क्या आप बाइबल का प्रमाण दे सकते हैं कि यीशु परमेश्वर है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

परमेश्वर का वचन प्रमाण देता है कि यीशु परमेश्वर है:

क-यीशु मसीह परमेश्वर का देह-धारण है

“कि, देखो एक कुंवारी गर्भवती होगी और एक पुत्र जनेगी और उसका नाम इम्मानुएल रखा जाएगा जिस का अर्थ यह है “परमेश्वर हमारे साथ” (यशायाह 7:14, मत्ती 1:23)।

“और इस में सन्देह नहीं, कि भक्ति का भेद गम्भीर है; अर्थात वह जो शरीर में प्रगट हुआ” (1 तीमुथियुस 3:16)।

“आदि में वचन था, और वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था” (यूहन्ना 1: 1)।

ख-यीशु मसीह अनंत है- केवल परमेश्वर के पास ही यह गुण है

“हे बेतलेहेम एप्राता, यदि तू ऐसा छोटा है कि यहूदा के हजारों में गिना नहीं जाता, तौभी तुझ में से मेरे लिये एक पुरूष निकलेगा, जो इस्राएलियों में प्रभुता करने वाला होगा; और उसका निकलना प्राचीन काल से, वरन अनादि काल से होता आया है” (मीका 5:2)।

“हे यहोवा, तेरी राजगद्दी अनादिकाल से स्थिर है, तू सर्वदा से है” (भजन संहिता 93: 2)।

“निश्चय तू हमारा पिता है, यद्यपि इब्राहीम हमें नहीं पहिचानता, और इस्राएल हमें ग्रहण नहीं करता; तौभी, हे यहोवा, तू हमारा पिता और हमारा छुड़ाने वाला है; प्राचीनकाल से यही तेरा नाम है” (यशायाह 63:16)।

ग-यीशु मसीह के ईश्वरीय नाम हैं

प्रभु: मत्ती 22: 42-45; भजन संहिता 110:1; यूहन्‍ना 20:28।

“क्योंकि हमारे लिये एक बालक उत्पन्न हुआ, हमें एक पुत्र दिया गया है; और प्रभुता उसके कांधे पर होगी, और उसका नाम अद्भुत, युक्ति करने वाला, पराक्रमी परमेश्वर, अनन्तकाल का पिता, और शान्ति का राजकुमार रखा जाएगा” (यशायाह 9: 6)।

उद्धारकर्ता: यशायाह 43: 3, 43:11, 45:15, 45:21 में परमेश्वर उद्धारकर्ता हैं; होशे 13: 4; लूका 1:47; 1 तीमुथियुस 4:10; अभी तक यह एक ही शीर्षक लुका 2:11 में यीशु मसीह को दिया गया है; फिलिप्पियों 3:20; II तीमुथियुस 1:10; II पतरस 2:20।

चट्टान : परमेश्वर व्यवस्थाविवरण 32: 4, 32:15, 32:18, 32: 30-31 में है, 1 शमूएल 2: 2, भजन संहिता 18:31; अभी तक यह उपाधि प्रभु यीशु मसीह को 1 कुरिन्थियों 10: 1-4 में दी गई है; 1 पतरस 2: 7-8; रोम 9:33।

प्रथम और अंतिम: यशायाह 44:6 में प्रभु प्रथम और अंतिम हैं और प्रकाशितवाक्य 1:17 में यीशु को यही नाम दिया गया है।

घ- यीशु ने पिता के साथ समानता का दावा किया

“जिस ने परमेश्वर के स्वरूप में होकर भी परमेश्वर के तुल्य होने को अपने वश में रखने की वस्तु न समझा” (फिलिप्पियों 2: 6)।

“इसलिये तुम जाकर सब जातियों के लोगों को चेला बनाओ और उन्हें पिता और पुत्र और पवित्रआत्मा के नाम से बपतिस्मा दो” (मत्ती 28:19)।

“यीशु ने उस से कहा; हे फिलेप्पुस, मैं इतने दिन से तुम्हारे साथ हूं, और क्या तू मुझे नहीं जानता? जिस ने मुझे देखा है उस ने पिता को देखा है: तू क्यों कहता है कि पिता को हमें दिखा” (यूहन्ना 14:9)।

“मैं और मेरे पिता एक हैं” (यूहन्ना 10:30)।

ड़-यीशु मसीह सर्वव्यापी है-केवल ईश्वर के पास यह विशेषता है

“क्योंकि जहां दो या तीन मेरे नाम पर इकट्ठे होते हैं वहां मैं उन के बीच में होता हूं” (मत्ती 18:20)।

च- यीशु मसीह सर्वशक्तिमान है-केवल ईश्वर के पास यह विशेषता है

“और उन्हें सब बातें जो मैं ने तुम्हें आज्ञा दी है, मानना सिखाओ: और देखो, मैं जगत के अन्त तक सदैव तुम्हारे संग हूं” (मत्ती 28:20)।

“क्योंकि उस में ईश्वरत्व की सारी परिपूर्णता सदेह वास करती है। और तुम उसी में भरपूर हो गए हो जो सारी प्रधानता और अधिकार का शिरोमणि है” (कुलुस्सियों 2: 9-10)।

“फिर मैं ने बड़ी भीड़ का सा, और बहुत जल का सा शब्द, और गर्जनों का सा बड़ा शब्द सुना, कि हल्लिलूय्याह! इसलिये कि प्रभु हमारा परमेश्वर, सर्वशक्तिमान राज्य करता है” (प्रकाशितवाक्य 19: 6)।

“जिसे वह ठीक समयों में दिखाएगा, जो परमधन्य और अद्वैत अधिपति और राजाओं का राजा, और प्रभुओं का प्रभु है” (1 तीमुथियुस 6:15)।

“यीशु ने उन के पास आकर कहा, कि स्वर्ग और पृथ्वी का सारा अधिकार मुझे दिया गया है” (मत्ती 28:18)।

छ-यीशु मसीह सर्वज्ञानी है – केवल ईश्वर के पास यह विशेषता है

“और उस को अन्यजातियों के हाथ सोंपेंगे, कि वे उसे ठट्ठों में उड़ाएं, और कोड़े मारें, और क्रूस पर चढ़ाएं, और वह तीसरे दिन जिलाया जाएगा” (मत्ती 20:19; 16:21)।

“तौभी इसलिये कि हम उन्हें ठोकर न खिलाएं, तू झील के किनारे जाकर बंसी डाल, और जो मछली पहिले निकले, उसे ले; तो तुझे उसका मुंह खोलने पर एक सिक्का मिलेगा, उसी को लेकर मेरे और अपने बदले उन्हें दे देना” (मत्ती 17:27)।

“यीशु ने उस से कहा, जा, अपने पति को यहां बुला ला। स्त्री ने उत्तर दिया, कि मैं बिना पति की हूं: यीशु ने उस से कहा, तू ठीक कहती है कि मैं बिना पति की हूं। क्योंकि तू पांच पति कर चुकी है, और जिस के पास तू अब है वह भी तेरा पति नहीं; यह तू ने सच कहा है। स्त्री ने उस से कहा, हे प्रभु, मुझे ज्ञात होता है कि तू भविष्यद्वक्ता है” (यूहन्ना 4: 16-19)।

“यीशु ने नतनएल को अपनी ओर आते देखकर उसके विषय में कहा, देखो, यह सचमुच इस्त्राएली है: इस में कपट नहीं। नतनएल ने उस से कहा, तू मुझे कहां से जानता है? यीशु ने उस को उत्तर दिया; उस से पहिले कि फिलेप्पुस ने तुझे बुलाया, जब तू अंजीर के पेड़ के तले था, तब मैं ने तुझे देखा था। नतनएल ने उस को उत्तर दिया, कि हे रब्बी, तू परमेश्वर का पुत्र है; तू इस्त्राएल का महाराजा है” (यूहन्ना 1: 47-49)।

ज-यीशु मसीह सृष्टिकर्ता है

“आदि में वचन था, और वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था। यही आदि में परमेश्वर के साथ था। सब कुछ उसी के द्वारा उत्पन्न हुआ और जो कुछ उत्पन्न हुआ है, उस में से कोई भी वस्तु उसके बिना उत्पन्न न हुई” (यूहन्ना 1: 1-3)।

“क्योंकि उसी में सारी वस्तुओं की सृष्टि हुई, स्वर्ग की हो अथवा पृथ्वी की, देखी या अनदेखी, क्या सिंहासन, क्या प्रभुतांए, क्या प्रधानताएं, क्या अधिकार, सारी वस्तुएं उसी के द्वारा और उसी के लिये सृजी गई हैं” (कुलुस्सियों 1:16)।

“इन दिनों के अन्त में हम से पुत्र के द्वारा बातें की, जिसे उस ने सारी वस्तुओं का वारिस ठहराया और उसी के द्वारा उस ने सारी सृष्टि रची है” (इब्रानियों 1:2)।

झ-यीशु मसीह ने केवल परमेश्वर के प्रति होने वाली उपासना प्राप्त की

“तब यीशु ने उस से कहा; हे शैतान दूर हो जा, क्योंकि लिखा है, कि तू प्रभु अपने परमेश्वर को प्रणाम कर, और केवल उसी की उपासना कर” (मत्ती 4:10)।

प्रेरितों के काम 10:25-26 में, और 19:10 में, ईश्वर के अलावा किसी और की उपासना करना मना है, फिर भी यीशु ने स्वेच्छा से अपने सार्वजनिक सेवकाई में उपासना प्राप्त की (यूहन्ना 20:28; मत्ती 8:2; 9:18;15:25; 28: 9; यूहन्ना 9:38)।

ण-यीशु मसीह पाप क्षमा किए, जो केवल परमेश्वर ही कर सकते हैं

“और तब उन्हें फिर एक दूसरे से यह न कहना पड़ेगा कि यहोवा को जानो, क्योंकि, यहोवा की यह वाणी है कि छोटे से ले कर बड़े तक, सब के सब मेरा ज्ञान रखेंगे; क्योंकि मैं उनका अधर्म क्षमा करूंगा, और उनका पाप फिर स्मरण न करूंगा” (यिर्मयाह 31:34)। इन शब्दों के अनुसार, यह परमेश्वर है जो पापों को क्षमा करने की शक्ति और अधिकार रखता है। हालाँकि, नया नियम कहता है कि यीशु मसीह के पास यह शक्ति है:

“यीशु ने, उन का विश्वास देखकर, उस झोले के मारे हुए से कहा; हे पुत्र, तेरे पाप क्षमा हुए। तब कई एक शास्त्री जो वहां बैठे थे, अपने अपने मन में विचार करने लगे। कि यह मनुष्य क्यों ऐसा कहता है? यह तो परमेश्वर की निन्दा करता है, परमेश्वर को छोड़ और कौन पाप क्षमा कर सकता है? यीशु ने तुरन्त अपनी आत्मा में जान लिया, कि वे अपने अपने मन में ऐसा विचार कर रहे हैं, और उन से कहा, तुम अपने अपने मन में यह विचार क्यों कर रहे हो? सहज क्या है? क्या झोले के मारे से यह कहना कि तेरे पाप क्षमा हुए, या यह कहना, कि उठ अपनी खाट उठा कर चल फिर? परन्तु जिस से तुम जान लो कि मनुष्य के पुत्र को पृथ्वी पर पाप क्षमा करने का भी अधिकार है (उस ने उस झोले के मारे हुए से कहा)। मैं तुझ से कहता हूं; उठ, अपनी खाट उठाकर अपने घर चला जा”  (मरकुस 2: 5-11)।

ट-यीशु मसीह के पास उसके अपने जीवन और मृत्यु पर शक्ति थी

“पिता इसलिये मुझ से प्रेम रखता है, कि मैं अपना प्राण देता हूं, कि उसे फिर ले लूं। कोई उसे मुझ से छीनता नहीं, वरन मैं उसे आप ही देता हूं: मुझे उसके देने का अधिकार है, और उसे फिर लेने का भी अधिकार है: यह आज्ञा मेरे पिता से मुझे मिली है” (यूहन्ना 10: 17-18)।

“और यीशु ने बड़े शब्द से पुकार कर कहा; हे पिता, मैं अपनी आत्मा तेरे हाथों में सौंपता हूं: और यह कहकर प्राण छोड़ दिए” (लूका 23:46)।

“मैं मर गया था, और अब देख; मैं युगानुयुग जीवता हूं; और मृत्यु और अधोलोक की कुंजियां मेरे ही पास हैं” (प्रकाशितवाक्य 1:18)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

More answers: