क्या नीतिवचन 8:23-31 यीशु मसीह के बारे में बात कर रहा है?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या नीतिवचन 8:23-31 यीशु मसीह के बारे में बात कर रहा है?

नीतिवचन 8:23-31 की आयतें “ज्ञान” के बारे में बोल रही हैं, न कि यीशु मसीह के बारे में। परमेश्वर की बुद्धि संसार के निर्माण (उत्प० 1:6–8) या तारों वाला आकाश (यूहन्ना 1:3; कुलु० 1:16,17) से पहले थी ।

इस पद्यांश में, अय्यूब को बादलों के संतुलन की व्याख्या करने की चुनौती दी गई थी (अय्यूब 37:16)। तो, उन्होंने कहा कि यह ईश्वरीय ज्ञान था जिसने बारिश और हिमपात के गठन के लिए स्थितियां निर्धारित कीं। अब, विज्ञान के अतिरिक्त ज्ञान के माध्यम से, लोग आंशिक रूप से समझते हैं कि बादलों में लाखों टन बारिश कैसे होती है और बारिश किस कारण से गिरती है।

मनुष्य सृष्टिकर्ता का प्रमुख कार्य था। जबकि परमेश्वर अपने जानवरों से प्यार करता है और उनकी परवाह करता है, वे उस ज्ञान को नहीं समझ सकते हैं जो प्रभु का भय है। परमेश्वर अपने स्वरूप को केवल मनुष्य के चरित्र में ही प्रतिबिम्बित पाते हैं। इस प्रकार, मनुष्य को उसके सृष्टिकर्ता द्वारा एक विशेष सम्मान दिया गया था (इब्रा० 2:7, 8)।

परमेश्वर ने मनुष्य को उसकी बुद्धि को देखने और उसके विचारों पर चिंतन करने का सम्मान दिया है। अदन में अपने निर्माता और स्वर्गदूतों के साथ संगति के माध्यम से, आदम परमेश्वर के अनंत ज्ञान के बारे में अधिक से अधिक जानने में सक्षम था। जब लोग परमेश्वर को देखते हैं, तो “परन्तु जब हम सब के उघाड़े चेहरे से प्रभु का प्रताप इस प्रकार प्रगट होता है, जिस प्रकार दर्पण में, तो प्रभु के द्वारा जो आत्मा है, हम उसी तेजस्वी रूप में अंश अंश कर के बदलते जाते हैं” (2 कुरिन्थियों 3:18)।

आज भी, जब मानव मन पाप से अंधकारमय हो गया है और उनकी धारणाएं सुस्त हो गई हैं, तब भी प्रकृति और प्रकाशन में व्यक्त ईश्वर के विचारों के अध्ययन में बहुत संतुष्टि है। सांसारिक सुख कभी भी स्वर्गीय ज्ञान द्वारा प्राप्त किए गए सुखों को पार नहीं कर सकते।

भविष्यद्वक्ता दाऊद ने परमेश्वर की बुद्धि, उसके शक्तिशाली कार्यों, और उसकी सृष्टि के प्रति उसके प्रेम पर मनन करने में आत्मा की प्रसन्नता का वर्णन इन शब्दों में किया: “तू मुझे जीवन का रास्ता दिखाएगा; तेरे निकट आनन्द की भरपूरी है, तेरे दाहिने हाथ में सुख सर्वदा बना रहता है” (भजन संहिता 16:11)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या मत्ती 12:45; 2 पतरस 2: 20-22 और इब्रानियों 6: 4-8; 10:26 अक्षम्य पाप की बात करते हैं?

Table of Contents मत्ती 12:45II पतरस 2: 20-22इब्रानियों 6: 4-6इब्रानियों 10:26एक ओर पाप करने और क्षमा प्राप्त करने और दूसरी ओर अक्षम्य पाप के बीच सीमांकन बिंदु क्या है?निष्कर्ष This…

क्या लैव्यव्यवस्था 4:18 बलिदान की वेदी या धूप की वेदी का उल्लेख करता है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)क्या लैव्यव्यवस्था 4:18 बलिदान की वेदी या धूप की वेदी का उल्लेख करता है? “और उसी लोहू में से वेदी के सींगों पर…