आर्मीन्‍यूसवाद के संबंध में केल्विनवाद क्या है? बाइबिल पर आधारित कौन सा है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

आर्मीन्‍यूसवाद और केल्विनवाद दो विरोधी विचार हैं जो परमेश्वर की संप्रभुता और उद्धार के संबंध में मनुष्य की जिम्मेदारी से संबंधित हैं। केल्विनवाद की स्थापना जॉन कैल्विन (1509-1564) ने की जबकि आर्मीन्‍यूसवाद की स्थापना जैकबस आर्मिनियस (1560-1609) ने की थी।

आर्मीन्‍यूसवाद अपने मूल सिद्धांत के लिए बाइबिल है जो पूर्वनिर्धारण और स्वतंत्र इच्छा की पुष्टि में निहित है। आर्मीन्‍यूसवाद और केल्विनवाद को पांच बिंदुओं के साथ संक्षेप में प्रस्तुत किया जा सकता है। परमेश्वर के वचन के संबंध में दोनों प्रणालियों की एक संक्षिप्त परीक्षा निम्नलिखित है:

1-भ्रष्टता

केल्विनवाद: लोगों को इस तरह से भ्रष्ट है कि वे परमेश्वर की कृपा के बिना बचाए जाने के लिए अयोग्य हैं।

आर्मीन्‍यूसवाद: लोगों भ्रष्ट है, लेकिन वे परमेश्वर पर उसकी कृपा से विश्वास करने में सक्षम हैं।

आर्मीन्‍यूसवाद धर्म के लिए बाइबल का समर्थन: सभी लोगों को प्रभु यीशु मसीह (यूहन्ना 1:12; यूहन्ना 3: 15-18, 36) पर विश्वास करके बचाया जा सकता है।

2-चुनाव

केल्विनवाद: परमेश्वर बिना शर्त चुनता है जिसे वह बचाएगा।

आर्मीन्‍यूसवाद: परमेश्वर ने लोगों को उद्धार के लिए  चुना है जिसका उसने पूर्वाभास किया है कि वह विश्वास करेगा।

आर्मीन्‍यूसवाद के लिए बाइबिल का समर्थन: परमेश्वर का चुनाव केवल उसके पूर्वाभास पर आधारित है (1 पतरस 1: 2; रोमियों 8:43)। परमेश्वर सर्वज्ञानी है क्योंकि वह सब कुछ जानता है, अर्थात वह सभी चीजों को जानता है। अतीत, वर्तमान और भविष्य सभी समान रूप से वह जानता है। वह जानता है कि कौन उसे चुनेगा और कौन उसे अस्वीकार करेगा। परमेश्वर बस देखता है कि मनुष्य क्या चुनेगा लेकिन यह मनुष्य पर निर्भर है कि वह अपना भाग्य खुद तय करे। परमेश्वर की दूरदर्शिता मनुष्य के चुनने की स्वतंत्रता में हस्तक्षेप नहीं करती है। पवित्रशास्त्र सिखाता है कि “जो भी करेगा” मसीह में आ सकता है (यूहन्ना 3: 15,16; 4:14; 12:46; प्रेरितों 2:21, 10:43; रोमियों 10:13; प्रकाशितवाक्य 22:17)। जो भी शब्द का अर्थ है “सभी, किसी भी, प्रत्येक, और सारे।”

3-प्रायश्चित

केल्विनवाद: मसीह की मृत्यु सभी के लिए एक पर्याप्त प्रायश्चित है, लेकिन यह बनाया गया है कि यह चुने हुए के लिए प्रभावी हो।

आर्मीन्‍यूसवाद: मसीह की मृत्यु सभी के लिए एक पर्याप्त प्रायश्चित है और विश्वास के लिए प्रभावी होगा जब विश्वासी निर्णय करेंगे, मसीह नहीं।

आर्मीन्‍यूसवाद के लिए बाइबिल का समर्थन: मसीह की मृत्यु हर मनुष्य के लिए पेश की गई थी, 1 यूहन्ना 2: 2 हमें बताता है कि यीशु की मृत्यु न केवल हमारे पापों के लिए बल्कि पूरी दुनिया के पापों के लिए एक अनुकूल (संतुष्टि) थी। इब्रानियों 2: 9 में, यह कहता है कि मसीह ने “प्रत्येक मनुष्य” के लिए मृत्यु का स्वाद चखा। 1 तीमुथियुस 2: 6 कहता है कि उसने खुद को सभी के लिए फिरौती दी। यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले ने यूहन्ना 1:29 में घोषित किया कि यीशु परमेश्वर का मेम्ना था जो दुनिया के पाप को उठा ले जाता है। यशायाह 53:6 में, परमेश्वर का वचन बताता है कि सभी भटक गए हैं और प्रभु ने यीशु पर हम सभी के अधर्म को रखा है। चूंकि सुसमाचार “जो भी करेगा” और इसमें अच्छी खबर है कि मसीह सभी पापियों के लिए मर गया, हम यह निष्कर्ष निकालते हैं कि मसीह का प्रायश्चित सीमित नहीं है। इसके अलावा, पवित्र आत्मा वर्तमान में दुनिया (सभी मनुष्यों) को पाप की सजा दिलाने के लिए काम कर रहा है। परमेश्वर “की यह इच्छा नहीं कि कोई भी नाश हो” (2 पतरस 3: 9), लेकिन चाहता है कि “सभी मनुष्यों को बचाया जाए” (1 तीमुथियुस 2: 4)।

4-अनुग्रह

केल्विनवाद: नया जन्म दिल में नवीकरण परमेश्वर का कार्य है जो विश्वास के कार्य को लाता है।

आर्मीन्‍यूसवाद: नया जन्म हृदय में नवीकरण परमेश्वर का कार्य है लेकिन यह केवल विश्वासी के विश्वास की प्रतिक्रिया है।

आर्मीन्‍यूसवाद के लिए बाइबल का समर्थन: बाइबल कहती है, “क्योंकि परमेश्वर का अनुग्रह प्रगट है, जो सब मनुष्यों के उद्धार का कारण है” (तीतुस 2:11)। चूँकि परमेश्वर ने सभी मनुष्यों के लिए मुक्ति प्रदान की है और अभी तक सभी नहीं आते हैं, यह इस बात का पर्याप्त प्रमाण है कि मनुष्यों परमेश्वर की कृपा का विरोध कर सकते हैं। बाइबल परमेश्वर की कृपा का विरोध करने वाले मनुष्यों के स्पष्ट उदाहरण देती है। यीशु ने यरूशलेम पर खड़े होकर कहा कि वह उन्हें अपने पास इकट्ठा करना चाहता है, लेकिन वे “नहीं होंगे” (मत्ती 23:37)। जब स्तिुफनुस ने यहूदियों को उपदेश दिया, तो उसने परमेश्वर के वचन के प्रति उनके रवैये के बारे में कहा कि, कि वे कठोर थे और वे पवित्र आत्मा का विरोध कर रहे थे जो उन्हें बुला रहा था (प्रेरितों के काम 7:51)। इब्रानीयों के लेखक, जब उन लोगों के बारे में बताते हैं, जो “अपराध के लिए पीछे हटते हैं” (इब्रानियों 10:39), ने कहा कि यद्यपि वे मसीह के लहू से पवित्र थे, फिर भी उन्होंने “अनुग्रह की आत्मा को त्याग दिया था” (इब्रानियों 10:29)।

5-दृढ़ता

केल्विनवाद: परमेश्वर विश्वास में संतों को संरक्षित करने के लिए असीम रूप से काम करते हैं, इसलिए कोई भी कभी भी खो नहीं जाता है।

आर्मीन्‍यूसवाद: परमेश्वर अपने लोगों को विश्वास में बचाने के लिए काम करता है लेकिन लोग परमेश्वर को अस्वीकार करना और दूर होना चुन सकते हैं।

आर्मीन्‍यूसवाद के लिए बाइबल का समर्थन: विश्वासी की अनंत सुरक्षा मसीह में उसके पालन पर निर्भर है (यूहन्ना: 1-6; मत्ती 24:13; 1 कुरिन्थियों 9:27)। यदि कोई व्यक्ति खुद को मसीह से अलग करने का विकल्प चुनता है, तो उसे पेड़ से एक शाखा की तरह काट दिया जाएगा (2 पतरस 20: 21; 1 तीमुथियुस 4: 1; प्रकाशितवाक्य 2: 4, 5)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

More answers: