Answered by: BibleAsk Hindi

Date:

क्या परमेश्वर शैतान को प्राकृतिक आपदाओं को नियंत्रित करने की अनुमति देता है?

क्या परमेश्वर शैतान को प्राकृतिक आपदाओं को नियंत्रित करने की अनुमति देता है?

परमेश्वर ने संसार को परिपूर्ण बनाया (उत्पत्ति 1) लेकिन जब मनुष्य ने शैतान के प्रति अपनी निष्ठा को समर्पित कर दिया, तो बाद वाला इस संसार में बुराई और विनाश लेकर आया (उत्पत्ति 3)। परमेश्वर बुराई का अपराधी नहीं है (याकूब 1:13-17)। और वह अभी भी प्रकृति सहित सभी चीजों के नियंत्रण में है (कुलुस्सियों 1:17)।

बाइबल हमें बताती है कि शैतान “आकाश के अधिकार का प्रधान” (इफिसियों 2:2) और “इस संसार का ईश्वर” (2 कुरिन्थियों 4:4) है। इसका मतलब यह है कि प्रकृति की शक्तियों, पृथ्वी के तत्वों और प्राकृतिक आपदाओं पर सीमित होने के बावजूद उसका नियंत्रण है। परमेश्वर शैतान, दुष्टात्माओं और मनुष्यों को अपनी इच्छा के अनुसार अपनी स्वतंत्र इच्छा का प्रयोग करने की अनुमति देता है (यहोशू 24:15)।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि परमेश्वर ने दुनिया पर संप्रभुता को त्याग दिया है। शैतान की शक्ति और नियंत्रण सीमित हैं। वह केवल एक सर्वशक्तिमान परमेश्वर की अनुमति के द्वारा ही उसके पास जो शक्ति है उसका प्रयोग करता है, और केवल तब तक जब तक पाप के फल को प्रदर्शित करने के लिए आवश्यक हो (1 कुरिं. 15:24-28; प्रका०वा० 12:12)।

प्राकृतिक विपदाओं में भी ईश्वर महान भलाई लाता है। क्‍योंकि हमारे प्रभु की अनुमति के बिना मसीही विश्‍वासी पर कुछ भी नहीं गिर सकता है और वे सब चीज़ें जो परमेश्‍वर से प्रेम करनेवालों के लिए भलाई के काम में आती हैं (रोमियों 8:28)। यदि परमेश्वर अपने बच्चों पर दुख आने देता है, तो यह उन्हें नष्ट करने के लिए नहीं बल्कि उन्हें शुद्ध करने के लिए है (रोमियों 8:17)।

इस जीवन की विपत्तियाँ और परेशानियाँ हमारी प्राथमिकताओं को सीधा करती हैं और दुनिया से हमारा ध्यान हटाती हैं और हमें अपने घर के लिए स्वर्ग की ओर देखने के लिए प्रेरित करती हैं। वे हमें हमारी कमजोर और मरणासन्न स्थिति के बारे में सच्चाई सिखाते हैं और हमें सहायता और उद्धार के लिए परमेश्वर पर निर्भर होने के लिए प्रेरित करते हैं (1 पतरस 5:7)।

अय्यूब के दस बच्चे प्राकृतिक आपदाओं में मारे गए। अय्यूब की पत्नी ने उससे यह कहते हुए आग्रह किया, “तब उसकी स्त्री उस से कहने लगी, क्या तू अब भी अपनी खराई पर बना है? परमेश्वर की निन्दा कर, और चाहे मर जाए तो मर जा” (अय्यूब 2:9)। परन्तु अय्यूब ने कहा, “मैं अपनी मां के पेट से नंगा निकला और वहीं नंगा लौट जाऊंगा; यहोवा ने दिया और यहोवा ही ने लिया; यहोवा का नाम धन्य है”(अय्यूब 1:21)। और उसने आगे कहा, “वह मुझे घात करेगा, मुझे कुछ आशा नहीं; तौभी मैं अपनी चाल चलन का पक्ष लूंगा” (अय्यूब 13:15)। भले ही अय्यूब की परीक्षा हो रही थी, फिर भी उसने उन त्रासदियों के बावजूद परमेश्वर पर अपना भरोसा बनाए रखा, जिनसे वह गुज़रा था। परिणामस्वरूप, परीक्षा के बाद, परमेश्वर ने उसे उसके दृढ़ विश्वास के लिए बहुत आशीष दी (अय्यूब 42:12-16)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

More Answers: