क्या परमेश्वर हमारे विचारों को पढ़ता है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

परमेश्वर सर्वज्ज्ञानी है जिसका अर्थ है कि वह “सब कुछ जानता है” (1 यूहन्ना 3:20), अंत से शुरुआत (यशायाह 46:9,10), “उसकी समझ अनंत है” (भजन संहिता 147:5,) और “गूढ़” (यशायाह 40:28)। इस प्रकार, “उस की आंखों के साम्हने सब वस्तुएं खुली और बेपरदा हैं” (इब्रानियों 4:13)। इसका मतलब यह है कि वह हमारे विचारों को पढ़ता है।

दाऊद ने कहा कि विचारों के शब्दों में बनने से पहले, यहोवा इसे जानता है, “हे यहोवा, तू ने मुझे जांच कर जान लिया है॥ तू मेरा उठना बैठना जानता है; और मेरे विचारों को दूर ही से समझ लेता है। मेरे चलने और लेटने की तू भली भांति छानबीन करता है, और मेरी पूरी चालचलन का भेद जानता है” (भजन संहिता 139:1-3)। “तो तू अपने स्वगींय निवासस्थान में से सुनकर क्षमा करना, और ऐसा करना, कि एक एक के मन को जानकर उसकी समस्त चाल के अनुसार उसको फल देना: तू ही तो सब आदमियों के मन के भेदों का जानने वाला है।“ (1 राजा 8:39; प्रेरितों के काम 1:24)। परमेश्वर न केवल हमारे मनों को पढ़ता है बल्कि “विचारों के हर इरादे को समझता है” (1 इतिहास 28:9) और इसके रहस्य को जानता है (भजन संहिता 44:21)।

पृथ्वी पर रहते हुए, यीशु भी सर्वज्ञ थे। उसने लोगों के हृदयों को पढ़ा (मरकुस 12:15; लूका 6:8; 9:47; 11:17; यूहन्ना 4:16-19; 8:7-9) और इस प्रकार वह सभी की मदद करने, उन्हें दोषी ठहराने और सच्चाई में उनका मार्गदर्शन करने में सक्षम था। कोई भी व्यक्ति अपने विचारों और उद्देश्यों को यीशु से छिपा नहीं सकता।

इसलिए, केवल परमेश्वर, जो हमारे विचारों को पढ़ सकता है, अपने बच्चों का न्याय करने की स्थिति में है। न्याय के दिन, वह लोगों का उनके विचारों और कार्यों से न्याय करेगा (रोमियों 2:16)। “क्योंकि परमेश्वर सब कामों और सब गुप्त बातों का, चाहे वे भली हों या बुरी, न्याय करेगा” (सभोपदेशक 12:14)। वह ऐसा इसलिए कर सकता है क्योंकि, वह हमारे जीवन की प्रत्येक गुप्त बात का सटीक लेखा रखता है (मत्ती 10:26; लूका 8:17; 1 कुरि० 4:5), और वह निष्पक्ष रूप से न्याय करेगा (यशायाह 11:4)।

इसलिए, हमारी हमेशा प्रार्थना होनी चाहिए, “हे ईश्वर, मुझे जांच कर जान ले! मुझे परख कर मेरी चिन्ताओं को जान ले! और देख कि मुझ में कोई बुरी चाल है कि नहीं, और अनन्त के मार्ग में मेरी अगुवाई कर” (भजन संहिता 139:23-24)। अच्छी खबर यह है कि परमेश्वर, जो हमारे अंतरतम विचारों को पढ़ता है, हमारी कमजोरियों को समझता है और हमें सभी अधर्म से शुद्ध करने की प्रतिज्ञा करता है (1 यूहन्ना 1:9)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ को देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

More answers: