उत्तर की गई प्रार्थना के लिए क्या शर्तें हैं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

परमेश्वर हर प्रार्थना सुनता है। दाऊद भविष्यद्वक्ता ने लिखा, “यहोवा, तू ने मुझे जांच कर जान लिया है॥ तू मेरा उठना बैठना जानता है; और मेरे विचारों को दूर ही से समझ लेता है” (भजन संहिता 139:1-2)। परमेश्वर हमारी प्रार्थनाओं को सुनता है और वह हमें उस तरह से आशीर्वाद देने के लिए बहुत उत्सुक है जो हमारे लिए सबसे अच्छा है। लेकिन उत्तर की गई प्रार्थनाओं के लिए शर्तें हैं:

1-हमें परमेश्वर के लिए अपनी जरूरत महसूस करने की जरूरत है। उसने प्रतिज्ञा की, क्योंकि मैं प्यासी भूमि पर जल और सूखी भूमि पर धाराएं बहाऊंगा; मैं तेरे वंश पर अपनी आत्मा और तेरी सन्तान पर अपनी आशीष उण्डेलूंगा” (यशायाह 44:3)। आत्मा के प्रभाव के लिए हृदय खुला होना चाहिए, अन्यथा परमेश्वर का आशीर्वाद प्राप्त नहीं किया जा सकता है। यीशु ने कहा, “मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूंढ़ो, तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा। जिस ने अपने निज पुत्र को भी न रख छोड़ा, परन्तु उसे हम सब के लिये दे दिया: वह उसके साथ हमें और सब कुछ क्योंकर न देगा?” (मत्ती 7:7; रोमियों 8:32)।

2-हमें पाप में नहीं जीना चाहिए। “यदि मैं अपने मन में अधर्म का विचार करूं, तो यहोवा मेरी न सुनेगा” (भजन संहिता 66:18)। परन्तु पश्‍चाताप करनेवाले जीव की प्रार्थना सदैव स्वीकार की जाती है (1 यूहन्ना 1:9)। जब उसकी शक्ति के द्वारा सभी ज्ञात पापों को त्याग दिया जाता है, तो हम विश्वास कर सकते हैं कि परमेश्वर हमारी प्रार्थनाओं का उत्तर देगा।

3-हमें उस पर विश्वास रखना चाहिए। “जो परमेश्वर के पास आता है, वह विश्वास करे, कि वह है, और जो उसके खोजी हैं, उसे प्रतिफल देता है” (इब्रानियों 11:6)। यीशु ने वादा किया था, “जो कुछ तुम चाहते हो, जब तुम प्रार्थना करते हो, तो विश्वास करो कि तुम उन्हें प्राप्त करते हो, और तुम उन्हें प्राप्त करोगे” (मरकुस 11:24)।

4-यीशु के नाम में प्रार्थना करें। यीशु ने प्रतिज्ञा की, “जो कुछ तुम मेरे नाम से पिता से मांगो वह तुम्हें देगा” (यूहन्ना 15:16)। यीशु के नाम में प्रार्थना करने का अर्थ है उसके वादों पर विश्वास करना, उसके अनुग्रह पर भरोसा करना, और उसके कार्यों को करना।

5-हममें दूसरों के प्रति प्रेम और क्षमा की भावना होनी चाहिए। हम कैसे प्रार्थना कर सकते हैं, “और जिस प्रकार हम ने अपने अपराधियों को क्षमा किया है, वैसे ही तू भी हमारे अपराधों को क्षमा कर” और फिर भी एक क्षमाशील आत्मा है? (मत्ती 6:12)। अगर हम उम्मीद करते हैं कि हमारी अपनी प्रार्थना सुनी जाएगी, तो हमें दूसरों को उसी तरह क्षमा करना चाहिए जैसे हम क्षमा करना चाहते हैं।

6-हमें प्रार्थना में लगे रहना चाहिए। हमें “प्रार्थना में तुरन्त” और “प्रार्थना में लगे रहना” है (रोमियों 12:12; कुलुस्सियों 4:2)। हम इतने अदूरदर्शी हैं कि हम कभी-कभी ऐसी चीजें मांगते हैं जो हमारे लिए अच्छी नहीं होतीं, और प्यार में परमेश्वर हमारी प्रार्थनाओं का जवाब हमें वह देते हैं जो हमारे भले के लिए होता है-जो हम खुद चाहते हैं अगर हम सभी चीजों को देख सकें परमेश्वर उन्हें देखता है।

7- हमें धन्यवाद के साथ प्रार्थना करनी चाहिए। “यहोवा को अपने सुख का मूल जान, और वह तेरे मनोरथों को पूरा करेगा” (भजन संहिता 37:4)। “धन्यवाद के बलिदान का चढ़ाने वाला मेरी महिमा करता है; और जो अपना चरित्र उत्तम रखता है उसको मैं परमेश्वर का किया हुआ उद्धार दिखाऊंगा!” (भजन 50:23)।

परमेश्वर हमारी प्रार्थना सुनता है। इसलिए, हमें अपनी इच्छाओं, अपने सुखों, अपने दुखों, अपनी चिन्ता, और अपने भय को परमेश्वर के सामने रखना है क्योंकि “यहोवा अत्यन्त दयनीय और कोमल है” (याकूब 5:11)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: