क्या परमेश्वर ने दाऊद से वादा नहीं किया कि उसका घर हमेशा के लिए स्थापित हो जाएगा?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या परमेश्वर ने दाऊद से वादा नहीं किया कि उसका घर हमेशा के लिए स्थापित हो जाएगा?

“परन्तु मेरी करुणा उस पर से ऐसे न हटेगी, जैसे मैं ने शाऊल पर से हटाकर उसको तेरे आगे से दूर किया। वरन तेरा घराना और तेरा राज्य मेरे साम्हने सदा अटल बना रहेगा; तेरी गद्दी सदैव बनी रहेगी” (2 शमूएल 7: 15,16)।

प्रभु ने दाऊद से वादा किया कि उसका घर हमेशा के लिए बना रहेगा लेकिन परमेश्वर का वादा सशर्त था। दाऊद और उसके बच्चों का आशीर्वाद यहोवा के प्रति उनकी वफादारी पर निर्भर था। प्रभु ने दाऊद के पुत्र से वादा किया कि “और यादे तू अपने पिता दाऊद की नाईं मन की खराई और सिधाई से अपने को मेरे साम्हने जान कर चलता रहे, और मेरी सब आज्ञाओं के अनुसार किया करे, और मेरी विधियों और नियमों को मानता रहे, तो मैं तेरा राज्य इस्राएल के ऊपर सदा के लिये स्थिर करूंगा; जैसे कि मैं ने तेरे पिता दाऊद को वचन दिया था, कि तेरे कुल में इस्राएल की गद्दी पर विराजने वाले सदा बने रहेंगे” (1 राजा 9: 4-5)।

और प्रभु ने कहा, “परन्तु यदि तुम लोग वा तुम्हारे वंश के लोग मेरे पीछे चलना छोड़ दें; और मेरी उन आज्ञाओं और विधियों को जो मैं ने तुम को दी हैं, न मानें, और जा कर पराये देवताओं की उपासना करे और उन्हें दण्डवत करने लगें, तो मैं इस्राएल को इस देश में से जो मैं ने उन को दिया है, काट डालूंगा और इस भवन को जो मैं ने अपने नाम के लिये पवित्र किया है, अपनी दृष्टि से उतार दूंगा; और सब देशों के लोगों में इस्राएल की उपमा दी जायेगी और उसका दृष्टान्त चलेगा” (1 राजा 9: 6,7)।

मनुष्य को परमेश्वर को चुनने और धन्य होने या परमेश्वर को अस्वीकार करने और उनके आशीर्वाद को त्यागने की स्वतंत्रता है। परमेश्वर के हाथ मनुष्य के चुनाव से बंधे हैं; उसके पास उसके चुनाव के अनुरूप हर आदमी को पुरस्कृत करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। लेकिन वह वादा करता है कि अगर हम अच्छाई चुनते हैं तो हम धन्य हो जाएंगे “इसलिये पहिले तुम उसे राज्य और धर्म की खोज करो तो ये सब वस्तुएं भी तुम्हें मिल जाएंगी” (मत्ती 6:33)।

प्रभु का अनुसरण करने के लिए दाऊद के शाब्दिक वंशजों की विफलता के कारण, ये महत्वपूर्ण वादे अंततः मसीह के माध्यम से उनके नए नियम की कलिसिया के जरिए से पूर्ण होंगे “इस कारण वन में से एक सिंह आकर उन्हें मार डालेगा, निर्जल देश का एक भेडिय़ा उन को नाश करेगा। और एक चीता उनके नगरों के पास घात लगाए रहेगा, और जो कोई उन में से निकले वह फाड़ा जाएगा; क्योंकि उनके अपराध बहुत बढ़ गए हैं और वे मुझ से बहुत ही दूर हट गए हैं” (यिर्मयाह: 5,6; यिर्मयाह 33: 14–21 और यशायाह 9: 6, 7)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: