क्या मसीह वास्तव में एक नजीर था?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

यीशु को नासरी कहा जाता था, क्योंकि वह नासरत (मत्ती 2:23) के शहर में पला-बढ़ा था। लेकिन एक नासरी भी एक नजीर के समान नहीं है। नजीर शब्द का अर्थ है “अलग करना,” “पवित्र करने के लिए,” “समर्पित करने के लिए” धार्मिक या रीति-विधि अर्थों में। एक नजीर ने ईश्वर के प्रति समर्पण दिखाने के लिए एक विशिष्ट आचार संहिता रखी (गिनती 6: 2-21)। यह संहिता थी:

1-दाखमधु पीने से परहेज़ करना “इस्त्राएलियों से कह, कि जब कोई पुरूष वा स्त्री नाज़ीर की मन्नत, अर्थात अपने को यहोवा के लिये न्यारा करने की विशेष मन्नत माने, तब वह दाखमधु आदि मदिरा से न्यारा रहे; वह न दाखमधु का, न और मदिरा का सिरका पीए, और न दाख का कुछ रस भी पीए, वरन दाख न खाए, चाहे हरी हो चाहे सूखी” (गिनती 6: 2,3)।

2-दाख के किसी भी उत्पाद को पीने से परहेज़ करना “तब वह दाखमधु आदि मदिरा से न्यारा रहे; वह न दाखमधु का, न और मदिरा का सिरका पीए, और न दाख का कुछ रस भी पीए, वरन दाख न खाए, चाहे हरी हो चाहे सूखी। फिर जितने दिन उसने न्यारे रहने की मन्नत मानी हो उतने दिन तक वह अपने सिर पर छुरा न फिराए; और जब तक वे दिन पूरे न हों जिन में वह यहोवा के लिये न्यारा रहे तब तक वह पवित्र ठहरेगा, और अपने सिर के बालों को बढ़ाए रहे” (गिनती 6: 3,5)।

3-सिर पर छुरा न फिराए “फिर जितने दिन उसने न्यारे रहने की मन्नत मानी हो उतने दिन तक वह अपने सिर पर छुरा न फिराए; और जब तक वे दिन पूरे न हों जिन में वह यहोवा के लिये न्यारा रहे तब तक वह पवित्र ठहरेगा, और अपने सिर के बालों को बढ़ाए रहे। जितने दिन वह यहोवा के लिये न्यारा रहे उतने दिन तक किसी लोथ के पास न जाए। चाहे उसका पिता, वा माता, वा भाई, वा बहिन भी मरे, तौभी वह उनके कारण अशुद्ध न हो; क्योंकि अपने परमेश्वर के लिये न्यारा रहने का चिन्ह उसके सिर पर होगा। अपने न्यारे रहने के सारे दिनों में वह यहोवा के लिये पवित्र ठहरा रहे” (गिनती 6: 5-8)।

4-शवों को छूने से बचें ” और यदि कोई उसके पास अचानक मर जाए, और उसके न्यारे रहने का जो चिन्ह उसके सिर पर होगा वह अशुद्ध हो जाए, तो वह शुद्ध होने के दिन, अर्थात सातवें दिन अपने सिर मुंड़ाए। और आठवें दिन वह दो पंडुक वा कबूतरी के दो बच्चे मिलापवाले तम्बू के द्वार पर याजक के पास ले जाए, और याजक एक को पापबलि, और दूसरे को होमबलि करके उसके लिये प्रायश्चित्त करे, क्योंकि वह लोथ के कारण पापी ठहरा है। और याजक उसी दिन उसका सिर फिर पवित्र करे, और वह अपने न्यारे रहने के दिनों को फिर यहोवा के लिये न्यारे ठहराए, और एक वर्ष का एक भेड़ का बच्चा दोषबलि करके ले आए; और जो दिन इस से पहिले बीत गए होंवे व्यर्थ गिने जाए, क्योंकि उसके न्यारे रहने का चिन्ह अशुद्ध हो गया” (गिनती 6: 9-12)।

एक व्यक्ति नाज़ीर बन जाएगा इसके द्वारा:

  1. समय की एक विशिष्ट अवधि के लिए परमेश्वर को एक मन्नत रखना (गिनती 6: 2)।
  2. यदि माता-पिता ने शमूएल की माता के मामले में अपने जन्म से लेकर ईश्वर तक का मन्नत मानी “और उसने यह मन्नत मानी, कि हे सेनाओं के यहोवा, यदि तू अपनी दासी के दु:ख पर सचमुच दृष्टि करे, और मेरी सुधि ले, और अपनी दासी को भूल न जाए, और अपनी दासी को पुत्र दे, तो मैं उसे उसके जीवन भर के लिये यहोवा को अर्पण करूंगी, और उसके सिर पर छुरा फिरने न पाएगा” (1 शमूएल 1:11)।
  3. यदि परमेश्वर किसी व्यक्ति को शिमशोन के मामले में एक नाज़ीर के रूप में नियुक्त करता है, “क्योंकि तू गर्भवती होगी और तेरे एक बेटा उत्पन्न होगा। और उसके सिर पर छूरा न फिरे, क्योंकि वह जन्म ही से परमेश्वर का नाजीर रहेगा; और इस्राएलियों को पलिश्तियों के हाथ से छुड़ाने में वही हाथ लगाएगा” (न्यायियों 13:5)।

यीशु एक नजीर नहीं था क्योंकि उसने दाख का फल का रस पिया था जैसा कि अंतिम भोज में दिखाया गया था ” फिर उस ने कटोरा लेकर, धन्यवाद किया, और उन्हें देकर कहा, तुम सब इस में से पीओ। क्योंकि यह वाचा का मेरा वह लोहू है, जो बहुतों के लिये पापों की क्षमा के निमित्त बहाया जाता है। मैं तुम से कहता हूं, कि दाख का यह रस उस दिन तक कभी न पीऊंगा, जब तक तुम्हारे साथ अपने पिता के राज्य में नया न पीऊं” (मती 26: 27-29)। इसके अलावा यीशु ने एक मृत लड़की का हाथ पकड़ लिया, इससे पहले कि वह उसे फिर से जीवित करे “और लड़की का हाथ पकड़कर उस से कहा, ‘तलीता कूमी’; जिस का अर्थ यह है कि ‘हे लड़की, मैं तुझ से कहता हूं, उठ’” (मरकुस 5:41)। इन कारणों से यीशु एक नजीर नहीं बन सकता था।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
Bibleask टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: