अंतिम दिनों के प्रमुख संकेत क्या हैं?

Author: BibleAsk Hindi


यहाँ कई सकारात्मक संकेत दिए गए हैं जो बताते हैं कि हम पृथ्वी के इतिहास के अंतिम दिनों में रह रहे हैं:

1-महान भूकंप: यीशु मसीह ने भविष्यद्वाणी की, “और बड़ें बड़ें भूईडोल होंगे, और जगह जगह अकाल और मरियां पड़ेंगी, और आकाश में भयंकर बातें और बड़े बड़े चिन्ह प्रगट होंगे” (लूका 21:11)। यीशु ने जारी रखा, “जब ये बातें होने लगें, तो सीधे होकर अपने सिर ऊपर उठाना; क्योंकि तुम्हारा छुटकारा निकट होगा” (लूका 21:28)।

2-हिंसा: यीशु ने भविष्यद्वाणी की थी, “जैसे नूह के दिन थे, वैसा ही मनुष्य के पुत्र का आना भी होगा” (मत्ती 24:37)। नूह के दिन में ऐसा क्या था? “उस समय पृथ्वी परमेश्वर की दृष्टि में बिगड़ गई थी, और उपद्रव से भर गई थी” (उत्पत्ति 6:11)। “तब परमेश्वर ने नूह से कहा, सब प्राणियों के अन्त करने का प्रश्न मेरे साम्हने आ गया है; क्योंकि उनके कारण पृथ्वी उपद्रव से भर गई है, इसलिये मैं उन को पृथ्वी समेत नाश कर डालूंगा” (उत्पत्ति 6:13)।

3-युद्ध और हंगामे: “और जब तुम लड़ाइयों और बलवों की चर्चा सुनो, तो घबरा न जाना; क्योंकि इन का पहिले होना अवश्य है; परन्तु उस समय तुरन्त अन्त न होगा” (लूका 21: 9)।

4-अनैतिकता: फिर से, यीशु ने भविष्यद्वाणी की, “और जैसा लूत के दिनों में हुआ था, कि लोग खाते-पीते लेन-देन करते, पेड़ लगाते और घर बनाते थे। मनुष्य के पुत्र के प्रगट होने के दिन भी ऐसा ही होगा” (लूका 17:28, 30)। परमेश्वर के सदोम और अमोरा को नष्ट करने से पहले लूत के दिनों में ऐसा क्या था? यहाँ उत्तर दिया गया है: “जिस रीति से सदोम और अमोरा और उन के आस पास के नगर, जो इन की नाईं व्यभिचारी हो गए थे और पराये शरीर के पीछे लग गए थे आग के अनन्त दण्ड में पड़ कर दृष्टान्त ठहरे हैं” (यहूदा 7)। “व्यभिचार” (विवाह के बाहर यौन संबंध) और समलैंगिकता सदोम के प्रमुख पाप थे।

5-खुशी के लिए सनक: “पर यह जान रख, कि अन्तिम दिनों में कठिन समय आएंगे। क्योंकि मनुष्य अपस्वार्थी, लोभी, डींगमार, अभिमानी, निन्दक, माता-पिता की आज्ञा टालने वाले, कृतघ्न, अपवित्र। दयारिहत, क्षमारिहत, दोष लगाने वाले, असंयमी, कठोर, भले के बैरी। विश्वासघाती, ढीठ, घमण्डी, और परमेश्वर के नहीं वरन सुखविलास ही के चाहने वाले होंगे” (2 तीमुथियुस 3: 1-4)।

6-बड़ा संकट और भय: यीशु ने चेतावनी दी, “और सूरज और चान्द और तारों में चिन्ह दिखाई देंगें, और पृथ्वी पर, देश देश के लोगों को संकट होगा; क्योंकि वे समुद्र के गरजने और लहरों के कोलाहल से घबरा जाएंगे। और भय के कारण और संसार पर आनेवाली घटनाओं की बाट देखते देखते लोगों के जी में जी न रहेगा क्योंकि आकाश की शक्तियां हिलाई जाएंगी” (लूका 21:25, 26)।

7-ज्ञान में वृद्धि: दानिय्येल की भविष्यद्वाणिय पुस्तक, “परन्तु हे दानिय्येल, तू इस पुस्तक पर मुहर कर के इन वचनों को अन्त समय तक के लिये बन्द रख। और बहुत लोग पूछ-पाछ और ढूंढ-ढांढ करेंगे, और इस से ज्ञान बढ़ भी जाएगा” ( दानिय्येल 12: 4)। हमारे आधुनिक युग में – दर्ज इतिहास में किसी भी अवधि से अधिक – ज्ञान पिछली पीढ़ियों से परे बढ़ गया है।

8-पर्यावरणीय संकट: परमेश्वर आखिरकार “और अन्यजातियों ने क्रोध किया, और तेरा प्रकोप आ पड़ा और वह समय आ पहुंचा है, कि मरे हुओं का न्याय किया जाए, और तेरे दास भविष्यद्वक्ताओं और पवित्र लोगों को और उन छोटे बड़ों को जो तेरे नाम से डरते हैं, बदला दिया जाए, और पृथ्वी के बिगाड़ने वाले नाश किए जाएं” (प्रकाशितवाक्य 11:18)। दूसरे शब्दों में, अंतिम दिनों से पहले, मानव जाति उस ग्रह को नष्ट कर रही होगी जिस पर हम रहते हैं (वनों की कटाई, ओजोन परत गायब हो रही है, और पृथ्वी को मानव निर्मित प्रदूषक… .इत्यादि।)

9-वैश्विक धार्मिक भ्रम: पौलूस ने भविष्यद्वाणी की, “समय” तब आएगा जब बहुमत “अपने कान सत्य से फेरकर कथा-कहानियों पर लगाएंगे” (2 तीमुथियुस 4: 4)। प्रकाशितवाक्य “बाबुल” नामक एक झूठी धार्मिक प्रणाली के उदय की भविष्यद्वाणी करता है, जिसका शाब्दिक अर्थ है, “गड़बड़ी।” लेकिन स्वर्ग के आखिरी दिनों के संदेश में कहा गया है, “फिर इस के बाद एक और दूसरा स्वर्गदूत यह कहता हुआ आया, कि गिर पड़ा, वह बड़ा बाबुल गिर पड़ा जिस ने अपने व्यभिचार की कोपमय मदिरा सारी जातियों को पिलाई है” (प्रकाशितवाक्य 14: 8)। यह रहस्यमय, अत्यधिक प्रतीकात्मक भविष्यद्वाणी बताती है कि “सभी देश” बाबुल की मदिरा के साथ नशे में हो जाएंगे। इस तरह की “मदिरा” दुनिया भर में भ्रामक धर्मों की झूठी शिक्षा है जो यीशु मसीह के सुसमाचार से दूर है।

10-सुसमाचार का वैश्विक प्रचार: “और राज्य का यह सुसमाचार सारे जगत में प्रचार किया जाएगा, कि सब जातियों पर गवाही हो, तब अन्त आ जाएगा” (मत्ती 24:14) । टेलीविज़न, इंटरनेट और सैटेलाइट नेटवर्क के माध्यम से, परमेश्वर के उद्धार का संदेश पृथ्वी को कवर करेगा।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment