अबीगैल एक बुद्धिमान स्त्री कैसे थी?

This page is also available in: English (English)

अबीगैल की कहानी का उल्लेख शमूएल अध्याय 25 की पहली पुस्तक में किया गया है। अबीगैल एक बुद्धिमान और रूपवती स्त्री थी (पद 3)। वह कालेब के घर नाबाल की पत्नी थी जो माओन में रहती थी। नाबाल एक बहुत धनी व्यक्ति था जिसके पास तीन हज़ार भेड़ और एक हज़ार बकरियाँ थीं। उनका व्यवसाय कार्मेल में भेड़ें की ऊन कतरना था (पद 2)। लेकिन वह एक कठोर और दुष्ट व्यक्ति था (पद 3)।

जब दाऊद और उसकी सेना राजा शाऊल से भागती थी, तो वे ऊन कतने के मौसम में नाबाल की देश पहुँचे। और, दाऊद ने अपने दस आदमियों को कुछ सामग्री माँगने के लिए नाबाल के पास भेजा क्योंकि वे ज़रूरतमंद थे (पद 4-8)। लेकिन नाबाल ने दाऊद की मदद करने से इनकार कर दिया और उसे यह कहते हुए मना कर दिया कि “दाऊद कौन है? यिशै का पुत्र कौन है?” (पद 10)। इसलिए, नाबाल पर हमला करने के लिए दाऊद ने अपने चार सौ लोगों को यह कहते हुए आदेश दिया, ” अपनी अपनी तलवार बान्ध लो” (1 शमूएल 25:13)

लेकिन नाबाल के सेवकों ने अबीगैल उसकी पत्नी को बताया कि दाऊद के लोग उनके साथ कितने अच्छे थे, और खेतों में थे उनकी और उनकी भेड़ों की रक्षा की। और उन्होंने कहा कि नाबाल की प्रतिक्रिया के कारण अब उन सभों नुकसान का सामना करना पड़ेगा (पद 14-16)। इसलिए, अब अबीगैल ने फुर्ती से दो सौ रोटी, और दो कुप्पी दाखमधु, और पांच भेडिय़ों का मांस, और पांच सआ भूना हुआ अनाज, और एक सौ गुच्छे किशमिश, और अंजीरों की दो सौ टिकियां ले कर गदहों पर लदवाई (पद 18)।

और जब अबीगैल ने दाऊद को देखा, तो उसने कहा: ” मेरा प्रभु उस दुष्ट नाबाल पर चित्त न लगाए………….. और अब यह भेंट जो तेरी दासी अपने प्रभु के पास लाई है, उन जवानों को दी जाए जो मेरे प्रभु के साथ चालते हैं। अपनी दासी का अपराध क्षमा कर………….. इसलिये जब यहोवा मेरे प्रभु के लिये यह समस्त भलाई करेगा जो उसने तेरे विषय में कही है, और तुझे इस्राएल पर प्रधान करके ठहराएगा, तब तुझे इस कारण पछताना न होगा………….. ” (25-31) )।

तब, दाऊद ने अबीगैल से कहा: “इस्राएल का परमेश्वर यहोवा धन्य है, जिसने आज के दिन मुझ से भेंट करने के लिये तुझे भेजा है। और तेरा विवेक धन्य है, और तू आप भी धन्य है, कि तू ने मुझे आज के दिन खून करने और अपना पलटा आप लेने से रोक लिया है” ( पद 32-33)। दाऊद ने उसे अविचारी काम से बचाने के लिए परमेश्वर का शुक्रिया अदा किया और उसने उसका तोहफा स्वीकार कर लिया।

इस समय नाबाल अपने घर में एक राजा की जेवनार कर रहा था और वह बहुत नशे में था। लेकिन जब वह अगले दिन शांत हो गया, तो उसकी पत्नी ने उसे बताया कि उसने क्या किया और उसने पूरे परिवार को कैसे बचाया। जब उसने यह सुना, तो उसका दिल डर से भर गया और वह पत्थर सा सुन्न हो गया। दस दिनों के बाद, कि यहोवा ने नाबाल को मारा, और वह मर गया (पद 37-38)। नाबाल के पास उसका मौका था कि वह इस्राएल के परमेश्वर के अभिषिक्त भविष्य के राजा के लिए आशीष का स्रोत बन सके। लेकिन उसने इनकार कर दिया और इस तरह उसने अपने जीवन पर परमेश्वर की सुरक्षा का अपना अधिकार खो दिया।

और जब दाऊद ने नाबाल की मृत्यु के बारे में सुना, तो उसने अबीगैल को एक वचन भेजा, जिसमें उसे अपनी पत्नी बनने के लिए कहा। और उसने उसके प्रस्ताव को यह कहते हुए स्वीकार कर लिया, ” तेरी दासी अपने प्रभु के सेवकों के चरण धोने के लिये दासी बने।” (पद 41)। अबीगैल की बुद्धिमानी और समझदारी ने उसके परिवार, दाऊद और उसकी सेना को खून के बहाने से बचा लिया। और यहोवा ने नाबाल को उसकी बुराई के लिए न्याय दिया।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English)

You May Also Like

यीशु को देखने के लिए मजूसी ने कितनी दूर की यात्रा की?

This page is also available in: English (English)बाइबल हमें बताती है कि मजूसी ने अपनी यात्रा पूर्व से यरुशलम को शुरू की: “हेरोदेस राजा के दिनों में जब यहूदिया के…
View Post

रानी एस्तेर की कहानी क्या है?

Table of Contents रानी वशती का राजगद्दी से हटाया जानाएक नई रानी की तलाश हैएस्तेर को एक रानी के रूप में चुना गयायहूदियों को नष्ट करने का हामान का फरमानएस्तेर…
View Post