क्या भजन संहिता 96:4-5 के अनुसार एक से अधिक परमेश्वर हैं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या भजन संहिता 96:4-5 के अनुसार एक से अधिक परमेश्वर हैं?

एक परमेश्वर

कुछ लोग कहते हैं कि इस पद के अनुसार एक से अधिक परमेश्वर हैं: “क्योंकि यहोवा महान और अति स्तुति के योग्य है; वह तो सब देवताओं से अधिक भय योग्य है। क्योंकि देश देश के सब देवता तो मूरतें ही हैं; परन्तु यहोवा ही ने स्वर्ग को बनाया है” (भजन संहिता 96:4-5)। इस पद के अनुसार, पुराने और साथ ही नए नियम में वर्णित कई मूर्तिपूजक देवता और देवी हैं। इनमें बाल (न्यायियों 2:13), दागोन (1 शमूएल 5:2), मोलेक (निर्गमन 18:21) और डायना (प्रेरितों के काम 19:27) आदि शामिल हैं। लेकिन ये पुरुषों की रचना हैं और इनमें कोई “वास्तविक” शक्ति नहीं है।

पहली आज्ञा

यहोवा घोषणा करता है, “तू मुझे छोड़ दूसरों को ईश्वर करके न मानना” (निर्गमन 20:3)। इसका मतलब यह है कि शक्ति वाले ईश्वर हैं, बल्कि यह कि एक ईश्वर वह है जिसकी उपासना की जाती है। कुछ लोगों के लिए पैसा ही उनका ईश्वर होता है। वे इसे प्यार करते हैं और इसके लिए जीते हैं, लेकिन यह केवल एक वस्तु है और यह बना या बचा नहीं सकता है। “कोई मनुष्य दो स्वामियों की सेवा नहीं कर सकता, क्योंकि वह एक से बैर ओर दूसरे से प्रेम रखेगा, वा एक से मिला रहेगा और दूसरे को तुच्छ जानेगा; “तुम परमेश्वर और धन दोनो की सेवा नहीं कर सकते” (मत्ती 6:24)।

बाइबल कहती है, “क्योंकि यहोवा जो आकाश का सृजनहार है, वही परमेश्वर है; उसी ने पृथ्वी को रचा और बनाया, उसी ने उसको स्थिर भी किया; उसने उसे सुनसान रहने के लिये नहीं परन्तु बसने के लिये उसे रचा है। वही यों कहता है, मैं यहोवा हूं, मेरे सिवा दूसरा और कोई नहीं है” (यशायाह 45:18)। ब्रह्मांड में ईश्वर ही एकमात्र शक्ति है।

परमेश्वर अगले अध्याय में आगे कहता है, “मैं तुम्हें उठाए रहूंगा और छुड़ाता भी रहूंगा॥ तुम किस से मेरी उपमा दोगे और मुझे किस के समान बताओगे, किस से मेरा मिलान करोगे कि हम एक समान ठहरें? जो थैली से सोना उण्डेलते वा कांटे में चान्दी तौलते हैं, जो सुनार को मजदुरी देकर उस से देवता बनवाते हैं, तब वे उसे प्रणाम करते वरन दण्डवत भी करते हैं! वे उसको कन्धे पर उठा कर लिए फिरते हैं, वे उसे उसके स्थान में रख देते और वह वहीं खड़ा रहता है; वह अपने स्थान से हट नहीं सकता; यदि कोई उसकी दोहाई भी दे, तौभी न वह सुन सकता है और न विपत्ति से उसका उद्धार कर सकता है॥ हे अपराधियों, इस बात को स्मरण करो और ध्यान दो, इस पर फिर मन लगाओ। प्राचीनकाल की बातें स्मरण करो जो आरम्भ ही से है; क्योंकि ईश्वर मैं ही हूं, दूसरा कोई नहीं; मैं ही परमेश्वर हूं और मेरे तुल्य कोई भी नहीं है। मैं तो अन्त की बात आदि से और प्राचीनकाल से उस बात को बताता आया हूं जो अब तक नहीं हुई। मैं कहता हूं, मेरी युक्ति स्थिर रहेगी और मैं अपनी इच्छा को पूरी करूंगा” (यशायाह 46: 5-10)।

मानव निर्मित ईश्वर

बाइबल स्पष्ट रूप से कहती है कि कोई भी निष्क्रियता केवल एक मूर्ति या पुरुषों के हाथों का काम है और इसमें कोई शक्ति नहीं है। “हमारा परमेश्वर तो स्वर्ग में हैं; उसने जो चाहा वही किया है। उन लोगों की मूरतें सोने चान्दी ही की तो हैं, वे मनुष्यों के हाथ की बनाईं हुई हैं। उनका मुंह तो रहता है परन्तु वे बोल नहीं सकती; उनके आंखें तो रहती हैं परन्तु वे देख नहीं सकतीं। उनके कान तो रहते हैं, परन्तु वे सुन नहीं सकतीं; उनके नाक तो रहती हैं, परन्तु वे सूंघ नहीं सकतीं। उनके हाथ तो रहते हैं, परन्तु वे स्पर्श नहीं कर सकतीं; उनके पांव तो रहते हैं, परन्तु वे चल नहीं सकतीं; और अपने कण्ठ से कुछ भी शब्द नहीं निकाल सकतीं। जैसी वे हैं वैसे ही उनके बनाने वाले हैं; और उन पर भरोसा रखने वाले भी वैसे ही हो जाएंगे” (भजन संहिता 115:3-8)। मानव निर्मित मूर्तियाँ या खुदी हुई मूर्तियाँ। वे सच्चे परमेश्वर के समान कुछ भी नहीं हैं जिसके पास सृष्टि करने की शक्ति है।

“यहोवा, जो इस्राएल का राजा है, अर्थात सेनाओं का यहोवा जो उसका छुड़ाने वाला है, वह यों कहता है, मैं सब से पहिला हूं, और मैं ही अन्त तक रहूंगा; मुझे छोड़ कोई परमेश्वर है ही नहीं। और जब से मैं ने प्राचीनकाल में मनुष्यों को ठहराया, तब से कौन हुआ जो मेरी नाईं उसको प्रचार करे, वा बताए वा मेरे लिये रचे अथवा होनहार बातें पहिले ही से प्रगट करे? मत डरो और न भयमान हो; क्या मैं ने प्राचीनकाल ही से ये बातें तुम्हें नहीं सुनाईं और तुम पर प्रगट नहीं कीं? तुम मेरे साक्षी हो। क्या मुझे छोड़ कोई और परमेश्वर है? नहीं, मुझे छोड़ कोई चट्टान नहीं; मैं किसी और को नहीं जानता॥ जो मूरत खोदकर बनाते हैं, वे सब के सब व्यर्थ हैं और जिन वस्तुओं में वे आनन्द ढूंढते उन से कुछ लाभ न होगा; उसके साक्षी, न तो आप कुछ देखते और न कुछ जानते हैं, इसलिये उन को लज्जित होना पड़ेगा। किस ने देवता वा निष्फल मूरत ढाली है?” (यशायाह 44:6-10)।

झूठी पूजा

शुरुआत से ही, शैतान ने लोगों को यह विश्वास दिलाने के लिए धोखा देने की कोशिश की है कि वे परमेश्वर हो सकते हैं (उत्पत्ति 3:5) या अन्य परमेश्वर हैं जिनके पास शक्ति है। हालाँकि, ये एक सच्चे ईश्वर से ध्यान भटकाने के लिए झूठ हैं।

“उसके बचे हुए भाग को लेकर वह एक देवता अर्थात एक मूरत खोदकर बनाता है; तब वह उसके साम्हने प्रणाम और दण्डवत करता और उस से प्रार्थना कर के कहता है, मुझे बचा ले, क्योंकि तू मेरा देवता है। वे कुछ नहीं जानते, न कुछ समझ रखते हैं; क्योंकि उनकी आंखें ऐसी मून्दी गई हैं कि वे देख नहीं सकते; और उनकी बुद्धि ऐसी कि वे बूझ नहीं सकते। कोई इस पर ध्यान नहीं करता, और न किसी को इतना ज्ञान वा समझ रहती है कि कह सके, उसका एक भाग तो मैं ने जला दिया और उसके कोयलों पर रोटी बनाईं; और मांस भूनकर खाया है; फिर क्या मैं उसके बचे हुए भाग को घिनौनी वस्तु बनाऊं? क्या मैं काठ को प्रणाम करूं? वह राख खाता है; भरमाई हुई बुद्धि के कारण वह भटकाया गया है और वह न अपने को बचा सकता और न यह कह सकता है, क्या मेरे दाहिने हाथ में मिथ्या नहीं?” (यशायाह 44:17-20)।

स्वर्गदूतों की उपासना

कुछ ने स्वर्गदूतों जैसे उच्चतर प्राणियों की उपासना करने का विचार किया है, लेकिन यह भी धोखा है। “कोई मनुष्य दीनता और स्वर्गदूतों की पूजा करके तुम्हें दौड़ के प्रतिफल से वंचित न करे। ऐसा मनुष्य देखी हुई बातों में लगा रहता है और अपनी शारीरिक समझ पर व्यर्थ फूलता है” (कुलुस्सियों 2:18)।

शैतान प्रकाश के दूत का रूप धारण कर सकता है (2 कुरिन्थियों 11:14)। हालाँकि, परमेश्वर का एक सच्चा स्वर्गदूत आराधना को स्वीकार नहीं करेगा और इसके बजाय केवल परमेश्वर की आराधना करने की ओर इशारा करेगा। “मैं वही यूहन्ना हूं, जो ये बातें सुनता, और देखता था; और जब मैं ने सुना, और देखा, तो जो स्वर्गदूत मुझे ये बातें दिखाता था, मैं उसके पांवों पर दण्डवत करने के लिये गिर पड़ा। और उस ने मुझ से कहा, देख, ऐसा मत कर; क्योंकि मैं तेरा और तेरे भाई भविष्यद्वक्ताओं और इस पुस्तक की बातों के मानने वालों का संगी दास हूं; परमेश्वर ही को दण्डवत कर” (प्रकाशितवाक्य 22:8-9)।

बाइबल के सच्चे परमेश्वर को जानना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यही जीवन और उद्धार है। “और अनन्त जीवन यह है, कि वे तुझ अद्वैत सच्चे परमेश्वर को और यीशु मसीह को, जिसे तू ने भेजा है, जाने” (यूहन्ना 17:3)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: