क्या पौलुस ने सातवें दिन सब्त का पालन किया ?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

बाइबल हमें बताती है कि पौलुस ने सातवाँ दिन सब्त का पालन किया। आइए पवित्रशास्त्र के पद्यांशों को देखें:

1-पौलुस में सब्त का पालन करने की प्रथा थी।

“और पौलुस अपनी रीति के अनुसार उन के पास गया, और तीन सब्त के दिन पवित्र शास्त्रों से उन के साथ विवाद किया” (प्रेरितों के काम 17:2)। पौलुस की रीति थी कि वह सब्त के दिन उपासना करे।

2-पौलुस न केवल यहूदियों के साथ बल्कि अन्यजातियों के साथ भी सब्त का पालन करता रहा।

“14 और पिरगा से आगे बढ़कर के पिसिदिया के अन्ताकिया में पहुंचे; और सब्त के दिन अराधनालय में जाकर बैठ गए।

42 उन के बाहर निकलते समय लोग उन से बिनती करने लगे, कि अगले सब्त के दिन हमें ये बातें फिर सुनाईं जाएं।

44 अगले सब्त के दिन नगर के प्राय: सब लोग परमेश्वर का वचन सुनने को इकट्ठे हो गए” (प्रेरितों के काम 13:14,42,44)।

3-प्रेरित ने सब्त को अन्यजातियों के शहरों में भी पालन किया, जहां आराधनालय नहीं थे।

“13 सब्त के दिन हम नगर के फाटक के बाहर नदी के किनारे यह समझकर गए, कि वहां प्रार्थना करने का स्थान होगा; और बैठकर उन स्त्रियों से जो इकट्ठी हुई थीं, बातें करने लगे” (प्रेरितों के काम 16:13)।

4-पौलुस ने कुरिन्थ में यहूदियों और यूनानियों दोनों को राजी करने के लिए 78 सब्त मनाए (प्रेरितों के काम 18:11)।

“1 इस के बाद पौलुस अथेने को छोड़कर कुरिन्थुस में आया।

2 और वहां अक्विला नाम एक यहूदी मिला, जिस का जन्म पुन्तुस का था; और अपनी पत्नी प्रिस्किल्ला समेत इतालिया से नया आया था, क्योंकि क्लौदियुस ने सब यहूदियों को रोम से निकल जाने की आज्ञा दी थी, सो वह उन के यहां गया।

3 और उसका और उन का एक ही उद्यम था; इसलिये वह उन के साथ रहा, और वे काम करने लगे, और उन का उद्यम तम्बू बनाने का था।

4 और वह हर एक सब्त के दिन आराधनालय में वाद-विवाद करके यहूदियों और यूनानियों को भी समझाता था” प्रेरितों के काम (18:1-4)।

उपरोक्त सन्दर्भ हमें बताता है कि पौलुस “हर सब्त के दिन आराधनालय में तर्क-वितर्क करता था।” परन्तु वह कब तक कुरिन्थुस में रहा? बाइबल हमें बताती है, 8 तब आराधनालय के सरदार क्रिस्पुस ने अपने सारे घराने समेत प्रभु पर विश्वास किया; और बहुत से कुरिन्थी सुनकर विश्वास लाए और बपतिस्मा लिया।

9 और प्रभु ने रात को दर्शन के द्वारा पौलुस से कहा, मत डर, वरन कहे जा, और चुप मत रह।

10 क्योंकि मैं तेरे साथ हूं: और कोई तुझ पर चढ़ाई करके तेरी हानि न करेगा; क्योंकि इस नगर में मेरे बहुत से लोग हैं।

11 सो वह उन में परमेश्वर का वचन सिखाते हुए डेढ़ वर्ष तक रहा” (प्रेरितों के काम 18:8-11)।

प्रेरित वहाँ हर सब्त के दिन एक साल और छह महीने के लिए था। यदि हम इस अवधि को गिनें, तो यह एक वर्ष में 52 सब्त और अगले छः महीनों में 26 सब्तों को जोड़ देगा जो हमें कुल 78 सब्त देता है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: