क्या बाइबल में शुद्ध और अशुद्ध जानवरों की सूची के अलावा अन्य स्वास्थ्य नियम हैं?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या बाइबल में शुद्ध और अशुद्ध जानवरों की सूची के अलावा अन्य स्वास्थ्य नियम हैं?

“हे प्रिय, मेरी यह प्रार्थना है; कि जैसे तू आत्मिक उन्नति कर रहा है, वैसे ही तू सब बातों मे उन्नति करे, और भला चंगा रहे” (3 यूहन्ना 2)।

जी हाँ, शुद्ध और अशुद्ध जानवरों की सूची के अलावा बाइबल में कई स्वास्थ्य नियम हैं। परमेश्वर के स्वास्थ्य नियमों का पालन करने से “स्वास्थ्य की रक्षा” होती है (भजन 67:2) और बहुतायत का जीवन (यूहन्ना 10:10)। ये महान स्वास्थ्य नियम शैतान की बीमारियों को दूर रखने के लिए एक दीवार या बाड़ की तरह हैं। इनमें से कुछ नियम यहां दिए गए हैं:

  1. धोने और साफ-सफाई “15 और चाहे वह देशी हो वा परदेशी हो, जो कोई किसी लोथ वा फाड़े हुए पशु का मांस खाए वह अपने वस्त्रों को धोकर जल से स्नान करे, और सांझ तक अशुद्ध रहे; तब वह शुद्ध होगा। 16 और यदि वह उन को न धोए और न स्नान करे, तो उसको अपने अधर्म का भार स्वयं उठाना पड़ेगा” (लैव्यव्यवस्था 17:15, 16)।
  2. संक्रामक रोग के लिए संगरोध “जितने दिन तक वह व्याधि उस में रहे उतने दिन तक वह तो अशुद्ध रहेगा; और वह अशुद्ध ठहरा रहे; इसलिये वह अकेला रहा करे, उसका निवास स्थान छावनी के बाहर हो” (लैव्यव्यवस्था 13:46)।
  3. मानव शरीर का मलबा दफना दिया गया। “12 छावनी के बाहर तेरे दिशा फिरने का एक स्थान हुआ करे, और वहीं दिशा फिरने को जाया करना; 13 और तेरे पास के हथियारों में एक खनती भी रहे; और जब तू दिशा फिरने को बैठे, तब उस से खोदकर अपने मल को ढांप देना” (व्यवस्थाविवरण 23:12,13)।
  4. घृणा बीमारी का कारण बनती है “17 अपने मन में एक दूसरे के प्रति बैर न रखना; अपने पड़ोसी को अवश्य डांटना नहीं, तो उसके पाप का भार तुझ को उठाना पड़ेगा। 18 पलटा न लेना, और न अपने जाति भाइयों से बैर रखना, परन्तु एक दूसरे से अपने समान प्रेम रखना; मैं यहोवा हूं” (लैव्यव्यवस्था 19:17, 18; नीतिवचन 15:17; इब्रानियों 12:14, 15) )
  5. यौन रोगों से बचने के लिए नैतिक जीवन “इसलिये अपने उन अंगो को मार डालो, जो पृथ्वी पर हैं, अर्थात व्यभिचार, अशुद्धता, दुष्कामना, बुरी लालसा और लोभ को जो मूर्ति पूजा के बराबर है। इन ही के कारण परमेश्वर का प्रकोप आज्ञा न मानने वालों पर पड़ता है” (कुलुस्सियों 3:5, 6 लैव्यव्यवस्था 18; नीतिवचन 5:1-12)।
  6. पशु चर्बी खाने के लिए मना किया गया है “यह तुम्हारे निवासों में तुम्हारी पीढ़ी पीढ़ी के लिये सदा की विधि ठहरेगी कि तुम चरबी और लोहू कभी न खाओ” (लैव्यव्यवस्था 3:17; 7:22-24)।
  7. जानवरों का खून खाने के लिए मना किया गया है “परन्तु उसका लोहू न खाना; उसे जल की नाईं भूमि पर उंडेल देना” (व्यवस्थाविवरण 12:16)।
  8. अधिक खाने से रोग होता है “और यदि तू खाऊ हो, तो थोड़ा खा कर भूखा उठ जाना” (नीतिवचन 23:2)।
  9. आराम की आवश्यकता “तुम जो सवेरे उठते और देर करके विश्राम करते और दु:ख भरी रोटी खाते हो, यह सब तुम्हारे लिये व्यर्थ ही है; क्योंकि वह अपने प्रियों को यों ही नींद दान करता है” (भजन संहिता 127:2; मरकुस 6:31)।
  10. कार्य का महत्व “छ: दिन तो तू परिश्रम करके अपना सब काम काज करना” (निर्गमन 20:9; 2 थिस्सलुनीकियों 3:10)।
  11. सुखी हृदय एक अच्छी औषधि है “मन का आनन्द अच्छी औषधि है, परन्तु मन के टूटने से हड्डियां सूख जाती हैं” (नीतिवचन 17:22; 1 तीमुथियुस 6:6)।
  12. बच्चे माता-पिता की बुरी आदतों को काटते हैं “तू उन को दण्डवत न करना, और न उनकी उपासना करना; क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा जलन रखने वाला ईश्वर हूं, और जो मुझ से बैर रखते है, उनके बेटों, पोतों, और परपोतों को भी पितरों का दण्ड दिया करता हूं” (निर्गमन 20:5)।
  13. यहोवा पर भरोसा करने से बल मिलता है “यहोवा मेरी चट्टान, और मेरा गढ़ और मेरा छुड़ाने वाला है; मेरा ईश्वर, मेरी चट्टान है, जिसका मैं शरणागत हूं, वह मेरी ढ़ाल और मेरी मुक्ति का सींग, और मेरा ऊँचा गढ़ है” (भजन संहिता 18:2)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या बाइबल चंगाई जड़ी बूटियों का उल्लेख करती है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)मनुष्य ने सदियों से औषधीय जड़ी-बूटियों का उपयोग किया है और महान लाभ प्राप्त किए हैं। ऐसी कई चंगाई जड़ी बूटियाँ हैं जिनका…

एलीशा ने गेहजी को कोढ़ का शाप क्यों दिया था?

Table of Contents नामान अरामीगेहजी का झूठ और लालचगेहजी को एलीशा का संदेशउसके लालच के लिए गेहजी की सजा This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)गेहजी की कहानी 2…