क्या कुछ ऐसा है जिसे मैं परिवर्तित करने के लिए कर सकता हूं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

परिवर्तित होने के लिए, आपको अपने सब अपराधों को जो तुम ने किए हैं, दूर करो; अपना मन और अपनी आत्मा बदल डालो! हे इस्राएल के घराने, तुम क्यों मरो?” (यहेजकेल 18:31)। आप ऐसा कर सकते हैं कि हृदय के उस परिवर्तन को प्राप्त करने के लिए पवित्र आत्मा के कार्य में सहयोग करें।

यीशु पर अपनी आँखें लगाएं क्योंकि परिवर्तन तब होता है जब हम उसे देखते हैं “परन्तु जब हम सब के उघाड़े चेहरे से प्रभु का प्रताप इस प्रकार प्रगट होता है, जिस प्रकार दर्पण में, तो प्रभु के द्वारा जो आत्मा है, हम उसी तेजस्वी रूप में अंश अंश कर के बदलते जाते हैं” (2 कुरिन्थियों 3:18)।

आप परमेश्वर के बारे में उसके वचन के द्वारा सीख सकते हैं। उसका प्रेम उसके लिए आपके प्रेम को जगाएगा “खो पिता ने हम से कैसा प्रेम किया है, कि हम परमेश्वर की सन्तान कहलाएं, और हम हैं भी: इस कारण संसार हमें नहीं जानता, क्योंकि उस ने उसे भी नहीं जाना” (1 यूहन्ना 3:1) ।

और हर दिन प्रार्थना भी करें, भले ही आप ऐसा महसूस न करें। प्रार्थना जीवन की सांस है। परमेश्वर से बात करें वह आपका स्वर्गीय पिता है और एक नए दिल के लिए अपने वादे का दावा करता है, “मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूंढ़ो, तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा” (मत्ती 7:7)। जितना अधिक समय आप प्रभु के साथ बिताएंगे उतना ही आपका रिश्ता उनसे मजबूत होगा।

तब, परमेश्वर आपसे वादा करता है, “मैं तुम को नया मन दूंगा, और तुम्हारे भीतर नई आत्मा उत्पन्न करूंगा; और तुम्हारी देह में से पत्थर का हृदय निकाल कर तुम को मांस का हृदय दूंगा। और मैं अपना आत्मा तुम्हारे भीतर देकर ऐसा करूंगा कि तुम मेरी विधियों पर चलोगे और मेरे नियमों को मान कर उनके अनुसार करोगे” (यहेजकेल 36:26, 27)। केवल परमेश्वर ही परिवर्तन के चमत्कार को सक्रिय कर सकते हैं। उसके बिना हमारी प्रकृति नहीं बदल सकती।

अंत में, ईश्वर के प्रेम और उसने आपके जीवन में क्या किया है, इसके बारे में गवाही दें। बाइबल कहती है, “कि यदि तू अपने मुंह से यीशु को प्रभु जानकर अंगीकार करे और अपने मन से विश्वास करे, कि परमेश्वर ने उसे मरे हुओं में से जिलाया, तो तू निश्चय उद्धार पाएगा” (रोमियों 10: 9)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: