आकान का पाप क्या था?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

आकान के पाप की कहानी यहोशू अध्याय सात की पुस्तक में दर्ज है। यरीहो पर कब्जा करने से पहले, परमेश्वर ने आज्ञा दी थी कि “नगर, और जो कुछ उस में है, वह भी शापित होगा” (यहोशू 6:18)। यरीहो पर प्रतिबंध लगाया जाना था, और उसके धन को यहोवा और उसके खजाने को समर्पित किया जाना था। जेरिको कनान पर इस्राएल की विजय का पहला फल था, और इस प्रकार परमेश्वर को समर्पित था। अफसोस की बात है कि इस आदेश का एक व्यक्ति ने गुप्त तरीके से उल्लंघन किया।

आकान ने परमेश्वर की आज्ञा की अवहेलना की

इस उल्लंघन का जल्द ही पता चला जब इस्राएल को कनानियों से हार का सामना करना पड़ा। यहोशू ने इस हार का कारण पूछा और यहोवा ने उसे उत्तर दिया, “इस्राएलियों ने पाप किया है; और जो वाचा मैं ने उन से अपने साथ बन्धाई थी उसको उन्होंने तोड़ दिया है, उन्होंने अर्पण की वस्तुओं में से ले लिया, वरन चोरी भी की, और छल करके उसको अपने सामान में रख लिया है” (यहोशू 7:11)।

यहोशू को छावनी में गुप्त पाप के बारे में सूचित किया गया था, और कहा गया था कि यह पता लगाया जाना चाहिए और प्रभु की उपस्थिति और आशीर्वाद प्राप्त करने से पहले इसे दूर किया जाना चाहिए। अपराधी के अपराध के लिए राष्ट्र को जवाबदेह ठहराया गया था। यहोशू को दोषी व्यक्ति की खोज के लिए चिट्ठी डालने का निर्देश दिया गया था। कदम दर कदम तलाश जारी थी। पहले गोत्र, फिर परिवार, फिर घराना, और आदमी मिला। और यहूदा के गोत्र के कर्म्मी के पुत्र आकान को परमेश्वर ने इस्राएल के बाधित करने के रूप में चुन लिया।

आकान ने अपना पाप कबूल किया

आकान ने अपना अपराध पूर्ण रूप से स्वीकार कर लिया: “20 और आकान ने यहोशू को उत्तर दिया, कि सचमुच मैं ने इस्राएल के परमेश्वर यहोवा के विरुद्ध पाप किया है, और इस प्रकार मैं ने किया है,

21 कि जब मुझे लूट में शिनार देश का एक सुन्दर ओढ़ना, और दो सौ शेकेल चांदी, और पचास शेकेल सोने की एक ईंट देख पड़ी, तब मैं ने उनका लालच करके उन्हें रख लिया; वे मेरे डेरे के भीतर भूमि में गड़े हैं, और सब के नीचे चांदी है” (पद 20,21)।

उसके डेरे में दूत भेजे गए, और देखो, वह उसके डेरे में और उसके नीचे चान्दी छिपा हुआ है। और वे उनको तम्बू के बीच में से निकाल कर यहोशू के पास ले आए। . . और उन्हें यहोवा के साम्हने रख दिया” (पद 22,23)। सजा दी गई और तुरंत पूरा किया गया। “तब यहोशू ने उस से कहा, तू ने हमें क्यों कष्ट दिया है? आज के दिन यहोवा तुझी को कष्ट देगा। तब सब इस्राएलियों ने उसको पत्थरवाह किया; और उन को आग में डालकर जलाया, और उनके ऊपर पत्थर डाल दिए” (पद 25)। इतिहास की पुस्तक में उसका स्मारक लिखा है- “फिर कमीं का पुत्र: आकान जो अर्पण की हुई पस्तु के विषय में विश्वासघात कर के इस्राएलियों का कष्ट देने वाला हुआ” (1 इतिहास 2:7)।

आकान की मृत्यु का कारण बने घातक पाप की जड़ लोभ में थी। बाइबल चेतावनी देती है, “तुम परमेश्वर और शैतान की सेवा नहीं कर सकते” (मत्ती 6:24)। “सावधान रहना, और लोभ से सावधान रहना” (लूका 12:15)। “एक बार उसका नाम तुम्हारे बीच में न रखा जाए” (इफिसियों 5:3)।

बाइबल सिखाती है कि विश्वासी भी अपना दशमांश न देकर परमेश्वर को लूट सकते हैं। “क्या मनुष्य परमेश्वर को धोखा दे सकता है? देखो, तुम मुझ को धोखा देते हो, और तौभी पूछते हो कि हम ने किस बात में तुझे लूटा है? दशमांश और उठाने की भेंटों में” (मलाकी 3:8)। लेकिन परमेश्वर विश्वासियों पर आशीर्वाद का वादा करते हैं, “सारे दशमांश भण्डार में ले आओ कि मेरे भवन में भोजनवस्तु रहे; और सेनाओं का यहोवा यह कहता है, कि ऐसा कर के मुझे परखो कि मैं आकाश के झरोखे तुम्हारे लिये खोल कर तुम्हारे ऊपर अपरम्पार आशीष की वर्षा करता हूं कि नहीं” (पद 10)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: