क्या परमेश्वर हमसे सीधे बात कर सकता है

Total
0
Shares

This answer is also available in: English

क्या परमेश्वर हमसे सीधे बात कर सकता है

पुराने नियम में, परमेश्वर ने आदम (उत्पत्ति 3:9), अब्राहम (उत्पत्ति 17:3), और मूसा (निर्गमन 33:11) जैसे विभिन्न लोगों से सीधे बात की। और नए नियम में, उसने पौलुस (प्रेरितों के काम 9:3-8), पतरस (प्रेरितों 10:13) और यूहन्ना (प्रकाशितवाक्य 1:10) से भी इसी तरह से बात की। ये विशिष्ट उद्देश्यों के लिए विशेष खुलासे थे। परन्तु परमेश्वर नियमित रूप से अपने बच्चों से निम्नलिखित तरीकों से बात करता है:

  1. परमेश्वर का वचन

परमेश्वर का वचन उसका स्पष्ट संदेश है जो मार्ग को प्रबुद्ध करता है ताकि लोग स्वर्ग की ओर अपनी यात्रा में सुरक्षित रूप से चल सकें (2 पतरस 1:19)। भजनकार घोषणा करता है, “तेरा वचन मेरे पांवों के लिये दीपक, और मेरे मार्ग का उजियाला है” (अध्याय 119:105)।

  1. यीशु मसीह

यीशु की शिक्षाएँ परमेश्वर के प्रत्यक्ष विचार हैं जो मानवता के लिए प्रकट हुए हैं “पूर्व युग में परमेश्वर ने बाप दादों से थोड़ा थोड़ा करके और भांति भांति से भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा बातें कर के। इन दिनों के अन्त में हम से पुत्र के द्वारा बातें की, जिसे उस ने सारी वस्तुओं का वारिस ठहराया और उसी के द्वारा उस ने सारी सृष्टि रची है” (इब्रानियों 1:1-2)।

  1. पवित्र आत्मा

परमेश्वर का आत्मा या उसकी छोटी सी आवाज विश्वासियों के दिलों से बात करती है जब वे मदद मांगते हैं “परन्तु जब वह अर्थात सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा, परन्तु जो कुछ सुनेगा, वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा” (यूहन्ना 16:13)।

  1. प्रकृति

परमेश्वर अपनी सृष्टि के द्वारा हमसे बात करता है “क्योंकि उसके अनदेखे गुण, अर्थात उस की सनातन सामर्थ, और परमेश्वरत्व जगत की सृष्टि के समय से उसके कामों के द्वारा देखने में आते है, यहां तक कि वे निरुत्तर हैं” (रोमियों 1: 20)।

  1. ईश्वरीय लोग

प्रभु कलिसिया में धार्मिक नेताओं का उपयोग अपनी इच्छा बोलने और अपने बच्चों का मार्गदर्शन करने के लिए करते हैं बिना सम्मति की कल्पनाएं निष्फल हुआ करती हैं, परन्तु बहुत से मंत्रियों की सम्मत्ति से बात ठहरती है” (नीतिवचन 15:22)।

  1. प्रावधान

परमेश्वर अपने झुंड को निर्देशित करने के लिए खुले और बंद दरवाजों का उपयोग करता है और जब मैं मसीह का सुसमाचार, सुनाने को त्रोआस में आया, और प्रभु ने मेरे लिये एक द्वार खोल दिया” (2 कुरिन्थियों 2:12; 1 कुरिन्थियों 16:9)।

7- प्रार्थना

पवित्र आत्मा विश्वासियों को परमेश्वर के विचारों को जानने में मदद करता है जब वे प्रार्थना करते हैं “इसी रीति से आत्मा भी हमारी दुर्बलता में सहायता करता है, क्योंकि हम नहीं जानते, कि प्रार्थना किस रीति से करना चाहिए; परन्तु आत्मा आप ही ऐसी आहें भर भरकर जो बयान से बाहर है, हमारे लिये बिनती करता है। और मनों का जांचने वाला जानता है, कि आत्मा की मनसा क्या है क्योंकि वह पवित्र लोगों के लिये परमेश्वर की इच्छा के अनुसार बिनती करता है” (रोमियों 8:26-27)।

आइए हम परमेश्वर के करीब आते हैं क्योंकि वह हमसे बात करने और अपने प्रेम, करुणा और सद्भावना को प्रकट करने के लिए बहुत उत्सुक है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This answer is also available in: English

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

यशायाह के अनुसार परमेश्वर का “अनोखा कार्य” क्या है?

Table of Contents परमेश्वर का स्वरूपपरमेश्वर का न्यायदुष्टों को चेतावनीनरक में अंतिम न्याय This answer is also available in: Englishनबी यशायाह ने लिखा, ” क्योंकि यहोवा ऐसा उठ खड़ा होगा…

इब्रानी में परमेश्वर का नाम कैसे कहें?

This answer is also available in: Englishमूल इब्रानी में, परमेश्वर का असली नाम याहवेह (YHWH) से बदला गया है। इसे चतुरक्षरो (“चार अक्षर”) के रूप में जाना जाता है। निर्गमन…