क्या मसीही के लिए ईश्वर और दुनिया द्वारा स्वीकार किया जाना संभव है?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

वफादार मसीही के लिए, एक ही समय में परमेश्वर और दुनिया द्वारा स्वीकार किया जाना असंभव है क्योंकि दोनों विश्वासों में एक दूसरे के विरोध में खड़े हैं। नबी आमोस पूछता है, “क्या दो परस्पर एक साथ चल सकते हैं, सिवाय इसके कि वे सहमत हों?” (अध्याय 3:3)। ईश्वर के साथ “एक साथ चलने” का अर्थ है, फिसलता हुआ कार्य नहीं, बल्कि एक निरंतर आदत जो मजबूत संबंध से उत्पन्न होती है। इसका अर्थ है मन और आत्मा की आपसी एकता पर बनी दोस्ती।

यीशु ने अपने अनुयायियों को समझाया, “यह न समझो, कि मैं पृथ्वी पर मिलाप कराने को आया हूं; मैं मिलाप कराने को नहीं, पर तलवार चलवाने आया हूं। मैं तो आया हूं, कि मनुष्य को उसके पिता से, और बेटी को उस की मां से, और बहू को उस की सास से अलग कर दूं” (मत्ती 10:34,35)। यद्यपि मसीह शांति का राजकुमार है, जब एक व्यक्ति परमेश्वर के साथ मेल-मिलाप करता है (रोमियों 5:1) उसे अक्सर संसार द्वारा शत्रु के रूप में माना जाता है (1 यूहन्ना 3:12, 13)।

मसीह पापियों को परमेश्वर के साथ मेल कराने आया था, परन्तु ऐसा करके उसने उन सब से बैर भी रखा, जो परमेश्वर के प्रेम को ठुकराते हैं (मत्ती 10:22)। मसीही को कभी भी उस शांति की तलाश नहीं करनी चाहिए, या उससे संतुष्ट नहीं होना चाहिए, जो बुराई के साथ समझौता करने से आती है।

“कोई दास दो स्वामियों की सेवा नहीं कर सकता” (लूका 16:13; मत्ती 6:24) के लिए मसीही विश्‍वासियों को परमेश्‍वर और संसार में से किसी एक को चुनना होगा। यीशु ने घोषणा की कि विश्वासयोग्य व्यक्ति तटस्थ नहीं हो सकता: “जो मेरे साथ नहीं है वह मेरे विरुद्ध है” (मत्ती 12:30)। विभाजित मन से परमेश्वर की सेवा करने का प्रयास अस्थिर होना है (याकूब 1:8)। परमेश्वर के साथ लगभग, लेकिन पूरी तरह से नहीं होना, लगभग नहीं, बल्कि पूरी तरह से उसके खिलाफ होना है।

अफसोस की बात है कि लाखों नाममात्र के मसीही अपने विश्वासों और दुनिया के बीच समझौता करने का रास्ता तलाश रहे हैं। एक मसीही विश्‍वासी को शैतान के साथ समझौता नहीं करना चाहिए, क्योंकि उसके साथ समझौता करने का कोई भी प्रयास अंततः उसके अधीन हो जाएगा (रोमियों 6:16)। प्रेरित याकूब चेतावनी देता है: “क्या तुम नहीं जानते कि संसार की मित्रता परमेश्वर से बैर करना है? सो जो कोई जगत का मित्र होगा, वह परमेश्वर का बैरी है” (याकूब 4:4)।

परन्तु परमेश्वर की स्तुति करो कि मसीही विश्‍वासी संसार और उसकी परीक्षाओं से लड़ने के लिए अकेला नहीं बचा है क्योंकि परमेश्वर उसे पहले उसे ढूँढ़ने की इच्छा देता है “क्योंकि परमेश्वर ही है, जिस न अपनी सुइच्छा निमित्त तुम्हारे मन में इच्छा और काम, दोनों बातों के करने का प्रभाव डाला है” (फिलिप्पियों 2:13)। केवल उसके वचन के अध्ययन और प्रार्थना के द्वारा परमेश्वर पर निरंतर निर्भर रहने से ही वह संसार के आकर्षणों का विरोध कर सकता है (यूहन्ना 8:36)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या किसी अच्छे कारण के लिए गुस्सा दिखाना ठीक है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)क्या किसी अच्छे कारण के लिए गुस्सा दिखाना ठीक है? प्रश्न: क्या किसी अच्छे कारण के लिए क्रोध प्रदर्शित करना ठीक है? या…

मैं सबसे दुष्ट पापियों में से एक हूं। क्या मेरे लिए आशा है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)बाइबल सिखाती है कि सबसे दुष्ट पापी के लिए आशा है। यहूदा का राजा मनश्शे बहुत दुष्ट राजा था। 2 राजा 21 में,…