क्या परमेश्वर के लोगों को भोजन और पर्व पर दशमांश खर्च करने की अनुमति थी (व्यव. 12:5-7)?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

“5 किन्तु जो स्थान तुम्हारा परमेश्वर यहोवा तुम्हारे सब गोत्रों में से चुन लेगा, कि वहां अपना नाम बनाए रखे, उसके उसी निवासस्थान के पास जाया करना;

6 और वहीं तुम अपने होमबलि, और मेलबलि, और दंशमांश, और उठाई हुई भेंट, और मन्नत की वस्तुएं, और स्वेच्छाबलि, और गाय-बैलों और भेड़-बकरियों के पहिलौठे ले जाया करना;

7 और वहीं तुम अपने परमेश्वर यहोवा के साम्हने भोजन करना, और अपने अपने घराने समेत उन सब कामों पर, जिन में तुम ने हाथ लगाया हो, और जिन पर तुम्हारे परमेश्वर यहोवा की आशीष मिली हो, आनन्द करना” (व्यवस्थाविवरण 12: 5-7)।

पहला दशमांश और दूसरा दशमांश

पहला दशमांश विशेष रूप से लेवियों के समर्थन के लिए इस्तेमाल किया गया था “इस्राएल के बच्चों के दशमांश … मैंने लेवियों को विरासत के रूप में दिया है” (गिनती 18:24)। लेकिन व्यवस्थाविवरण 12:5-7 का दूसरा दशमांश, पवित्र पर्वों (लैव्य. 23), या अनाथों, गरीबों और इब्रानियों के बीच रहने वाले “परदेसियों” के लिए दान के लिए इस्तेमाल किया गया था (व्यवस्थाविवरण 16:11-14)।

दूसरे दशमांश का उद्देश्य

दूसरे दशमांश को केवल पवित्रस्थान के आसपास खाने की अनुमति दी गई थी, न कि लोगों के घरों में। क्योंकि यह भोजन बलि का भोजन नहीं था, इसलिए औपचारिक स्वच्छता की आवश्यकता नहीं थी जैसा कि बलि के भोजन में होता है (व्यव. 12:22; लैव्य. 7:20)।

इस दूसरे दशमांश का और व्यवस्थाविवरण 14:24-29 में दिया गया है। “24 परन्तु यदि वह स्थान जिस को तेरा परमेश्वर यहोवा अपना नाम बानाए रखने के लिये चुन लेगा बहुत दूर हो, और इस कारण वहां की यात्रा तेरे लिये इतनी लम्बी हो कि तू अपने परमेश्वर यहोवा की आशीष से मिली हुई वस्तुएं वहां न ले जा सके,

25 तो उसे बेचके, रूपये को बान्ध, हाथ में लिये हुए उस स्थान पर जाना जो तेरा परमेश्वर यहोवा चुन लेगा,

26 और वहां गाय-बैल, वा भेड़-बकरी, वा दाखमधु, वा मदिरा, वा किसी भांति की वस्तु क्यों न हो, जो तेरा जी चाहे, उसे उसी रूपये से मोल ले कर अपने घराने समेत अपने परमेश्वर यहोवा के साम्हने खाकर आनन्द करना।

27 और अपने फाटकों के भीतर के लेवीय को न छोड़ना, क्योंकि तेरे साथ उसका कोई भाग वा अंश न होगा॥

28 तीन तीन वर्ष के बीतने पर तीसरे वर्ष की उपज का सारा दशंमांश निकाल कर अपने फाटकों के भीतर इकट्ठा कर रखना;

29 तब लेवीय जिसका तेरे संग कोई निज भाग वा अंश न होगा वह, और जो परदेशी, और अनाथ, और विधवांए तेरे फाटकों के भीतर हों, वे भी आकर पेट भर खाएं; जिस से तेरा परमेश्वर यहोवा तेरे सब कामों में तुझे आशीष दे॥”

परमेश्वर ने बनाया किया कि दूसरा दशमांश सच्चे धर्म के अभ्यास को प्रोत्साहित करेगा। और उसने ठहराया कि लेवी वंशियों को इन पर्वों में निमंत्रित किया जाए, क्योंकि इस्राएलियों के बीच उनका कोई भाग नहीं था (व्यवस्थाविवरण 12:12, 18)। क्योंकि यहोवा उनका भाग था (युगल 10:9)। लेवियों के अलावा, अनाथों और विधवाओं को भी इन समारोहों में आमंत्रित किया गया था (व्यवस्थाविवरण 16:11, 14; 24:17, 19; 26:12)।

जरूरतमंदों के लिए परमेश्वर के प्रावधान

इस प्रकार, परमेश्वर के सेवकों और जरूरतमंदों को एक उदार आत्मा दिखायी जानी थी (व्यवस्थाविवरण 12:7, 12, 18; 14:29)। देने वाले और पाने वाले दोनों के लिए खुशी और खुशी लाने के प्रयास थे। यह परमेश्वर की इच्छा थी कि वह अपने बच्चों के बीच खुशी और आनंद बांटे।

और जरूरतमंदों की सहायता के लिए प्रभु ने अन्य नियम दिए (लैव्य. 19:9, 10; 23:22)। जिनके पास जमीन नहीं थी उन्हें खेतों, खेतों और बगीचों से बीनने का विशेषाधिकार दिया जाता था। ज़मींदार को बटोरने से बचना था, और इस तरह गरीबों की मदद करना और उनकी ज़रूरतों को पूरा करना था, और साथ ही साथ अपने दिल को परमेश्वर के अनुग्रह से आशीषित करना था (नीतिवचन 11:24)। ये कानून 7 साल के चक्र के पहले 6 वर्षों में लागू होते थे, जिसके दौरान फसल उगाई जाती थी।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: