आत्मा के कुछ उपहार क्या हैं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1 कुरिन्थियों के अध्याय 12-14 मुख्य रूप से आत्मा के उपहारों के विषय से व्यवहार करते हैं:

“क्योंकि एक को आत्मा के द्वारा बुद्धि की बातें दी जाती हैं; और दूसरे को उसी आत्मा के अनुसार ज्ञान की बातें। और किसी को उसी आत्मा से विश्वास; और किसी को उसी एक आत्मा से चंगा करने का वरदान दिया जाता है। फिर किसी को सामर्थ के काम करने की शक्ति; और किसी को भविष्यद्वाणी की; और किसी को आत्माओं की परख, और किसी को अनेक प्रकार की भाषा; और किसी को भाषाओं का अर्थ बताना” (1 कुरिन्थियों 12:8-10)।

वे सभी जो मसीह के सामने आत्मसमर्पण करते हैं और पृथ्वी पर उनकी कलिसिया के सदस्य बनते हैं, चाहे उनकी राष्ट्रीयता या सामाजिक या आर्थिक स्थिति या बौद्धिक उपलब्धि कुछ भी हो, उन्हें यह आश्वासन है कि पवित्र आत्मा उन्हें आत्मा के उपहारों से सुसज्जित करेगा ताकि वे उच्च स्तर की प्रभावशीलता के साथ उनके मसीही कर्तव्य का प्रदर्शन कर सकें।

पवित्र आत्मा अपने उपहारों को विश्वासियों को उनकी क्षमताओं और प्रत्येक व्यक्ति के अनुभव में विद्यमान आवश्यकताओं के ज्ञान के अनुसार वितरित करता है। यह एक मनमाना विभाजन नहीं है, बल्कि सर्वोच्च समझ पर आधारित है। कलीसिया को मसीह के आगमन पर बिना किसी दाग या दोष के परमेश्वर से मिलने के लिए तैयार करने का महान उद्देश्य उपहारों के वितरण में नियंत्रण करने वाला कारक है (इफि० 4:12, 13; 5:27; प्रका०वा० 14:5)।

कुछ लोगों को आज सिखाया जाता है कि प्रत्येक व्यक्ति जो पवित्र आत्मा से भरा हुआ है, उसे अन्यभाषा में बोलना चाहिए। परन्तु पौलुस सलाह देता है, “प्रेम का अनुकरण करो, और आत्मिक वरदानों की भी धुन में रहो विशेष करके यह, कि भविष्यद्वाणी करो। क्योंकि जो अन्य ‘भाषा में बातें करता है; वह मनुष्यों से नहीं, परन्तु परमेश्वर से बातें करता है; इसलिये कि उस की कोई नहीं समझता; क्योंकि वह भेद की बातें आत्मा में होकर बोलता है। परन्तु जो भविष्यद्वाणी करता है, वह मनुष्यों से उन्नति, और उपदेश, और शान्ति की बातें कहता है। जो अन्य भाषा में बातें करता है, वह अपनी ही उन्नति करता है; परन्तु जो भविष्यद्वाणी करता है, वह कलीसिया की उन्नति करता है। मैं चाहता हूं, कि तुम सब अन्य भाषाओं में बातें करो, परन्तु अधिकतर यह चाहता हूं कि भविष्यद्वाणी करो: क्योंकि यदि अन्यान्य भाषा बोलने वाला कलीसिया की उन्नति के लिये अनुवाद न करे तो भविष्यद्ववाणी करने वाला उस से बढ़कर है। इसलिये हे भाइयों, यदि मैं तुम्हारे पास आकर अन्य अन्य भाषा में बातें करूं, और प्रकाश, या ज्ञान, या भविष्यद्वाणी, या उपदेश की बातें तुम से न कहूं, तो मुझ से तुम्हें क्या लाभ होगा?” (1 कुरिन्थियों 14:1-6) . आत्मा के उपहारों में, पौलुस ने भविष्यद्वाणी के उपहार को अन्य भाषाओं के उपहार की तुलना में अधिक महत्व दिया।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: