बिलाम और बात करने वाली गद्धही की कहानी क्या है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

बिलाम और बालाक

बोर के पुत्र बिलाम और बात करने वाली गद्धही की कहानी बाइबिल में गिनती 22 में पाई जाती है। बोर का पुत्र एक समय में परमेश्वर का एक अच्छा भविष्यद्वक्ता था, लेकिन उसका पैसे के लिए एक मजबूत प्रेम था। और इसी कमजोरी के कारण उसका पतन हुआ।

इस्राएल के लोग वादा किए गए देश में प्रवेश करने के करीब थे, और वे उस देश की सीमाओं के पास थे जिसका राजा बालाक था। जब बालाक ने इस्राएल की सेना को देखा, तब वह डर गया, और उस समय के प्रसिद्ध भविष्यद्वक्ता बिलाम को बुलवा भेजा, कि आकर भेंट के बदले इस्राएलियों को उसके लिए शाप दे।

बालाक ने इस “भविष्यद्वक्ता” की शक्तियों के प्रभाव के बारे में सुना था। परन्तु यह “भविष्यद्वक्ता” जानता था कि इस्राएली परमेश्वर के लोग थे, और वह इस्राएल को शाप नहीं दे सकता था। और राजा बालाक के प्रस्ताव को न कहने के बजाय, वह राजा द्वारा दी जाने वाली समृद्ध उपहारों और धन के वादों के कारण झिझक गया।

पद 12 और 13 में परमेश्वर ने अपनी इच्छा इस “नबी” को यह कहते हुए प्रकट की, “12 परमेश्वर ने बिलाम से कहा, तू इनके संग मत जा; उन लोगों को शाप मत दे, क्योंकि वे आशीष के भागी हो चुके हैं।
13 भोर को बिलाम ने उठ कर बालाक के हाकिमों से कहा, तुम अपने देश को चले जाओ; क्योंकि यहोवा मुझे तुम्हारे साथ जाने की आज्ञा नहीं देता।”

लेकिन “भविष्यद्वक्ता” अपने दिल में जाकर उपहार प्राप्त करना चाहता था। यदि वह परमेश्वर की इच्छा पूरी करना चाहता, तो पद 12 में अभिलिखित वचनों ने मामला समाप्त कर दिया होता। परन्तु जब कोई मनुष्य अपने मार्ग पर अडिग होता है, तो प्रभु उसे वह करने की अनुमति दे सकता है जो वह चाहता है और परिणाम प्राप्त कर सकता है (भजन संहिता 81:11, 12; होशे 4:17)। परमेश्वर की सरकार स्वतंत्र नैतिक पसंद की सरकार है; यहोवा मनुष्य की इच्छा को बल नहीं देता। वह मनुष्य को निर्देश देता है कि अवज्ञा विनाश लाता है लेकिन मनुष्य के गलत चुनाव को नहीं रोकता है।

इसलिए, पद 20 में, प्रभु ने “भविष्यद्वक्ता” को वह करने की अनुमति दी जो वह वास्तव में कहना चाहता है, “और परमेश्वर ने रात को बिलाम के पास आकर कहा, यदि वे पुरूष तुझे बुलाने आए हैं, तो तू उठ कर उनके संग जा; परन्तु जो बात मैं तुझ से कहूं उसी के अनुसार करना।” यह केवल एक अनुज्ञेय आदेश था। यह परमेश्वर की इच्छा पर नहीं बल्कि मनुष्य की अपनी इच्छा पर आधारित था।

बात करने वाली गद्धही

बिहान को बिलाम उठा, और अपनी गद्धही पर काठी बान्धी, और मोआबी हाकिमों के संग चला। परन्‍तु जब वह गया तो परमेश्वर बहुत क्रोधित हुआ, और यहोवा का दूत उसका विरोध करने को मार्ग पर खड़ा हुआ। जब गदही ने यहोवा के दूत को हाथ में खींची हुई तलवार लिये हुए मार्ग पर खड़ा देखा, तब वह मार्ग को मोड़कर मैदान में चली गई। इसलिए, “भविष्यद्वक्ता” ने इसे वापस सड़क पर लाने के लिए पीटा।

तब यहोवा का दूत दाख की बारियों में से एक संकरे मार्ग में खड़ा हुआ, जिसके दोनों ओर शहरपनाह थी। जब गद्धही ने यहोवा के दूत को देखा, तो वह दीवार के पास दब गई, और “भविष्यद्वक्ता” के पैर को कुचल दिया। अत: उसने एक बार फिर गद्धही को पीटा।

फिर से, यहोवा का दूत आगे बढ़ा और एक संकरे स्थान पर खड़ा हो गया जहां मुड़ने के लिए कोई जगह नहीं थी। जब गद्धही ने यहोवा के दूत को देखा, तो वह “नबी” के नीचे लेट गई, और वह क्रोधित हो गया और उसे अपने कर्मचारियों के साथ पीटा। तब यहोवा ने गद्धही का मुंह खोला, और उस ने उस पुरूष से कहा, मैं ने तुझ से ऐसा क्या किया है, कि तू मुझे तीन बार पीटता है? (पद 28)।

फिर, परमेश्वर ने “भविष्यद्वक्ता” की आंखें खोलीं और उसे अपनी तलवार हाथ में लिए हुए रास्ते में खड़ा स्वर्गदूत दिखाया, और गद्धही रास्ते से हटकर मैदान में चला गई। गद्धही मौत से बचने की कोशिश कर रही थी (वचन 31)।

लालच ने इस आदमी की आंखें अंधी कर दीं कि वह नहीं देख सका कि गद्धही क्या देख रही है। सच्चाई यह है कि “भविष्यद्वक्ता” ने अपना जीवन उस गद्धही के लिए दिया था जिसे उसने बुरी तरह पीटा था। जिस आत्मा ने उन्हें नियंत्रित किया, वह उसके व्यवहार में प्रतिबिंबित हुई।

यह व्यक्ति एक भविष्यद्वक्ता का उदाहरण है जिसने अपने मिशन से धर्मत्याग किया, अपनी ईश्वरीय बुलाहट से वित्तीय लाभ कमाने की कोशिश की। तदनुसार, हम बिलाम के विश्वासघात और भ्रष्टता के “सिद्धांत” को स्वीकार करने की परमेश्वर की चेतावनी (प्रकाशितवाक्य 2:14), समझौता करने की उसकी “त्रुटि” (यहूदा 11), और उसके लालच के “मार्ग” (2 पतरस 2:15) के बारे में पढ़ते हैं।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: