क्या पापी मनुष्यों के लिए परमेश्वर की सिद्ध व्यवस्था का पालन करना संभव है?

Author: BibleAsk Hindi


बहुतों का मानना ​​है कि केवल मसीह ही उस व्यवस्था का पालन कर सकता था और केवल इसलिए कि वह परमेश्वर था और उसके पास विशेष शक्तियाँ थीं जो हमें उपलब्ध नहीं कराई गई थीं। लेकिन अच्छी खबर यह है कि यीशु ने अपनी जीत हमारी बनाई “क्योंकि जो काम व्यवस्था शरीर के कारण दुर्बल होकर न कर सकी, उस को परमेश्वर ने किया, अर्थात अपने ही पुत्र को पापमय शरीर की समानता में, और पाप के बलिदान होने के लिये भेजकर, शरीर में पाप पर दण्ड की आज्ञा दी। इसलिये कि व्यवस्था की विधि हम में जो शरीर के अनुसार नहीं वरन आत्मा के अनुसार चलते हैं, पूरी की जाए” (रोमियों 8: 3, 4)।

यीशु देह में अपने सिद्ध जीवन के द्वारा पाप को अपराधी ठहराने के लिए आया था ताकि “व्यवस्था की धार्मिकता” हम में पूरी हो सके। वह धार्मिकता क्या है? यूनानी शब्द “डिकाइमा” का उपयोग यहां किया गया है, जिसका शाब्दिक अर्थ है, “व्यवस्था की उचित आवश्यकता”। मसीह ने उसी जीत को हमें उपलब्ध कराने के लिए अपनी सही जीत हासिल की।

पौलूस ने विजयी रूप से घोषणा की, “जो मुझे सामर्थ देता है उस में मैं सब कुछ कर सकता हूं” (फिलिप्पियों 4:13)। केवल ईश्वर की शक्ति और सामर्थ से ही व्यवस्था की आवश्यकताओं को किसी के द्वारा पूरा किया जा सकता है। कोई भी दस आज्ञाओं को कभी भी मानव शक्ति में अकेले नहीं मान सकता है, लेकिन उन सभी को यीशु की सक्षमता के माध्यम से माना जा सकता है (यूहन्ना 15: 5)।

इसलिए, यीशु शुद्धता के लिए अपनी धार्मिकता को लागू करता है और विजयी जीवन के लिए अपनी धार्मिकता प्रदान करता है। “परन्तु परमेश्वर का धन्यवाद हो, जो हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा हमें जयवन्त करता है” (1 कुरिन्थियों 15:57)। ईश्वर की कृपा का उद्देश्य यह दिखाना है कि मनुष्य को ईश्वर के साथ रहने और पाप के सभी प्रभावों से पूर्णता और स्वतंत्रता की उसकी मूल स्थिति में लाने के लिए, हमारे प्रभु यीशु मसीह के माध्यम से ईश्वर की शक्तिशाली शक्ति द्वारा लाया जाता है। (रोमियों 7:25)। इसके लिए, बचाए गए अनंत काल तक विपक्षी की शक्ति पर अपनी विजय के लिए परमेश्वर की प्रशंसा और महिमा करेंगे (प्रकाशीतवाक्य 5: 11–13; 15: 3, 4; 19; 5: 6)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment