क्या मल्कीसेदेक का कोई ऐतिहासिक लेख है?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

मेल्कीसेदेक

उत्पत्ति की पुस्तक में सबसे पहले मल्कीसेदेक का उल्लेख किया गया है: “18 जब शालेम का राजा मेल्कीसेदेक, जो परमप्रधान ईश्वर का याजक था, रोटी और दाखमधु ले आया। 19 और उसने अब्राम को यह आशीर्वाद दिया, कि परमप्रधान ईश्वर की ओर से, जो आकाश और पृथ्वी का अधिकारी है, तू धन्य हो। 20 और धन्य है परमप्रधान ईश्वर, जिसने तेरे द्रोहियों को तेरे वश में कर दिया है। तब अब्राम ने उसको सब का दशमांश दिया” (उत्पत्ति 14:18-20)।

इस पद्यांश से, हम सीखते हैं कि मल्कीसेदेक शालेम का याजक-राजा था, जो अपने भतीजे लूत को बचाने के लिए अब्राम का युद्ध से वापस स्वागत करने में सदोम के राजा के साथ शामिल हुआ था। जबकि सदोम का राजा अपनी प्रजा से छुटकारा पाने के उद्देश्य से अब्राम से मिलने आया (उत्पत्ति 14:21), मल्कीसेदेक विजयी सेनापति को आशीर्वाद देने आया। और इब्राहीम ने शालेम के राजा को दशमांश दिया।

मल्कीसेदेक, का अर्थ है “धार्मिकता का राजा,” और फिर शालेम का राजा भी, जिसका अर्थ है “शांति का राजा” (इब्रानियों 7:2) क्योंकि यरूशलेम का अर्थ शांति का शहर था। यरूशलेम शहर को पहली बार 19वीं शताब्दी ईसा पूर्व के मिस्र के अभिलेखों में प्रमाणित किया गया है, और तब अमोरी राजाओं द्वारा शासित किया गया था।

याजक-राजा

बाइबल के समीक्षकों ने मल्कीसेदेक के व्यक्ति के बारे में बहुत कुछ अनुमान लगाया है, एक याजक-राजा जो बाइबिल कथा में अचानक प्रकट होता है केवल प्राचीन इतिहास के अभेद्य अस्पष्टता में फिर से गायब हो जाता है। परन्तु जो बाइबल से ज्ञात है उसके आधार पर, मल्कीसेदेक एक वास्तविक पुराने नियम का व्यक्ति था। वह मसीह नहीं था, लेकिन उसका काम मसीह जैसा था जैसा कि निम्नलिखित संदर्भों में दिखाया गया है:

“यहोवा ने शपथ खाई और न पछताएगा, कि तू मेल्कीसेदेक की रीति पर सर्वदा का याजक है” (भजन संहिता 110:4)।

20 जहां यीशु मलिकिसिदक की रीति पर सदा काल का महायाजक बन कर, हमारे लिये अगुआ की रीति पर प्रवेश हुआ है॥ 1यह मलिकिसिदक शालेम का राजा, और परमप्रधान परमेश्वर का याजक, सर्वदा याजक बना रहता है; जब इब्राहीम राजाओं को मार कर लौटा जाता था, तो इसी ने उस से भेंट करके उसे आशीष दी।
इसी को इब्राहीम ने सब वस्तुओं का दसवां अंश भी दिया: यह पहिले अपने नाम के अर्थ के अनुसार, धर्म का राजा, और फिर शालेम अर्थात शांति का राजा है।
जिस का न पिता, न माता, न वंशावली है, जिस के न दिनों का आदि है और न जीवन का अन्त है; परन्तु परमेश्वर के पुत्र के स्वरूप ठहरा॥
अब इस पर ध्यान करो कि यह कैसा महान था जिस को कुलपति इब्राहीम ने अच्छे से अच्छे माल की लूट का दसवां अंश दिया।
लेवी की संतान में से जो याजक का पद पाते हैं, उन्हें आज्ञा मिली है, कि लोगों, अर्थात अपने भाइयों से चाहे, वे इब्राहीम ही की देह से क्यों न जन्मे हों, व्यवस्था के अनुसार दसवां अंश लें।
पर इस ने, जो उन की वंशावली में का भी न था इब्राहीम से दसवां अंश लिया और जिसे प्रतिज्ञाएं मिली थी उसे आशीष दी।
और उस में संदेह नहीं, कि छोटा बड़े से आशीष पाता है।
और यहां तो मरनहार मनुष्य दसवां अंश लेते हैं पर वहां वही लेता है, जिस की गवाही दी जाती है, कि वह जीवित है।
तो हम यह भी कह सकते हैं, कि लेवी ने भी, जो दसवां अंश लेता है, इब्राहीम के द्वारा दसवां अंश दिया।
10 क्योंकि जिस समय मलिकिसिदक ने उसके पिता से भेंट की, उस समय यह अपने पिता की देह में था॥
11 तक यदि लेवीय याजक पद के द्वारा सिद्धि हो सकती है (जिस के सहारे से लोगों को व्यवस्था मिली थी) तो फिर क्या आवश्यकता थी, कि दूसरा याजक मलिकिसिदक की रीति पर खड़ा हो, और हारून की रीति का न कहलाए?
12 क्योंकि जब याजक का पद बदला जाता है तो व्यवस्था का भी बदलना अवश्य है।
13 क्योंकि जिस के विषय में ये बातें कही जाती हैं कि वह दूसरे गोत्र का है, जिस में से किसी ने वेदी की सेवा नहीं की।
14 तो प्रगट है, कि हमारा प्रभु यहूदा के गोत्र में से उदय हुआ है और इस गोत्र के विषय में मूसा ने याजक पद की कुछ चर्चा नहीं की।
15 ओर जब मलिकिसिदक के समान एक और ऐसा याजक उत्पन्न होने वाला था।
16 जो शारीरिक आज्ञा की व्यवस्था के अनुसार नहीं, परअविनाशी जीवन की सामर्थ के अनुसार नियुक्त हो तो हमारा दावा और भी स्पष्टता से प्रगट हो गया।
17 क्योंकि उसके विषय में यह गवाही दी गई है, कि तू मलिकिसिदक की रीति पर युगानुयुग याजक है।
18 निदान, पहिली आज्ञा निर्बल; और निष्फल होने के कारण लोप हो गई।
19 (इसलिये कि व्यवस्था ने किसी बात की सिद्धि नहीं कि) और उसके स्थान पर एक ऐसी उत्तम आशा रखी गई है जिस के द्वारा हम परमेश्वर के समीप जा सकते हैं।
20 और इसलिये कि मसीह की नियुक्ति बिना शपथ नहीं हुई।
21 (क्योंकि वे तो बिना शपथ याजक ठहराए गए पर यह शपथ के साथ उस की ओर से नियुक्त किया गया जिस ने उसके विषय में कहा, कि प्रभु ने शपथ खाई, और वह उस से फिर ने पछताएगा, कि तू युगानुयुग याजक है)। (इब्रानियों 6:20 से 7:21)।

मल्कीसेदेक की अनपेक्षित उपस्थिति उसे एक निश्चित अर्थ में एक कालातीत व्यक्ति बनाती है, और उसका याजकत्व यीशु मसीह के याजकत्व का एक प्रकार है।

क्या मल्कीसेदेक का कोई ऐतिहासिक दर्ज लेख है?

मल्कीसेदेक का कोई ऐतिहासिक दर्ज लेख नहीं है, हालांकि यहूदी अपनी वंशावली लिखने और संरक्षित करने में बहुत सावधानी बरतते थे। यह याजकों के विषय में विशेष रूप से सच था (एज्रा 2:61-63)। कोई भी याजक तब तक सेवकाई नहीं कर सकता था जब तक कि वह हारून के परिवार और लेवी के गोत्र का भाग न हो। यदि वंश में कोई अंतराल होता, तो उसे याजकत्व से बर्खास्त कर दिया जाता। इस कारण प्रत्येक यहूदी, और विशेष रूप से याजकों ने अपने वंशावली के दर्ज लेखों को ध्यान से रखा। लेकिन मल्कीसेदेक की वंशावली का कोई उल्लेख नहीं था। यह तथ्य उसे मसीह का प्रतीक बनाता है जो आदि या अंत के बिना है और जो स्वर्ग में हमारा महायाजक है, या नया यरूशलेम है।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ को देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

वेलेंटाइन डे की उत्पत्ति क्या है? क्या मसीहीयों को इसे मनाना चाहिए?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)वेलेंटाइन डे का इतिहास और इसके संरक्षक संत की कहानी स्पष्ट नहीं है। 313 ईस्वी में, रोमन सम्राट कॉन्सटेंटाइन ने महान…

यदि परमेश्वर इस्राएल राष्ट्र से प्रेम करता है, तो उसने प्रलय की अनुमति क्यों दी?

Table of Contents अपने लोगों के लिए परमेश्वर का प्रेमपरमेश्वर ने इस्राएल को उनके शत्रुओं से छुटकारे का वचन दियापुराने नियम में इस्राएलइस्राएल का पहला विनाशनए नियम में इस्राएलइस्राएल राष्ट्र…