कलीसिया में एक आधुनिक-दिन के भविष्यद्वक्ता का कार्य क्या है?

Author: BibleAsk Hindi


कलीसिया में एक आधुनिक-दिन के भविष्यद्वक्ता का कार्य क्या है?

परमेश्वर के अंतिम दिनों की कलीसिया में भविष्यद्वाणी का वरदान होगा। क्योंकि बाइबल सिखाती है, “कि परमेश्वर कहता है, कि अन्त कि दिनों में ऐसा होगा, कि मैं अपना आत्मा सब मनुष्यों पर उंडेलूंगा और तुम्हारे बेटे और तुम्हारी बेटियां भविष्यद्वाणी करेंगी और तुम्हारे जवान दर्शन देखेंगे, और तुम्हारे पुरिनए स्वप्न देखेंगे” (प्रेरितों के काम 2:17)।

एक आधुनिक-दिन के भविष्यद्वक्ता के क्या कार्य हैं? बाइबल उत्तर देती है, “इसी प्रकार से प्रभु यहोवा अपने दास भविष्यद्वक्ताओं पर अपना मर्म बिना प्रकट किए कुछ भी न करेगा” (आमोस 3:7)। परमेश्वर अपनी दया इस तथ्य से दिखाता है कि वह लोगों पर अपनी सजा तब तक नहीं लाता जब तक कि वह पहले अपने भविष्यद्वक्ताओं के माध्यम से उन्हें चेतावनी नहीं देता। रोमियों द्वारा यरूशलेम को नष्ट करने से पहले, यीशु ने शहर के विनाश की भविष्यद्वाणी की थी। इसी तरह, हमारे आधुनिक समय में, मसीह के दूसरे आगमन पर दुनिया के विनाश से पहले, परमेश्वर अपने भविष्यद्वक्ताओं के माध्यम से दुनिया को चेतावनी देंगे।

एक अन्य कार्य यीशु की गवाही देना है। बाइबल हमें बताती है, “और मैं उस को दण्डवत करने के लिये उसके पांवों पर गिरा; उस ने मुझ से कहा; देख, ऐसा मत कर, मैं तेरा और तेरे भाइयों का संगी दास हूं, जो यीशु की गवाही देने पर स्थिर हैं, परमेश्वर ही को दण्डवत् कर; क्योंकि यीशु की गवाही भविष्यद्वाणी की आत्मा है” (प्रकाशितवाक्य 19:10)। पवित्र आत्मा को सबसे पहले यीशु की गवाही देने के लिए भेजा गया था (यूहन्ना 15:26), और उसकी गवाही व्यक्तिगत रूप से यीशु के समान है। चूँकि यह भविष्यद्वक्ताओं का विशिष्ट कार्य है कि वे यीशु के संदेश को लोगों तक पहुँचाएँ (प्रका०वा० 1:1), अन्त के समय की कलीसिया भविष्यद्वाणी के उपहार के प्रकटीकरण से अलग होगी।

इसके अलावा, भविष्यद्वक्ताओं की सेवकाई विश्वासियों में पुनरुत्थान लाएगी ताकि वे आत्मा के उपहार प्राप्त करने में सक्षम हो सकें। 1 कुरिन्थियों 1:5-8 में, पौलुस लिखता है कि कलीसिया के पास “मसीह की गवाही” होगी और यीशु के दूसरे आगमन तक “बिना किसी वरदान के पीछे आ जाएगी”। विश्वासियों पर पवित्र आत्मा के उण्डेले जाने की आशीष इस प्रकार होगी कि कलीसिया स्थापित हो सके और उनके विश्वास में जड़ें जमा सके और संसार में परमेश्वर के प्रेम को प्रदर्शित करने में समर्थ हो सके।

परमेश्वर के आत्मा की सामर्थ के द्वारा, कलीसिया पवित्र आत्मा के वरदान प्राप्त करेगी (पद 7)। ये उपहार 1 कुरीं 12:1,4-10,28; इफिसियों 4:8,11-13 में सूचीबद्ध हैं। आत्मा के इन वरदानों का उद्देश्य कलीसिया को आत्मिक रूप से बढ़ने में मदद करना है जब तक कि वह एकता तक नहीं पहुँच जाती जो वचन पर आधारित है (यूहन्ना 17:11-13) और यीशु में पूर्णता (इफिसियों 4:12-15)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment