क्या पौलूस ने अपनी पत्रियों में कलिसियाओं के लिए सब्त को समाप्त नहीं किया?

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic)

पौलूस ने अपनी पत्रियों में कलिसियाओं के लिए सब्त को समाप्त नहीं किया। उसने विशेष रूप से खतना जैसे मूसा की व्यवस्था की रीति-विधि को समाप्त कर दिया। कृपया ध्यान दें कि दो अलग और भिन्न व्यवस्था हैं – परमेश्वर की नैतिक व्यवस्था और मूसा की रैतिक व्यवस्था।

प्रेरितों ने मसीहीयत की स्वतंत्रता में चलने के लिए मूसा की रीति से अन्यजातियों को स्वतंत्र करने का प्रयास किया। उसमें, पौलुस ने यीशु के उदाहरण का अनुसरण किया, जिसने स्पष्ट रूप से कहा था कि खतना मूसा की व्यवस्था से था। और उसने सब्त के पालन में परमेश्वर की व्यवस्था से ऊपर मूसा की व्यवस्था को बनाए रखने के लिए फरीसियों को फटकार लगाई।

यीशु ने कहा, “इसी कारण मूसा ने तुम्हें खतने की आज्ञा दी है (यह नहीं कि वह मूसा की ओर से है परन्तु बाप-दादों से चली आई है), और तुम सब्त के दिन को मनुष्य का खतना करते हो। जब सब्त के दिन मनुष्य का खतना किया जाता है ताकि मूसा की व्यवस्था की आज्ञा टल न जाए, तो तुम मुझ पर क्यों इसलिये क्रोध करते हो, कि मैं ने सब्त के दिन एक मनुष्य को पूरी रीति से चंगा किया” (यूहन्ना 7:22-23)।

खतना (सब्त नहीं) वह मुद्दा था जिसके कारण येरुशलेम महासभा का गठन हुआ

पेंतेकुस्त के बाद, परमेश्वर ने अन्यजातियों पर अपना आत्मा उँड़ेला, जिनका खतना नहीं हुआ था। “और जितने खतना किए हुए विश्वासी पतरस के साथ आए थे, वे सब चकित हुए कि अन्यजातियों पर भी पवित्र आत्मा का दान उंडेला गया है” (प्रेरितों के काम 10:45)। इसलिए, जब पतरस येरुशलेम गया, तो खतना करने वालों ने उसकी आलोचना की। उसने कहा, “और जब पतरस यरूशलेम में आया, तो खतना किए हुए लोग उस से वाद-विवाद करने लगे। कि तू ने खतनारिहत लोगों के यहां जाकर उन से साथ खाया!” (प्रेरितों के काम 11:2,3)।

खतना के इस मुद्दे ने शुरुआती कलिसिया में यहूदियों से विवाद का कारण बना। और “कुछ लोग यहूदिया से आए और भाइयों को सिखा रहे थे,” जब तक कि मूसा की रीति के अनुसार तुम्हारा खतना नहीं किया जाता, तब तक तुम्हें बचाया नहीं जा सकता। और जब पौलुस और बरनाबास की उनके साथ कोई छोटी-मोटी अनबन और बहस नहीं हुई, तो पौलुस और बरनबास और कुछ अन्य लोग इस सवाल के बारे में प्रेरितों और प्राचीनों के लिए येरुशलेम तक जाने के लिए नियुक्त हुए … जब वे येरुशलेम आए, तो उनका स्वागत किया गया। कलिसिया और प्रेरितों और प्राचीन… लेकिन कुछ विश्वासी जो फरीसियों के करने वालों के थे, उठे और उन्होंने कहा, “यह आवश्यक है कि उनका खतना किया जाए और उन्हें मूसा की व्यवस्था को बनाए रखने के लिए आदेश दिया जाए …” (प्रेरितों के काम 15: 1-41 )।

येरुशलेम महासभा ने अन्यजातियों को मूसा की व्यवस्था के खतना से स्वतंत्र कर दिया

चर्चा के बाद, प्रेरितों और प्राचीनों ने कलिसिया को यह कहते हुए अपना फरमान सुनाया: “हम ने सुना है, कि हम में से कितनों ने वहां जाकर, तुम्हें अपनी बातों से घबरा दिया; और तुम्हारे मन उलट दिए हैं परन्तु हम ने उन को आज्ञा नहीं दी थी। पवित्र आत्मा को, और हम को ठीक जान पड़ा, कि इन आवश्यक बातों को छोड़; तुम पर और बोझ न डालें; कि तुम मूरतों के बलि किए हुओं से, और लोहू से, और गला घोंटे हुओं के मांस से, और व्यभिचार से, परे रहो। इन से परे रहो; तो तुम्हारा भला होगा आगे शुभ” (प्रेरितों के काम 15: 24,28, 29)।

येरुशलेम महासभा के बाद

जबकि अधिकांश विश्वासियों ने येरुशलेम की महासभा के निर्णय को स्वीकार कर लिया, कई यहूदी धर्मान्तरित लोग इसे विवाद का विषय बना रहे थे। और उन्होंने अपनी प्रचार यात्रा में पौलूस का अनुसरण किया और उसकी शिक्षा का विरोध किया। और उन्होंने अन्यजातियों पर खतना करने और मूसा की व्यवस्था को बनाए रखने का आग्रह किया। काफी यहूदियों के लिए, “पौलूस चाहता था कि तीमुथियुस उसका साथ दे, और वह उसे ले गया और यहूदियों की वजह से उसका खतना किया जो उन जगहों पर थे, क्योंकि वे सभी जानते थे कि उसका पिता एक यूनानी था …” (प्रेरितों के काम 16: 1-40)।

रोमियों को पौलूस की पत्री

फिर, यहूदियों ने पौलूस का रोम तक पीछा किया और वहाँ के मसीहीयों को परेशान किया और उन्हें खतना करवाने का आग्रह किया। लेकिन पौलुस ने सिखाया कि परमेश्वर को अब हृदय के खतना की आवश्यकता है न कि मांस की। उसने उपदेश दिया, ” यदि तू व्यवस्था पर चले, तो खतने से लाभ तो है, परन्तु यदि तू व्यवस्था को न माने, तो तेरा खतना बिन खतना की दशा ठहरा। सो यदि खतना रहित मनुष्य व्यवस्था की विधियों को माना करे, तो क्या उस की बिन खतना की दशा खतने के बराबर न गिनी जाएगी? और जो मनुष्य जाति के कारण बिन खतना रहा यदि वह व्यवस्था को पूरा करे, तो क्या तुझे जो लेख पाने और खतना किए जाने पर भी व्यवस्था को माना नहीं करता है, दोषी न ठहराएगा? क्योंकि वह यहूदी नहीं, जो प्रगट में यहूदी है और न वह खतना है जो प्रगट में है, और देह में है। पर यहूदी वही है, जो मन में है; और खतना वही है, जो हृदय का और आत्मा में है; न कि लेख का: ऐसे की प्रशंसा मनुष्यों की ओर से नहीं, परन्तु परमेश्वर की ओर से होती है” (रोमियों 2: 25-29)। उसने कहा, “यहूदी की क्या बड़ाई, या खतने का क्या लाभ? हर प्रकार से बहुत कुछ। पहिले तो यह कि परमेश्वर के वचन उन को सौंपे गए” (रोमियों 3: 1,2)।

प्रेरित ने ज़ोर देकर कहा कि यह विश्वास है जो बचाता है खतना नहीं। उसने कहा, “तो यह धन्य कहना, क्या खतना वालों ही के लिये है, या खतना रहितों के लिये भी? हम यह कहते हैं, कि इब्राहीम के लिये उसका विश्वास धामिर्कता गिना गया। तो वह क्योंकर गिना गया खतने की दशा में या बिना खतने की दशा में? खतने की दशा में नहीं परन्तु बिना खतने की दशा में। और उस ने खतने का चिन्ह पाया, कि उस विश्वास की धामिर्कता पर छाप हो जाए, जो उस ने बिना खतने की दशा में रखा था: जिस से वह उन सब का पिता ठहरे, जो बिना खतने की दशा में विश्वास करते हैं, और कि वे भी धर्मी ठहरें” (रोमियों 4: 9-11)। और उसने घोषणा की, “मैं कहता हूं, कि जो प्रतिज्ञाएं बाप दादों को दी गई थीं, उन्हें दृढ़ करने के लिये मसीह, परमेश्वर की सच्चाई का प्रमाण देने के लिये खतना किए हुए लोगों का सेवक बना” (रोमियों 15: 8)।

कुरिन्थियों को पौलूस की पत्री

फिर से, यहूदियों के काम को नष्ट करने के लिए, पौलूस ने परमेश्वर की आज्ञाओं को मूसा का खतना नहीं मानने पर जोर दिया। उसने कहा, “जो खतना किया हुआ बुलाया गया हो, वह खतनारिहत न बने: जो खतनारिहत बुलाया गया हो, वह खतना न कराए। न खतना कुछ है, और न खतनारिहत परन्तु परमेश्वर की आज्ञाओं को मानना ही सब कुछ है” (1 कुरिन्थियों 7:18,19)।

गलातियों को पौलूस की पत्री

यहाँ, पौलूस ने “झूठे भाइयों” की गलत शिक्षाओं को ठीक करने की कोशिश की, जिन्होंने अन्यजातियों पर खतने को आगे बढ़ाया। उसने कहा, “और मेरा जाना ईश्वरीय प्रकाश के अनुसार हुआ: और जो सुसमाचार मैं अन्यजातियों में प्रचार करता हूं, उस को मैं ने उन्हें बता दिया, पर एकान्त में उन्हीं को जो बड़े समझे जाते थे, ताकि ऐसा न हो, कि मेरी इस समय की, या अगली दौड़ धूप व्यर्थ ठहरे। और यह उन झूठे भाइयों के कारण हुआ, जो चोरी से घुस आए थे, कि उस स्वतंत्रता का जो मसीह यीशु में हमें मिली है, भेद लेकर हमें दास बनाएं। और जब उन्होंने उस अनुग्रह को जो मुझे मिला था जान लिया, तो याकूब, और कैफा, और यूहन्ना ने जो कलीसिया के खम्भे समझे जाते थे, मुझ को और बरनबास को दाहिना हाथ देकर संग कर लिया, कि हम अन्यजातियों के पास जाएं, और वे खतना किए हुओं के पास। इसलिये कि याकूब की ओर से कितने लोगों के आने से पहिले वह अन्यजातियों के साथ खाया करता था, परन्तु जब वे आए, तो खतना किए हुए लोगों के डर के मारे उन से हट गया और किनारा करने लगा” ( गलातियों 2: 2,4,9, 12)।

अफसोस की बात है कि खतना का मुद्दा इस हद तक बढ़ गया कि यह याकूब के लिए डर और पौलूस के लिए भी सताहट का कारण बना। “इसलिये कि याकूब की ओर से कितने लोगों के आने से पहिले वह अन्यजातियों के साथ खाया करता था, परन्तु जब वे आए, तो खतना किए हुए लोगों के डर के मारे उन से हट गया और किनारा करने लगा। देखो, मैं पौलुस तुम से कहता हूं, कि यदि खतना कराओगे, तो मसीह से तुम्हें कुछ लाभ न होगा। फिर भी मैं हर एक खतना कराने वाले को जताए देता हूं, कि उसे सारी व्यवस्था माननी पड़ेगी। परन्तु हे भाइयो, यदि मैं अब तक खतना का प्रचार करता हूं, तो क्यों अब तक सताया जाता हूं; फिर तो क्रूस की ठोकर जाती रही” (गलातियों 2:12; 5: 2,3,11)।

इसलिए, पौलूस ने खतने से ऊपर विश्वास और परिवर्तन पर जोर दिया। उसने कहा, ” और मसीह यीशु में न खतना, न खतनारिहत कुछ काम का है, परन्तु केवल, जो प्रेम के द्वारा प्रभाव करता है। जितने लोग शरीरिक दिखावा चाहते हैं वे तुम्हारे खतना करवाने के लिये दबाव देते हैं, केवल इसलिये कि वे मसीह के क्रूस के कारण सताए न जाएं। क्योंकि खतना कराने वाले आप तो, व्यवस्था पर नहीं चलते, पर तुम्हारा खतना कराना इसलिये चाहते हैं, कि तुम्हारी शारीरिक दशा पर घमण्ड करें” (गलतियों 5: 6; 6: 12,13)। और उसने अंतिम आह्वान करते हुए कहा, “क्योंकि न खतना, और न खतनारिहत कुछ है, परन्तु नई सृष्टि” (गलातियों 6:15)।

इफिसियों को पौलूस की पत्री

पौलूस ने सिखाया कि उद्धार विश्वास के माध्यम से होता है न कि खतने के काम से। उसने कहा, “क्योंकि विश्वास के द्वारा अनुग्रह ही से तुम्हारा उद्धार हुआ है, और यह तुम्हारी ओर से नहीं, वरन परमेश्वर का दान है। और न कर्मों के कारण, ऐसा न हो कि कोई घमण्ड करे। इस कारण स्मरण करो, कि तुम जो शारीरिक रीति से अन्यजाति हो, (और जो लोग शरीर में हाथ के किए हुए खतने से खतना वाले कहलाते हैं, वे तुम को खतना रहित कहते हैं)। (इफिसियों 2: 8-9,11)। और पौलूस ने अपना प्रसिद्ध फैसला सुनाया, “और अपने शरीर में बैर अर्थात वह व्यवस्था जिस की आज्ञाएं विधियों की रीति पर थीं, मिटा दिया, कि दोनों से अपने में एक नया मनुष्य उत्पन्न करके मेल करा दे” (इफिसियों 2:15)।

फिलिप्पियों को पौलूस की पत्री

वहाँ प्रेरित पौलुस ने फिर सिखाया कि खतना देह का काम है, आत्मा का नहीं। उसने कहा, “कुत्तों से चौकस रहो, उन बुरे काम करने वालों से चौकस रहो, उन काट कूट करने वालों से चौकस रहो। क्योंकि खतना वाले तो हम ही हैं जो परमेश्वर के आत्मा की अगुवाई से उपासना करते हैं, और मसीह यीशु पर घमण्ड करते हैं और शरीर पर भरोसा नहीं रखते। पर मैं तो शरीर पर भी भरोसा रख सकता हूं यदि किसी और को शरीर पर भरोसा रखने का विचार हो, तो मैं उस से भी बढ़कर रख सकता हूं। आठवें दिन मेरा खतना हुआ, इस्त्राएल के वंश, और बिन्यामीन के गोत्र का हूं; इब्रानियों का इब्रानी हूं; व्यवस्था के विषय में यदि कहो तो फरीसी हूं………….” (फिलिप्पियों 3: 1-21)।

कुलुस्सियों को पौलूस की पत्री

फिर, पौलूस ने कुलुस्सियों को सिखाया कि नए नियम में यीशु उनका खतना बन गया। उसने कहा, ” उसी में तुम्हारा ऐसा खतना हुआ है, जो हाथ से नहीं होता, अर्थात मसीह का खतना, जिस से शारीरिक देह उतार दी जाती है। और उसी के साथ बपतिस्मा में गाड़े गए, और उसी में परमेश्वर की शक्ति पर विश्वास करके, जिस ने उस को मरे हुओं में से जिलाया, उसके साथ जी भी उठे। और उस ने तुम्हें भी, जो अपने अपराधों, और अपने शरीर की खतनारिहत दशा में मुर्दा थे, उसके साथ जिलाया, और हमारे सब अपराधों को क्षमा किया” (कुलुस्सियों 2:11-13)।

तीतुस को पौलूस की पत्री

यहाँ, पौलूस फिर से खतना करने वालों में धोखेबाजों को संदर्भित करता है: “क्योंकि बहुत से लोग निरंकुश बकवादी और धोखा देने वाले हैं; विशेष करके खतना वालों में से” (तीतुस 1:10)। ये धोखेबाज “व्यवस्था के शिक्षक” (1 तीमुथियुस 1: 7) के समान विकृत थे, जिन्होंने खतना और मूसा की व्यवस्था की अन्य रीतियों की आवश्यकता को बनाए रखा।

निष्कर्ष

प्रेरितों के नेतृत्व में यरूशलेम महासभा का आयोजन “खतना” और “मूसा की व्यवस्था” के “इस सवाल……. पर चर्चा करने के लिए किया गया था” (प्रेरितों के काम 15: 1, 2, 5)। खुद सब्त पर बहस या चर्चा भी नहीं हुई। कलिसिया ने तय किया कि अन्यजातियों को “प्रभु यीशु मसीह की कृपा से” बचाया गया था (पद 11)। और इस प्रकार, उन्हें खतना करने की आवश्यकता नहीं थी।

कलिसिया के इतिहास की इस आरंभिक तिथि में, विश्वास करते हैं कि अन्यजातियों ने अभी भी यहूदियों के साथ उनके आराधनालय “हर सब्त दिन” ​​(पद 21) में आराधना की थी। इस प्रकार, पद 21 यह साबित करता है कि “सब्त का दिन” यरूशलेम महासभा द्वारा रविवार को नहीं बदला गया था। शिष्यों ने सातवें दिन सब्त को माना था।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्यों मॉर्मन वंशावली करते हैं?

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic)मॉर्मन या लैटर डे सेंट्स “मृतकों के लिए बपतिस्मा” के अपने विश्वास और अभ्यास के कारण वंशावली करते हैं। मृतकों के…
View Post

पेन्तेकुस्त सप्ताह के किस दिन था?

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic)“फिर जब तू खेत में हंसुआ लगाने लगे, तब से आरम्भ करके सात अठवारे गिनना” (व्यवस्थाविवरण 16: 9)। पेन्तेकुस्त  शब्द का…
View Post