क्या पवित्र आत्मा एक बल है या वह ईश्वर है?

This page is also available in: English (English)

जब हम पवित्र आत्मा की सेवकाई का अध्ययन करते हैं, तो हम देख सकते हैं कि उसके पास एक अलग और विशिष्ट, बुद्धिमान, व्यक्तिगत व्यक्ति और सिर्फ न केवल एक ताकत है।

उसकी सेवकाई की समीक्षा करें:

1-पवित्र आत्मा अगुवाई करता है  “परन्तु जब वह अर्थात सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा, परन्तु जो कुछ सुनेगा, वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा” (यूहन्ना 16:13)। यीशु ने पवित्र आत्मा को “वह” 15 से अधिक बार बुलाया।

2-पवित्र आत्मा सांत्वना देता है “और मैं पिता से बिनती करूंगा, और वह तुम्हें एक और सहायक देगा, कि वह सर्वदा तुम्हारे साथ रहे” (यूहन्ना 14:16)।

3-पवित्र आत्मा निरुतर करता है “और वह आकर संसार को पाप और धामिर्कता और न्याय के विषय में निरूत्तर करेगा” (यूहन्ना 16: 8)।

4-पवित्र आत्मा को भी शोकित किया जा सकता है “और परमेश्वर के पवित्र आत्मा को शोकित मत करो, जिस से तुम पर छुटकारे के दिन के लिये छाप दी गई है।” (इफिसियों 4:30)।

5-पवित्र आत्मा प्रेरणा देता है “क्योंकि कोई भी भविष्यद्वाणी मनुष्य की इच्छा से कभी नहीं हुई पर भक्त जन पवित्र आत्मा के द्वारा उभारे जाकर परमेश्वर की ओर से बोलते थे” (2 पतरस 1:21)।

6-पवित्र आत्मा आशीर्वाद देता है “यूहन्ना की ओर से आसिया की सात कलीसियाओं के नाम: उस की ओर से जो है, और जो था, और जो आने वाला है; और उन सात आत्माओं की ओर से, जो उसके सिंहासन के साम्हने हैं” (प्रकाशितवाक्य 1: 4)।

7-पवित्र आत्मा की निन्दा की जा सकती है, “इसलिये मैं तुम से कहता हूं, कि मनुष्य का सब प्रकार का पाप और निन्दा क्षमा की जाएगी, पर आत्मा की निन्दा क्षमा न की जाएगी। जो कोई मनुष्य के पुत्र के विरोध में कोई बात कहेगा, उसका यह अपराध क्षमा किया जाएगा, परन्तु जो कोई पवित्र-आत्मा के विरोध में कुछ कहेगा, उसका अपराध न तो इस लोक में और न पर लोक में क्षमा किया जाएगा।”(मत्ती 12:31, 32)। परिभाषा के अनुसार, ईश निंदा “परन्तु पतरस ने कहा; हे हनन्याह! शैतान ने तेरे मन में यह बात क्यों डाली है कि तू पवित्र आत्मा से झूठ बोले, और भूमि के दाम में से कुछ रख छोड़े? जब तक वह तेरे पास रही, क्या तेरी न थी? और जब बिक गई तो क्या तेरे वश में न थी? तू ने यह बात अपने मन में क्यों विचारी? तू मनुष्यों से नहीं, परन्तु परमेश्वर से झूठ बोला” (प्रेरितों के काम 5: 3, 4)।

8-पवित्र आत्मा एक गवाह है “और पवित्र आत्मा भी हमें यही गवाही देता है; क्योंकि उस ने पहिले कहा थ” (इब्रानियों 10:15)।

9-पवित्र आत्मा संतों के लिए मध्यस्थता करता है “और मनों का जांचने वाला जानता है, कि आत्मा की मनसा क्या है क्योंकि वह पवित्र लोगों के लिये परमेश्वर की इच्छा के अनुसार बिनती करता है” (रोमियों 8:27)।

10-यीशु ने हमें पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा (मती 28:19, 20) के नाम से बपतिस्मा लेने के लिए कहा, इस प्रकार यह दर्शाता है कि पवित्र आत्मा परमेश्‍वर का तीसरा व्यक्ति है और पिता और पुत्र के साथ पूर्ण समानता में रखा गया है

निष्कर्ष

हम स्पष्ट रूप से देख सकते हैं कि पवित्र आत्मा केवल एक शक्ति नहीं है, बल्कि ईश्वरत्व का तीसरा ईश्वरीय व्यक्ति है। “प्रभु यीशु मसीह का अनुग्रह और परमेश्वर का प्रेम और पवित्र आत्मा की सहभागिता तुम सब के साथ होती रहे” (2 कुरिन्थियों 13:14)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

यहोवा विटनेस्स (जेडब्ल्यू) क्यों कहते हैं कि यीशु ईश्वरीय नहीं था?

This page is also available in: English (English)यहोवा विटनेस्स का दावा है कि यूहन्ना 17: 3 में यीशु ने कहा है कि उसका पिता ही सच्चा ईश्वर है “और अनन्त…
View Post

क्या ईश्वरत्व के तीन व्यक्तियों को अलग-अलग देखा जा सकता है?

Table of Contents यीशु का बपतिस्मारूपांतरणमंदिर मेंस्तिुफनुस को पत्थरवाहयूहन्ना की गवाहीमसीह का दूसरा आगमन This page is also available in: English (English)बाइबल स्पष्ट रूप से सिखाती है कि ईश्वरत्व के…
View Post