क्या बाइबल में बांझपन की घटनाओं का उल्लेख है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

बाइबल विश्वासयोग्य की कई कहानियों को प्रस्तुत करती है जो बांझपन से जूझ रहे थे लेकिन प्रभु ने उनके जीवन को बदल दिया और उन्हें बच्चे दिए।

अब्राहम और सारा

सबसे प्रसिद्ध वर्णन अब्राहम और सारा की कहानी है जो कई सालों तक बच्चे नहीं कर सके। जब अब्राम 75 साल का था, तो परमेश्‍वर ने पहली बार उसे “महान राष्ट्र” बनने का वचन दिया (उत्पत्ति 12:4)। अब्राहम परमेश्‍वर के वादे पर विश्वास करते हुए रह गया और जब वह लगभग एक सौ साल का हो गया, तो एक बेटे का वादा उसे दोहराया गया। उन्हें यह आश्वासन दिया गया था कि भविष्य का वारिस सारा की संतान होनी चाहिए न कि उसकी दासी हाज़िरा की। अंत में, जब इब्राहीम 100 वर्ष का था और उसकी पत्नी 90 वर्ष की थी, तब परमेश्वर ने अपना वादा पूरा किया (उत्पत्ति 21)। अब्राहम ने महसूस किया कि “यीशु ने उन की ओर देखकर कहा, मनुष्यों से तो यह नहीं हो सकता, परन्तु परमेश्वर से सब कुछ हो सकता है” (मत्ती 19:26)।

रिबका, इसहाक की पत्नी

रिबका बच्चे की जन्म नहीं दे सकती थी। इसहाक और रिबका की शादी को 19 साल हो गए थे (उत्पत्ति 25:20,26), और अभी भी निःसंतान थे। इसलिए, इसहाक ने अपनी पत्नी की ओर से यहोवा से प्रार्थना की, क्योंकि वह निःसंतान थी। यहोवा ने उसकी प्रार्थना का जवाब दिया, और उसकी पत्नी रिबका गर्भवती हो गई ”(उत्पत्ति 25:21)। इसहाक परमेश्वर की दया पर निर्भर था और उसने अपनी प्रार्थना का जवाब प्राप्त किया और रिबका ने उसे जुड़वाँ बच्चे – याकूब और एसाव।

राहेल, याकूब की पत्नी

राहेल भी बच्चे को जन्म नहीं दे सकती थी, लेकिन शास्त्र हमें बताते हैं कि, “और परमेश्वर ने राहेल की भी सुधि ली, और उसकी सुनकर उसकी कोख खोली। सो वह गर्भवती हुई और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; सो उसने कहा, परमेश्वर ने मेरी नामधराई को दूर कर दिया है। सो उसने यह कह कर उसका नाम यूसुफ रखा, कि परमेश्वर मुझे एक पुत्र और भी देगा” (उत्पत्ति 30:22-24)। जब राहेल प्रार्थना में प्रभु के पास अपनी समस्या लेकर गई, तो उसकी याचिका पर सुनवाई हुई। और उस विश्वास प्राप्त किया गया जिसे पहले अधीरता और अविश्वास ने रोका था।

एल्काना की पत्नी हन्ना

हन्ना बच्चे जन्मने में असमर्थ थी (1 शमूएल 1-2)। इसलिए, हन्ना जब वह शीलो में परमेश्वर के तंबू में थी, एक प्रतिज्ञा की, “और उसने यह मन्नत मानी, कि हे सेनाओं के यहोवा, यदि तू अपनी दासी के दु:ख पर सचमुच दृष्टि करे, और मेरी सुधि ले, और अपनी दासी को भूल न जाए, और अपनी दासी को पुत्र दे, तो मैं उसे उसके जीवन भर के लिये यहोवा को अर्पण करूंगी, और उसके सिर पर छुरा फिरने न पाएगा”(1 शमूएल 1:11)। एली याजक ने, जब उसने हन्ना को प्रार्थना करते हुए देखा, तो उससे कहा “कुशल से चली जा; इस्राएल का परमेश्वर तुझे मन चाहा वर दे” (पद 17)। तब हन्ना गर्भवती हुई और समय पर उसके एक पुत्र हुआ, और उसका नाम शमूएल रखा, क्योंकि वह कहने लगी, मैं ने यहोवा से मांगकर इसे पाया है।”(पद 20)। तब, हन्‍ना ने यहोवा से अपनी मन्‍नत पूरी की।

परमेश्वर में विश्वास

जो लोग बांझपन से जूझ रहे हैं, उन्हें पता होना चाहिए कि परमेश्वर का उस हर चीज में एक उद्देश्य है जो उसके बच्चों के साथ होता है (रोमियों 8:28)। वह उनकी खुद की प्रार्थनाओं को भी सुनता है ताकि वे उसे उनके दिल की इच्छाओं को दे सकें (भजन संहिता 37:4)। लेकिन नतीजा क्या है, इस पर किसी भी विश्वास करने वालों को भरोसा करने की ज़रूरत है कि परमेश्वर अंततः वही करेंगे जो उनके लिए सबसे अच्छा है “यहोवा ने सब वस्तुएं विशेष उद्देश्य के लिये बनाईं हैं” (नीतिवचन 16: 4)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk  टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: