कालेब ने ईश्वर की दृष्टि में पक्ष क्यों पाया?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी) മലയാളം (मलयालम)

परमेश्वर ने इस्राएलियों को मिस्र के बंधन से छुड़ाने के बाद, कनान देश को एक विरासत (निर्गमन 3: 8, 17) के रूप में रखने के लिए एक शक्तिशाली हाथ के साथ उनका नेतृत्व किया। जब वे कनान की सीमा पर पहुँचे, तो मूसा ने बारह लोगों को चुना और उन्हें देश की भेद लेने के लिए भेजा। कालेब यहूदा के गोत्र में से एक था।

इन लोगों ने राष्ट्र का भेद लिया और निम्नलिखित सूचना के साथ वापस आए, “उन्होंने मूसा से यह कहकर वर्णन किया, कि जिस देश में तू ने हम को भेजा था उस में हम गए; उस में सचमुच दूध और मधु की धाराएं बहती हैं, और उसकी उपज में से यही है। परन्तु उस देश के निवासी बलवान् हैं, और उसके नगर गढ़ वाले हैं और बहुत बड़े हैं; और फिर हम ने वहां अनाकवंशियों को भी देखा” (गिनती 13:27-28)। कालेब और यहोशू ने तुरंत मूसा को यह कहते हुए पहले लोगों को प्रोत्साहित किया, “पर कालेब ने मूसा के साम्हने प्रजा के लोगों को चुप कराने की मनसा से कहा, हम अभी चढ़ के उस देश को अपना कर लें; क्योंकि नि:सन्देह हम में ऐसा करने की शक्ति है” (गिनती 13:30)। लेकिन प्रोत्साहित होने के बजाय, लोगों ने अन्य दस भेदियों की नकारात्मक सूचना सुनी और निवासियों से डर गए और अपनी आवाज़ उठाई और भूलते हुए उस रात को रोए कि कैसे प्रभु ने उन्हें मिस्र से छुड़ाया। उन्होंने मूसा और हारून के खिलाफ शिकायत करते हुए कहा, “और सब इस्त्राएली मूसा और हारून पर बुड़बुड़ाने लगे; और सारी मण्डली उसने कहने लगी, कि भला होता कि हम मिस्र ही में मर जाते! और यहोवा हम को उस देश में ले जा कर क्यों तलवार से मरवाना चाहता है? हमारी स्त्रियां और बालबच्चे तो लूट में चलें जाएंगे; क्या हमारे लिये अच्छा नहीं कि हम मिस्र देश को लौट जाएं? वा इस जंगल ही में मर जाते। फिर वे आपस में कहने लगे, आओ, हम किसी को अपना प्रधान बना लें, और मिस्र को लौट चलें।” (गिनती 14:2- 4)।

उस समय, यहोशू और कालेब ने अपने कपड़े फाड़े और पूरे इस्त्रााएलियों से कहा, “और नून का पुत्र यहोशू और यपुन्ने का पुत्र कालिब, जो देश के भेद लेने वालों में से थे, अपने अपने वस्त्र फाड़कर, इस्त्राएलियों की सारी मण्डली से कहने लगे, कि जिस देश का भेद लेने को हम इधर उधर घूम कर आए हैं, वह अत्यन्त उत्तम देश है। यदि यहोवा हम से प्रसन्न हो, तो हम को उस देश में, जिस में दूध और मधु की धाराएं बहती हैं, पहुंचाकर उसे हमे दे देगा। केवल इतना करो कि तुम यहोवा के विरुद्ध बलवा न करो; और न तो उस देश के लोगों से डरो, क्योंकि वे हमारी रोटी ठहरेंगे; छाया उनके ऊपर से हट गई है, और यहोवा हमारे संग है; उन से न डरो” (गिनती 14: 6–9) लेकिन लोगों ने परमेश्वर पर विश्वास करने से इनकार कर दिया और उनकी अच्छी सूचना के लिए कालेब और यहोशू को पत्थर मारना चाहते थे (गिनती 14: 6-10)।

लेकिन परमेश्वर ने मूसा से कहा: ” परन्तु इस कारण से कि मेरे दास कालिब के साथ और ही आत्मा है, और उसने पूरी रीति से मेरा अनुकरण किया है,” और कालेब को यह वचन दिया कि वह एक भेदी के रूप में देखी गई सारी जमीन का मालिक होगा (गिनती 14: 11–24)। तब यहोवा ने अविश्वास करने वालों के खिलाफ एक दंड सुनाया: “उन सब लोगों ने जिन्होंने मेरी महिमा मिस्र देश में और जंगल में देखी, और मेरे किए हुए आश्चर्यकर्मों को देखने पर भी दस बार मेरी परीक्षा की, और मेरी बातें नहीं मानी, इसलिये जिस देश के विषय मैं ने उनके पूर्वजों से शपथ खाई, उसको वे कभी देखने न पाएंगे; अर्थात जितनों ने मेरा अपमान किया है उन में से कोई भी उसे देखने न पाएगा” (पद 22-23)। और यहोवा ने कहा, “तुम्हारी लोथें इसी जंगल में पड़ी रहेंगी; और तुम सब में से बीस वर्ष की वा उससे अधिक अवस्था के जितने गिने गए थे, और मुझ पर बुड़बुड़ाते थे, उस में से यपुन्ने के पुत्र कालिब और नून के पुत्र यहोशू को छोड़ कोई भी उस देश में न जाने पाएगा, जिसके विषय मैं ने शपथ खाई है कि तुम को उस में बसाऊंगा” (29-30)।

प्रभु का वचन पूरा हुआ। चालीस साल बाद, उन सभी मण्डली से, जिन्होंने मिस्र को छोड़ दिया, जो निर्गमन के समय कम से कम 20 वर्ष के थे, केवल यहोशू और कालेब को ही वादा किए गए राष्ट्र में प्रवेश और विरासत की अनुमति दी गई थी। सभी बाकी जंगल में नाश हो गए ; उनके बच्चों ने राष्ट्र में प्रवेश किया।

कालेब 85 वर्ष का था, जब उसने राष्ट्र में प्रवेश किया और प्रभु में उतना ही मजबूत था, जितना कि उसने मिस्र छोड़ते हुए किया था (यहोशू 15: 13-14)। और यपुन्ने के पुत्र कालेब को उसने यहोवा की आज्ञा के अनुसार यहूदियों के बीच भाग दिया, अर्थात किर्यतर्बा जो हेब्रोन भी कहलाता है (वह अर्बा अनाक का पिता था)। और कालेब ने वहां से शेशै, अहीमन, और तल्मै नाम, अनाक के तीनों पुत्रों को निकाल दिया। फिर वहां से वह दबीर के निवासियों पर चढ़ गया; पूर्वकाल में तो दबीर का नाम किर्यत्सेपेर था। (यहोशू 15: 13-15) कालेब को परमेश्वर में विश्वास था और उसके विश्वास को पुरस्कृत किया गया था, इस प्रकार उसने परमेश्वर की आँखों में पक्ष पाया। उसकी कहानी इस बात की गवाही के रूप में है कि प्रभु अपने विश्वासयोग्य बच्चों के लिए क्या करता है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी) മലയാളം (मलयालम)

More answers: