क्या कलिसियाएं सुरक्षित स्थान हैं जहाँ आप सभी पर भरोसा कर सकते हैं?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

मसीही कलिसिया सुरक्षित स्थान होने चाहिए जहां एक विश्वासी हर किसी पर भरोसा कर सके। दुर्भाग्य से, हम एक पतित दुनिया में रहते हैं, और कलिसियाओं में सभी सदस्यों के सम्मानजनक इरादे नहीं हैं, और यहां तक ​​कि कुछ जो अच्छे इरादों के साथ आते हैं वे पाप के पुराने आदर्श में वापस आ सकते हैं। इसलिए यीशु ने कहा कि “देखो, मैं तुम्हें भेड़ों की नाईं भेडिय़ों के बीच में भेजता हूं सो सांपों की नाईं बुद्धिमान और कबूतरों की नाईं भोले बनो” (मत्ती 10:16)। और उन्होंने कहा, “यीशु ने उन को उत्तर दिया, सावधान रहो! कोई तुम्हें न भरमाने पाए। क्योंकि बहुत से ऐसे होंगे जो मेरे नाम से आकर कहेंगे, कि मैं मसीह हूं: और बहुतों को भरमाएंगे” (मत्ती 24: 4-5)। इसीलिए विश्वासी को “सचेत हो, और जागते रहो, क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जने वाले सिंह की नाईं इस खोज में रहता है, कि किस को फाड़ खाए” (1 पतरस 5: 8)।

यहां कुछ दिशा-निर्देश दिए गए हैं जो विश्वासियों और कलिसिया में विश्वासयोग्य सदस्यों के बीच अंतर करने में विश्वास करने में मदद करेंगे:

क) उनके फलों द्वारा – सदस्यों के फल उनके वास्तविक स्वरूप के स्पष्ट प्रमाण हैं।

“उन के फलों से तुम उन्हें पहचान लोग क्या झाडिय़ों से अंगूर, वा ऊंटकटारों से अंजीर तोड़ते हैं? इसी प्रकार हर एक अच्छा पेड़ अच्छा फल लाता है और निकम्मा पेड़ बुरा फल लाता है। अच्छा पेड़ बुरा फल नहीं ला सकता, और न निकम्मा पेड़ अच्छा फल ला सकता है। जो जो पेड़ अच्छा फल नहीं लाता, वह काटा और आग में डाला जाता है। सो उन के फलों से तुम उन्हें पहचान लोगे” (मत्ती 7: 16-20)।

“जो मुझ से, हे प्रभु, हे प्रभु कहता है, उन में से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश न करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है। उस दिन बहुतेरे मुझ से कहेंगे; हे प्रभु, हे प्रभु, क्या हम ने तेरे नाम से भविष्यद्वाणी नहीं की, और तेरे नाम से दुष्टात्माओं को नहीं निकाला, और तेरे नाम से बहुत अचम्भे के काम नहीं किए? तब मैं उन से खुलकर कह दूंगा कि मैं ने तुम को कभी नहीं जाना, हे कुकर्म करने वालों, मेरे पास से चले जाओ” (मत्ती 7:21-23)।

“शरीर के काम तो प्रगट हैं, अर्थात व्यभिचार, गन्दे काम, लुचपन। मूर्ति पूजा, टोना, बैर, झगड़ा, ईर्ष्या, क्रोध, विरोध, फूट, विधर्म। डाह, मतवालापन, लीलाक्रीड़ा, और इन के जैसे और और काम हैं, इन के विषय में मैं तुम को पहिले से कह देता हूं जैसा पहिले कह भी चुका हूं, कि ऐसे ऐसे काम करने वाले परमेश्वर के राज्य के वारिस न होंगे। पर आत्मा का फल प्रेम, आनन्द, मेल, धीरज, और कृपा, भलाई, विश्वास, नम्रता, और संयम हैं; ऐसे ऐसे कामों के विरोध में कोई भी व्यवस्था नहीं। और जो मसीह यीशु के हैं, उन्होंने शरीर को उस की लालसाओं और अभिलाषाओं समेत क्रूस पर चढ़ा दिया है॥ यदि हम आत्मा के द्वारा जीवित हैं, तो आत्मा के अनुसार चलें भी” (गलातियों 5: 19-25)।

ख) परमेश्वर के वचन के द्वारा – दैनिक आधार पर बाइबल की शुद्ध शिक्षाओं के साथ मनों को संतृप्त करने से, विश्वासियों को त्रुटि में से सच्चाई पहचानने  में मदद मिलेगी।

“व्यवस्था और चितौनी ही की चर्चा किया करो! यदि वे लोग इस वचनों के अनुसार न बोलें तो निश्चय उनके लिये पौ न फटेगी” (यशायाह 8:20)।

ग) पवित्र आत्मा के प्रकाशन से – परमेश्वर विश्वासियों को धोखे से बचाने के लिए ज्ञान देगा।

“पर यदि तुम में से किसी को बुद्धि की घटी हो, तो परमेश्वर से मांगे, जो बिना उलाहना दिए सब को उदारता से देता है; और उस को दी जाएगी” (याकूब 1: 5)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्यों यहोवा विटनेस्स(जेडब्ल्यू) को एक मसीही संप्रदाय के रूप में स्वीकार नहीं किया जाता है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)यहोवा विटनेस्स कई धारणाएँ रखते हैं जो बाइबल सिखाती हैं। लेकिन उनकी सबसे बड़ी अविश्वसनीयता परमेश्वर के साथ, मसीह की प्रकृति और पवित्र…

क्या कलिसिया को हमारे सिद्धांतों को परिभाषित करने का अधिकार है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)क्या कलिसिया को सिद्धांतों को परिभाषित करने के संबंध में अधिकार है, पौलूस ने लिखा, “और बालकपन से पवित्र शास्त्र तेरा जाना हुआ…