क्या परमेश्वर मुझसे शारीरिक रूप से अपमानजनक जीवनसाथी के साथ रहने की उम्मीद करता है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या परमेश्वर मुझसे शारीरिक रूप से अपमानजनक जीवनसाथी के साथ रहने की उम्मीद करता है?

यीशु ने यह स्पष्ट किया कि वैवाहिक जीवन के विश्वासघात के अलावा कोई तलाक का कारण नहीं होना चाहिए “परन्तु मैं तुम से यह कहता हूं कि जो कोई अपनी पत्नी को व्यभिचार के सिवा किसी और कारण से छोड़ दे, तो वह उस से व्यभिचार करवाता है; और जो कोई उस त्यागी हुई से ब्याह करे, वह व्यभिचार करता है” (मत्ती 5:32)।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको खतरनाक स्थिति में रहना चाहिए। शारीरिक हिंसा और दुर्व्यवहार व्यवस्था के खिलाफ है और ऐसा होने पर अधिकारियों को एक बार में सूचित किया जाना चाहिए। अस्थायी रूप से बाहर जाकर किसी भी तरह की गंभीर हिंसा से खुद को और बच्चों को बचाने के लिए दुर्व्यवहार करने वाली मां का यह कर्तव्य है। यदि अपमानजनक साथी के खिलाफ आपराधिक आरोप लगाए जाते हैं, तो यह एक जागृत बुलाहट के रूप में काम कर सकता है जो उसे कार्य के बदलाव के बारे में उम्मीद के साथ हिला देगा।

लेकिन अगर अपमानजनक पति अपने व्यवहार को बदलने के लिए प्रतिक्रिया देने से इनकार करता है, तो व्यवहार में बदलाव होने तक अलगाव की सलाह दी जाती है। शास्त्र इस मामले में अलगाव (तलाक नहीं) की निंदा नहीं करते हैं।

परमेश्वर चंगाई, बदलते जीवन और पुनर्स्थापन (यशायाह 61:1) के व्यवसाय में है। इसलिए, दुर्व्यवहार करने वाले सदस्यों को अपनी आत्मा को अपमानजनक रूप से दोषी ठहराते हुए प्रभु को पश्चाताप करने की अनुमति देनी चाहिए। मध्यस्थ प्रार्थना में अविश्वसनीय शक्ति है (मत्ती 7: 7, 8)। बाइबल में इस बात के कई उदाहरण हैं कि परमेश्वर बुरे लोगों को संतों में बदल सकता है और करता है।

पत्नी को परमेश्वर में आशा बनाए रखनी चाहिए और विवाह को बनाए रखने की कोशिश करनी चाहिए। सुलह हमेशा अंतिम लक्ष्य होना चाहिए (यूहन्ना 13:34; इफिसियों 5:21)। क्योंकि परमेश्वर ने विवाह की वाचा का सम्मान किया है, “सो व अब दो नहीं, परन्तु एक तन हैं: इसलिये जिसे परमेश्वर ने जोड़ा है, उसे मनुष्य अलग न करे” (मत्ती 19: 6)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: