क्या प्रकाशितवाक्य 17 बाबुल के रूप में पोप-तंत्र की पहचान करता है?

बाइबल की भविष्यद्वाणी में, एक स्त्री एक कलिसिया का प्रतीक है। एक शुद्ध स्त्री परमेश्वर कि सच्ची कलिसिया (प्रकाशितवाक्य 12) का प्रतिनिधित्व करती है और एक अविश्वासी स्त्री एक ऐसी कलिसिया का प्रतिनिधित्व करती है जो परमेश्वर की बाइबिल की सच्चाइयों का पालन नहीं करती है। हम पहचान सकते हैं कि यह अविश्वासी स्त्री कौन है, क्योंकि प्रकाशितवाक्य 17:18 कहती है कि जब वह प्रकाशितवाक्य की किताब लिखी गई थी तब वह शासन कर रही थी। इतिहास बताता है कि यह मूर्तिपूजक रोम था (लुका 2: 1)  जिसे अंततः अपने अधिकार, राजधानी शहर, और सत्ता को रोम में बदल दिया।

प्रकाशितवाक्य 17 बाबुल के बारे में निम्नलिखित बातें बताता है:

(क) वह निन्दा की दोषी है (पद 3)।

(ख) वह बैंगनी और किरिमजी कपड़े पहने हुए है (पद 4)।

(ग) उसे माता कहा जाता है (पद 5)। और

(घ)  उसकी बेटियाँ हैं जो पतित हैं (पद 5)।

(ड़) पोप-तंत्र ने संतों को सताया और शहीद किया (पद 6)।

(च) वह “सात पहाड़ों” पर बैठी है (पद 9)।

(छ) उसने “पृथ्वी के राजाओं” पर शासन किया(पद18)।

आईए तथ्यों की समीक्षा करें:

(क) ह निन्दा की दोषी है (पद 3)।

बाइबल ईश निंदा को मनुष्य के दावे के रूप में परिभाषित करती है:

पहला- पापों को क्षमा करने का दावा(लूका 5:21)। पोप-तंत्र पापों को क्षमा करने की शक्ति का दावा करता है:

यहाँ एक कैथोलिक कैटकिज़म से एक खंड है: “क्या पादरी वास्तव में पापों को क्षमा कर देता है, या क्या वह केवल यह घोषणा करता है कि वे पदमुक्त हैं? पादरी सही में और वास्तव में मसीह द्वारा उसे दी गई शक्ति के फलस्वरूप पापों को क्षमा कर देता है।” जोसेफ डेहरबे, एस.जे., ए कम्प्लीट कैटकिज़म ऑफ़ द कैथोलिक रीलिजन (न्यूयॉर्क: श्वार्ट्ज़, किर्विन एंड फ़ॉज़, 1924), पृष्ठ 279।

दूसरा- ईश्वर होने का दावा करना (यूहन्ना 10:33)। पोप-तंत्र का यह भी दावा है कि पोप परमेश्वर के बराबर है।

पोप लियो XIII ने कहा, “हम [पोप] इस पृथ्वी पर सर्वशक्तिमान ईश्वर का स्थान रखते हैं।” क्रिस्टोफर मार्सेलस, ओरेशन इन द फिफ्थ लेटर्न  काउन्सल, सत्र IV (1512), पांडुलिपि एससी, वॉल्यूम 32, कॉल. 761 (लैटिन)।

यहाँ पोप के बारे में एक और कथन दिया गया है: “तू पृथ्वी पर एक और ईश्वर है।” पोप लियो XIII, एनसाइक्लिकल लेटर “द रीयूनियन ऑफ क्रिस्टेंडोम” (दिनांक 20 जून, 1894) ग्रेट एनसाईक्लिक लेटर्स ऑफ पोप लियो XIII में अनुवादित (न्यूयॉर्क: बेंज़िगर, 1903), पृष्ठ 304।

(ख) वह बैंगनी और किरिमजी कपड़े पहने हुए है (पद 4)।

किरिमजी कार्डिनल्स के वस्त्र का रंग है और पोप अक्सर बैंगनी का शाही रंग पहनते हैं।

(ग) उसे माता कहा जाता है (पद 5)। और

(घ)  उसकी बेटियाँ हैं जो पतित हैं (पद 5)।

कैथोलिक कलिसिया वह मातृ कलिसिया है जिसकी बेटियों ने विरोध किया और इस प्रकार उसे “प्रोटेस्टेंट” कहा जाने लगा लेकिन बाद में उसका अनुसरण किया जाने लगा। फादर जेम्स ए ओ’ब्रायन के इस प्रमाण पर ध्यान दें: “शनिवार के बजाय रविवार का वह पालन] माता कलिसिया की याद दिलाता है, जहां से गैर-कैथोलिक संप्रदाय टूट गए थे।” द फेथ ऑफ मिलियन्स (हंटिंगटन, इन: अवर संडे विजिटर, आइएनसी  1974), पृष्ठ 401।

(ड़) पोप-तंत्र ने संतों को सताया और शहीद किया (पद 6)।

इतिहासकारों का अनुमान है कि, अंधकार युग में 50,000,000 से अधिक शहीद उनके विश्वास के लिए नाश हो गए थे (हैलीज बाइबल हैंडबुक, 1965 संस्करण, पृष्ठ 726)।

(च) वह “सात पहाड़ों” पर बैठी है (पद 9)।

भौगोलिक रूप से रोम सात पहाड़ियों पर बसा है। “रोमुलस का मूल शहर पैलेटाइन हिल (लैटिन: मॉन्स पलटिनस) पर बनाया गया था। अन्य पहाड़ियां कैपिटोलिन, क्विरिनल, विमिन, एस्क्विलाइन, कैलेन और एवेंटिन हैं – एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका।

(छ) उसने “पृथ्वी के राजाओं” पर शासन किया(पद18)।

इतिहास से पता चलता है कि अंधकार युग के दौरान रोमन कैथोलिक कलिसिया एक विश्व साम्राज्य था।

पोप-तंत्र “भेद – बड़ा बाबुल पृथ्वी की वेश्याओं और घृणित वस्तुओं की माता” (प्रकाशितवाक्य 17: 5) के हर विवरण पर सटीक बैठता है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

अस्वीकरण:

इस लेख और वेबसाइट की सामग्री किसी भी व्यक्ति के खिलाफ होने का इरादा नहीं है। रोमन कैथोलिक धर्म में कई पादरी और वफादार विश्वासी हैं जो अपने ज्ञान की सर्वश्रेष्ठता से परमेश्वर की सेवा करते हैं और परमेश्वर को उनके बच्चों के रूप में देखते हैं। इसमें निहित जानकारी केवल रोमन कैथोलिक धर्म-राजनीतिक प्रणाली की ओर निर्देशित है जिसने लगभग दो सहस्राब्दियों (हज़ार वर्ष) तक सत्ता की अलग-अलग आज्ञा में शासन किया है। इस प्रणाली ने कई सिद्धांतों और बयानों की स्थापना की है जो सीधे बाइबल के खिलाफ जाते हैं।

हमारा उद्देश्य है कि हम आपके सामने परमेश्वर के स्पष्ट वचन को, सत्य की तलाश करने वाले पाठक को, स्वयं तय कर सकें कि सत्य क्या है और त्रुटि क्या है। अगर आपको यहाँ कुछ भी बाइबल के विपरीत लगता है, तो इसे स्वीकार न करें। लेकिन अगर आप छिपे हुए खज़ाने के रूप में सत्य की तलाश करना चाहते हैं, और यहाँ उस गुण का कुछ पता लगाएं और महसूस करें कि पवित्र आत्मा सत्य को प्रकट कर रहा है, तो कृपया इसे स्वीकार करने के लिए सभी जल्दबाजी करें।

More answers: