क्या मुझे अपनी विरासत अपने अपरिवर्तित बच्चों को छोड़ देनी चाहिए या इसे प्रभु को देना चाहिए?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या मुझे अपनी विरासत अपने अपरिवर्तित बच्चों को छोड़ देनी चाहिए या इसे प्रभु को देना चाहिए?

“उस ने उस से कहा, तू परमेश्वर अपने प्रभु से अपने सारे मन और अपने सारे प्राण और अपनी सारी बुद्धि के साथ प्रेम रख।बड़ी और मुख्य आज्ञा तो यही है। और उसी के समान यह दूसरी भी है, कि तू अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम रख” (मत्ती 22:37-39)। ईश्वर और मनुष्य के लिए प्रेम मसीही जीवन का लक्ष्य है।

विरासत के संबंध में, माता-पिता को अपने कार्यों में योगदान देकर और अपने बच्चों को ईश्वर से अधिक पसंद नहीं करके परमेश्वर के प्रति अपना प्यार दिखाना चाहिए “जो माता या पिता को मुझ से अधिक प्रिय जानता है, वह मेरे योग्य नहीं और जो बेटा या बेटी को मुझ से अधिक प्रिय जानता है, वह मेरे योग्य नहीं” (मत्ती 10:37)।

राजा दाऊद ने परमेश्वर के भवन के निर्माण के लिए अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा छोड़ने की व्यवस्था दी, “सुन, मैं ने अपने क्लेश के समय यहोवा के भवन के लिये एक लाख किक्कार सोना, और दस लाख किक्कार चान्दी, और पीतल और लोहा इतना इकट्ठा किया है, कि बहुतायत के कारण तौल से बाहर है; और लकड़ी और पत्थर मैं ने इकट्ठे किए हैं, और तू उन को बढ़ा सकेगा” (1 इतिहास 22:14)। परन्तु उसने सुलैमान और उसकी सब सन्तान के लिये अच्छा निज भाग छोड़।

और इसी तरह, अच्छे माता-पिता को अपने बच्चों को देने पर विचार करना चाहिए “भला मनुष्य अपने नाती- पोतों के लिये भाग छोड़ जाता है, परन्तु पापी की सम्पत्ति धर्मी के लिये रखी जाती है” (नीतिवचन 13:22)। भले ही बच्चे मसीही न हों, माता-पिता को उनसे अपने प्रेम का संचार करना चाहिए इस प्रकार मसीह के प्रेम का उदाहरण देना चाहिए जिसने पापियों को बचाने के लिए अपना जीवन दिया (यूहन्ना 3:16)।

लेकिन एक विरासत छोड़ने की व्यवस्था के बारे में बहुत सोचा जाना और प्रार्थना की जानी चाहिए क्योंकि प्रभु अपने बच्चों को इस बात के लिए जवाबदेह ठहराएगा कि वे उन्हें दिए गए तोड़ों को कैसे खर्च करते हैं (मत्ती 18)। एक अच्छी सलाह बच्चों को गैर-नकद संपत्ति जैसे शिक्षा निधि और संपत्ति छोड़नी होगी।

सबसे महत्वपूर्ण विरासत जो माता-पिता अपने बच्चों को छोड़ सकते हैं, वह है सच्चाई का ज्ञान। माता-पिता को अपने बच्चों को परमेश्वर के प्रेम के बारे में सिखाना है (इफिसियों 6:4) और उदाहरण के द्वारा उन्हें प्रभु की ओर ले जाना है (मरकुस 10:14)। आत्मिकता में निवेश करना ही एकमात्र ऐसी चीज है जिसका अनन्त प्रतिफल मिलेगा। अन्य सभी भौतिक धन मसीह के आगमन पर नष्ट हो जाएंगे।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ को देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: