

परन्तु जब लोहू को पवित्रस्थान में नहीं ले जाया गया, परन्तु होमबलि की वेदी के सींगों पर रखा गया – जैसे कि एक शासक या आम लोगों में से एक ने पाप किया था – मांस को याजकों द्वारा खाया जाना था: “और जो याजक पापबलि चढ़ावे वह उसे खाए; वह पवित्र स्थान में, अर्थात मिलापवाले तम्बू के आँगन में खाया जाए” (लैव्यव्यवस्था 6:26)। हारून ने बकरी का मांस खाकर लोगों के पापों को अपने ऊपर ले लिया, और वह अपने उन पापों का प्रायश्चित करने में सक्षम हुआ जो वह करता है।

“16 फिर मूसा ने पापबलि के बकरे की जो ढूंढ़-ढांढ़ की, तो क्या पाया, कि वह जलाया गया है, सो एलीआज़र और ईतामार जो हारून के पुत्र बचे थे उन से वह क्रोध में आकर कहने लगा,

17 कि पापबलि जो परमपवित्र है और जिसे यहोवा ने तुम्हे इसलिये दिया है कि तुम मण्डली के अधर्म का भार अपने पर उठा कर उनके लिये यहोवा के साम्हने प्रायश्चित्त करो, तुम ने उसका मांस पवित्रस्थान में क्यों नहीं खाया?

18 देखो, उसका लोहू पवित्रस्थान के भीतर तो लाया ही नहीं गया, नि:सन्देह उचित था कि तुम मेरी आज्ञा के अनुसार उसके मांस को पवित्रस्थान में खाते।

19 इसका उत्तर हारून ने मूसा को इस प्रकार दिया, कि देख, आज ही उन्होंने अपने पापबलि और होमबलि को यहोवा के साम्हने चढ़ाया; फिर मुझ पर ऐसी विपत्तियां आ पड़ी हैं! इसलिये यदि मैं आज पापबलि का मांस खाता तो क्या यह बात यहोवा के सम्मुख भली होती?

20 जब मूसा ने यह सुना तब उसे संतोष हुआ” (लैव्यव्यवस्था 10:16-20)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: