क्या चिकित्सा क्षेत्र में काम करने वालों के लिए सब्त के दिन काम करना ठीक है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

“उस ने उन से कहा; तुम में ऐसा कौन है, जिस की एक ही भेड़ हो, और वह सब्त के दिन गड़हे में गिर जाए, तो वह उसे पकड़कर न निकाले? भला, मनुष्य का मूल्य भेड़ से कितना बढ़ कर है; इसलिये सब्त के दिन भलाई करना उचित है: तब उस ने उस मनुष्य से कहा, अपना हाथ बढ़ा” (मत्ती 12:11,12)।

सब्त के दिन अच्छा करना कानूनन सही है

सब्त पर चंगाई करके, यीशु ने हमें दिखाया कि सब्त के दिन अच्छा करना सही है। एक अन्य अवसर में, यीशु ने दयालु होने के महत्व को सिखाने के लिए सब्त के दिन चंगा किया। “सब्त के दिन वह एक आराधनालय में उपदेश कर रहा था॥ और देखो, एक स्त्री थी, जिसे अठारह वर्ष से एक र्दुबल करने वाली दुष्टात्मा लगी थी, और वह कुबड़ी हो गई थी, और किसी रीति से सीधी नहीं हो सकती थी। यीशु ने उसे देखकर बुलाया, और कहा हे नारी, तू अपनी र्दुबलता से छूट गई। तब उस ने उस पर हाथ रखे, और वह तुरन्त सीधी हो गई, और परमेश्वर की बड़ाई करने लगी” (लूका 13:10-13)। स्त्री न केवल एक मनुष्य थी, और इस तरह एक जानवर की तुलना में असीम रूप से अधिक महत्वपूर्ण थी (मति12:11), वह परमेश्वर की एक बेटी थी जिसे मदद की ज़रूरत थी। और यीशु ने उसे मना नहीं किया क्योंकि यह सब्त का दिन था।

सब्त मनुष्य के लिए बनाया गया था

यीशु ने कहा, “और उस ने उन से कहा; सब्त का दिन मनुष्य के लिये बनाया गया है, न कि मनुष्य सब्त के दिन के लिये” (मरकुस 2:27)। परमेश्वर ने मनुष्य को इसलिए नहीं बनाया क्योंकि उसके पास सब्त था और उसे मानने के लिए किसी की आवश्यकता थी। परमेश्वर जानता था कि मनुष्य को विश्राम और आत्मिक विकास के लिए समय की आवश्यकता है। इस ज़रूरत को पूरा करने के लिए सातवें दिन सब्त को परमेश्वर ने ठहराया। परमेश्वर की मूल योजना को बदलने के लिए चौथी आज्ञा (निर्गमन 20: 8-11) की आज्ञा उल्लंघनता होगी। परमेश्वर ने योजना बनाई कि सब्त एक आशीष होना चाहिए, एक बोझ नहीं, और यह मनुष्य के हित के लिए है न कि उसका पालन करने के लिए उसका अहित है।

चिकित्सा क्षेत्र और सब्त का कार्य

सांसारिक अस्पतालों में चिकित्सा क्षेत्र में काम करने वाले मसिहियोंयों के लिए, वे दिन का समय निकालने का अनुरोध कर सकते हैं। लेकिन अगर वे मसीही संस्थानों में काम करते हैं जहाँ सभी कार्यकर्ता मसीही हैं और जाहिर है उनमें से कुछ को सब्त के दिन अपनी बारी लेनी होगी और सेवा करनी होगी। उन लोगों को आवश्यक कर्तव्यों और आपात स्थितियों में भाग लेने दें, लेकिन सप्ताह के दिनों में किए जाने वाले अन्य सभी कार्यों को निर्धारित करें। कुछ कर्तव्यनिष्ठ मसीहीयों ने सब्त के दिन जो पैसा कमाया उसे परमेश्वर के खजाने में डाल दिया। ये अपने काम को स्वैच्छिक सेवा के कार्य के रूप में मानते हैं। जो लोग चिकित्सा क्षेत्र में काम करते हैं वे ज्ञान के लिए प्रार्थना करते हैं कि वे सब्त को पवित्र रखें (याकूब 1: 5)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: