क्या कभी-कभी परमेश्वर हमारी प्रार्थनाओं का जवाब नहीं देता है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

परमेश्वर हमेशा हमारी प्रार्थनाओं का जवाब देते हैं। परमेश्‍वर हमारा स्वर्गीय पिता है जिसने हमें बचाने के लिए अपना एकलौता पुत्र दिया (यूहन्ना 3:16)। और “जिस ने अपने निज पुत्र को भी न रख छोड़ा, परन्तु उसे हम सब के लिये दे दिया: वह उसके साथ हमें और सब कुछ क्योंकर न देगा?” (रोमियों 8:32)। यीशु ने हमें आश्वासन दिया, “मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूंढ़ो, तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा” (मत्ती 7:7)।

लेकिन प्रार्थना के लिए परमेश्वर के जवाब “हाँ” हो सकते हैं; या यह “नहीं” भी हो सकता है; या यह हो सकता है “ठहरो, मेरे पास आपके लिए एक बेहतर योजना है।”

हमारी प्रार्थनाओं का जवाब देने के लिए, दो शर्तें हैं जिन्हें हमें पूरा करना चाहिए:

(1) हमें ईश्वर की इच्छा में प्रार्थना करनी चाहिए। इसका मतलब है कि हमें कुछ माँगने की ज़रूरत है जो हमारे लिए अच्छा हो “तुम मांगते हो और पाते नहीं, इसलिये कि बुरी इच्छा से मांगते हो, ताकि अपने भोग विलास में उड़ा दो” (याकूब 4: 3)।

(2) और हमें जीवन को ईश्वर को प्रसन्न करने वाला होना चाहिए “हे प्रियो, यदि हमारा मन हमें दोष न दे, तो हमें परमेश्वर के साम्हने हियाव होता है। और जो कुछ हम मांगते हैं, वह हमें उस से मिलता है; क्योंकि हम उस की आज्ञाओं को मानते हैं; और जो उसे भाता है वही करते हैं। यदि तुम मुझ में बने रहो, और मेरी बातें तुम में बनी रहें तो जो चाहो मांगो और वह तुम्हारे लिये हो जाएगा” (1 यूहन्ना 3:21, 22; यूहन्ना 15: 7)।

और यह जानना बहुत जरूरी है कि विश्वास के बिना हम वह नहीं प्राप्त कर सकते हैं जो हम मांगते हैं। यीशु कहता है, “इसलिये मैं तुम से कहता हूं, कि जो कुछ तुम प्रार्थना करके मांगो तो प्रतीति कर लो कि तुम्हें मिल गया, और तुम्हारे लिये हो जाएगा” (मरकुस 11:24)। हमें परिणामों को देखने के लिए इंतजार नहीं करना चाहिए, हमें पहले विश्वास करने की आवश्यकता है; हमें यह कहने की आवश्यकता है कि ऐसा नहीं है, क्योंकि हम इसे देखते हैं, बल्कि इसलिए कि ईश्वर ने वादा किया है। विश्वास परमेश्वर के वचन में आश्वस्त होता है, न कि हम जो देखते हैं उसके साथ। जब परमेश्वर हमारे विश्वास को देखता है, तो वह हमें हमारी प्रार्थनाओं का उत्तर देगा। हम ईश्वर के प्रेम के बारे में जितना अधिक चिंतन करते हैं, जो क्रूस पर प्रकट होता है, हमारा विश्वास उतना ही मजबूत होता है (यूहन्ना 15:13)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: