अच्छे कार्य हमें उद्धार क्यों नहीं दिला सकते?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

अच्छे कार्य हमें उद्धार क्यों नहीं दिला सकते?

अच्छे कार्य हमें उद्धार नहीं दिला सकते क्योंकि मनुष्य परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करने और अपनी धार्मिकता स्थापित करने में असमर्थ है। बाइबल कहती है, “हमारी सब धार्मिकता मैले चिथड़ों के समान है” (यशायाह 64:6)। मनुष्य के सर्वोत्तम कार्य धार्मिकता नहीं, बल्कि अपरिपूर्णता उत्पन्न करते हैं। केवल धार्मिकता का वस्त्र जो मसीह ने प्रदान किया है वह मनुष्य को परमेश्वर की उपस्थिति में प्रकट होने के योग्य बनाएगा। “तौभी यह जानकर कि मनुष्य व्यवस्था के कामों से नहीं, पर केवल यीशु मसीह पर विश्वास करने के द्वारा धर्मी ठहरता है, हम ने आप भी मसीह यीशु पर विश्वास किया, कि हम व्यवस्था के कामों से नहीं पर मसीह पर विश्वास करने से धर्मी ठहरें; इसलिये कि व्यवस्था के कामों से कोई प्राणी धर्मी न ठहरेगा” (गला० 2:16)।

पौलुस ने लिखा, “इसलिये कि सब ने पाप किया है और परमेश्वर की महिमा से रहित हैं” (रोमियों 3:23)। आदम के पाप ने मनुष्य में ईश्वरीय स्वरूप को नष्ट कर दिया (रोमियों 5:12), और मनुष्य के पतन के बाद से, आदम के सभी बच्चे परमेश्वर के आदर्श से दूर पाप में लगे रहे हैं। जैसे एक शाखा जब एक पेड़ से अलग हो जाती है तो शीघ्र ही मुरझा जाती है और मर जाती है, वैसे ही, बिना मसीह के एक व्यक्ति जीवित नहीं रह सकता (यूहन्ना 5:5)।

चूँकि मनुष्यों के पास ऐसा कुछ भी नहीं है जिसके द्वारा वे परमेश्वर के साथ एक अधिकार प्राप्त कर सकें, इसलिए धार्मिकता एक मुफ्त उपहार के रूप में आना चाहिए। केवल जब कोई व्यक्ति विनम्रतापूर्वक परमेश्वर की धार्मिकता को स्वीकार करता है और यह स्वीकार करने के लिए तैयार होता है कि उसे वास्तव में परमेश्वर की महिमा की आवश्यकता है और उसके पास अपने आप में ऐसा कुछ भी नहीं है जो उसे परमेश्वर की कृपा प्रदान करे, तभी वह विश्वास के द्वारा एक मुफ्त उपहार के रूप में धार्मिकता को स्वीकार करने में सक्षम होता है (इफिसियों 2:8)।

धार्मिकता प्राप्त करने का एकमात्र संभव तरीका यीशु मसीह में विश्वास करना है। विश्वास के इस अनुभव के द्वारा, एक व्यक्ति को एक बार फिर से परमेश्वर के साथ अच्छी स्थिति में लाया जाता है (रोमियों 3:24) क्योंकि परमेश्वर उसमें एक नया हृदय उत्पन्न कर सकता है और वह विश्वास के द्वारा एक बार फिर परमेश्वर की व्यवस्था का पालन करते हुए जीने के लिए शक्ति प्राप्त करता है। “जब हम विश्वास से धर्मी ठहरे, तो अपने प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर के साथ मेल रखें” (रोमियों 5:1)।

जैसे ही परमेश्वर की यह महिमा मसीह में प्रकट हुई, सुसमाचार से एक विश्वासी के दिल और दिमाग में चमकती है, यह उसे “प्रभु में प्रकाश” में बदल देती है (इफि० 5:8)। इस प्रकार “परन्तु जब हम सब के उघाड़े चेहरे से प्रभु का प्रताप इस प्रकार प्रगट होता है, जिस प्रकार दर्पण में, तो प्रभु के द्वारा जो आत्मा है, हम उसी तेजस्वी रूप में अंश अंश कर के बदलते जाते हैं” (2 कुरिं। 3:18)। इस प्रकार प्रत्येक मसीही का लक्ष्य अपने जीवन में परमेश्वर की महिमा या चरित्र को प्रतिबिंबित करना है (रोम 5:2; 1 थिस्स 2:12; 2 थिस्स 2:14)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: