क्या परमेश्वर अविश्वासियों से विवाह करने से मना करता है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

पवित्रशास्त्र के माध्यम से, परमेश्वर ने स्पष्ट रूप से पाप और अविश्वासियों से अलग होना सिखाया (लैव्य. 20:24; गिनती 6:3; इब्रा. 7:26)। कोई अन्य सिद्धांत ईश्वर द्वारा अधिक सख्ती से नहीं सिखाया गया है। परमेश्वर के बच्चों के इतिहास के दौरान, इस सिद्धांत के उल्लंघन के परिणामस्वरूप आध्यात्मिक विनाश हुआ।

पुराने नियम में, परमेश्वर ने इस्राएलियों को गैर-विश्वासियों से विवाह करने से मना किया, ऐसा न हो कि वे सच्चे मार्ग से पीछे हट जाएँ (व्यवस्थाविवरण 7:3,4)। क्योंकि एक पति का अपनी मूर्ति पूजा करने वाली पत्नी के प्रति प्रेम स्वाभाविक रूप से उसके हृदय को प्रभु से दूर कर देगा। अविश्वासी पत्नी भी अपने बच्चों को नकारात्मक रूप से प्रभावित करेगी।

परमेश्वर ने अपने बच्चों को निर्देश दिया कि वे उन लोगों से विवाह न करें जो परमेश्वर से प्रेम नहीं करते (व्यव. 16:21; न्यायि  6:25–30)। यह चेतावनी मूसा (गिनती 33:52) और यहोशू (अध्याय 23:11–13) द्वारा स्पष्ट रूप से दी गई थी। एसाव (उत्प. 26:34, 35) और शिमशोन (न्यायि. 14:1) के दुखद अनुभव ऐसे संघों के प्रभावों के प्रेरक प्रमाण हैं और भ्रष्ट प्रभावों से अलग रहने के महत्व को दर्शाते हैं।

परमेश्वर ने यह भी चेतावनी दी थी कि अविश्‍वासियों के साथ वैवाहिक संबंध न केवल परिवारों को बल्कि संपूर्ण राष्ट्र को भी प्रभावित करेंगे और इसके विनाश को लाएंगे (निर्ग. 34:15, 16)। जब राजा सुलैमान ने इस सिद्धांत को अपवित्र किया, तो उसने महान व्यक्तिगत और राष्ट्रीय विनाश लाया (1 राजा 11:1)।

अलगाव का यही सिद्धांत नए नियम कलीसिया पर भी लागू होता है। यहोवा ने चेतावनी दी, “अविश्‍वासियों के साथ असमान जूए में न जुतो, क्योंकि धर्म का अधर्म के साथ क्या मेल है? और अन्धकार के साथ उजाले का क्या मेल है?” (2 कुरि. 6:14)।

जब एक विश्वासी “मसीह में” बपतिस्मा लेता है (गला. 3:27), तो वह मसीह का सदस्य बन जाता है, और उसके लिए यह महत्वपूर्ण है कि वह अपने शरीर और मन को पवित्र रखकर परमेश्वर के साथ अपने शुद्ध संबंध की रक्षा करे। परमेश्वर ने नए नियम कलीसिया को संसार को अपना प्रेम दिखाने के लिए एक “पवित्र राष्ट्र” के रूप में ठहराया (1 पतरस 2:9)।

उन लोगों के साथ घनिष्ठ संबंध बनाने में कोई खुशी या सुरक्षा नहीं है जो न तो प्यार करते हैं और न ही परमेश्वर की सेवा करते हैं

“14 और परमेश्वर ने अपनी सामर्थ से प्रभु को जिलाया, और हमें भी जिलाएगा।

15 क्या तुम नहीं जानते, कि तुम्हारी देह मसीह के अंग हैं? सो क्या मैं मसीह के अंग लेकर उन्हें वेश्या के अंग बनाऊं? कदापि नहीं।

16 क्या तुम नहीं जानते, कि जो कोई वेश्या से संगति करता है, वह उसके साथ एक तन हो जाता है? क्योंकि वह कहता है, कि वे दोनों एक तन होंगे।

17 और जो प्रभु की संगति में रहता है, वह उसके साथ एक आत्मा हो जाता है” (1 कुरि 6:14-17)।

विश्वासी जो परमेश्वर की सलाह का पालन करना चुनता है वह परमेश्वर के अनुग्रह की अपेक्षा कर सकता है। वह पाएगा कि यहोवा के पास उसके लिए बड़ी-बड़ी योजनाएँ हैं जो उसकी इच्छा और अपने लिए आशा से कहीं बेहतर हैं।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: